--Advertisement--

अररिया में पटना के सिपाही की गोली मार कर हत्या, उपचुनाव में थी ड्यूटी

पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया। साथ ही घटनास्थल के पास घेराबंदी कर पुलिस की तैनाती की गई है।

Danik Bhaskar | Mar 13, 2018, 06:49 AM IST

फारबिसगंज (अररिया). परवाहा के संथाली टोला के वार्ड नंबर 06 में लोकसभा उपचुनाव में ड्यूटी को आए बिहार पुलिस के जवान 45 वर्षीय प्रेम सिंह की गोली मार कर हत्या कर दी गई। जवान सुपौल जिला बल में पदस्थापित था और पटना े के फुलवारी शरीफ थाना के धनुकी निवासी शशिभूषण प्रसाद का पुत्र बताया जाता है।

पुलिस ने घटनास्थल के पास से मृतक जवान का राइफल, 45 जिंदा कारतूस, एक खोखा आदि बरामद किया है। पुलिस ने संदेह के आधार पर दो महिलाओं समेत तीन को हिरासत में लिया है। घटना के बाद से मृतक जवान का साथी सुपल सोरेन मृतक की स्कूटी सहित फरार बताया जाता है। वह पूर्णिया के बनमनखी थाना के सुखासन का रहने वाला है। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।

पटना व भागलपुर से बुलाई गई एफएसएल टीम

पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया। साथ ही घटनास्थल के पास घेराबंदी कर पुलिस की तैनाती की गई है। पटना और भागलपुर से एफएसएल की टीम को बुलाया गया है। घटना की जानकारी मृतक के परिजनों के साथ सुपौल जिला प्रशासन को भी दे दी गई है। हिरासत में लिए गए विजय सोरेन सहित परिजनों से पूछताछ जारी है। विजय सोरेन और सुपल सोरेन आपस में रिश्तेदार बताए जाते हैं।

साथी जवान के रिश्तेदार के घर आया था प्रेम


डीएसपी मनोज कुमार ने बताया कि प्रेम सिंह अपनी स्कूटी से साथी जवान सुपल के साथ संथाली टोला के विजय सोरेन के घर आया था। हत्या का कारण साफ नहीं हो सका है। आसपास के लोग भी अपने-अपने घरों से गायब हैं। प्रेम सिंह चुनाव को लेकर अररिया आया था जहां से कमान काट उसे रानीगंज थाना भेजा गया। चुनाव के लिए जोगबनी में रिजर्व रखा गया था।

सबसे बड़ा सवाल : कहीं दोस्त ने तो नहीं कर दी हत्या?

जवान प्रेम सिंह की हत्या आखिर किसने और क्यों की। यह सवाल हर ग्रामीणों के मुंह से सुनाई दे रहा था। जानकारों के मुताबिक मृतक जवान का घर न तो परवाहा था और न ही उपचुनाव में उसकी ड्यूटी लगी थी। फिर वह परवाहा क्यों आया था। खास बात यह है अगर अपराधी हत्या करते तो उसकी राइफल भी लूट ले जाते। इसका मतलब लूट के इरादे से हत्या नहीं की गई। हत्या के बाद से मृतक का साथी गायब है। लोगों को शक है कि कहीं दोस्त ने ही हत्या तो नहीं कर दी?