--Advertisement--

दुकान के आगे लगा था ठेला, हटाने गए सिपाही को पहले डंडे से पीटा, फिर नोच दी वर्दी

बताया जा रहा कि नवादा थाना के चंदवा गांव निवासी होमगार्ड जवान निर्मल कुमार तिवारी ट्रैफिक पुलिस में कार्यरत हैं।

Danik Bhaskar | Dec 28, 2017, 06:02 AM IST
सदर अस्पताल में भर्ती गोपाली चौक पर पिटाई से घायल होमगार्ड जवान निर्मल कुमार तिवारी। सदर अस्पताल में भर्ती गोपाली चौक पर पिटाई से घायल होमगार्ड जवान निर्मल कुमार तिवारी।

अारा. टाउन थाना के गोपाली चौक के समीप बुधवार की दोपहर मिठाई दुकान के आगे ठेला लगाए जाने का विरोध करने पर ट्रैफिक ड्यूटी में तैनात एक होमगार्ड जवान की पिटाई कर दी गयी। जिसे इलाज के लिए सदर अस्पताल मेें भर्ती कराया गया है। इसे लेकर पिटाई से घायल होमगार्ड जवान ने संबंधित थाना में प्रसिद्ध मिठाई दुकान के मालिक समेत तीन हमलावरों पर नामजद एवं चार-पांच अज्ञात को भी आरोपी बनाया गया है। पिटाई से घायल होमगार्ड सिपाही निर्मल कुमार तिवारी (48 वर्ष) नवादा थाना के चंदवा गांव के परमहंस तिवारी का पुत्र बताया जाता है। पिटाई से उसके मुंह एवं नाक से खून आ रहा था। घटना दोपहर बारह बजे की है।

ठेला लगाए जाने से जाम था ट्रैफिक हटाने के लिए बोलने पर भिड़ंत


बताया जा रहा कि नवादा थाना के चंदवा गांव निवासी होमगार्ड जवान निर्मल कुमार तिवारी ट्रैफिक पुलिस में कार्यरत हैं। बुधवार को उनकी तैनाती गोपाली चौक पोस्ट पर थी। आरोप है कि गोपाली चौक पर प्रदीप स्वीट्स दुकान के आगे एक ठेला लगा हुआ था। जिससे ट्रैफिक जाम हो रहा था। यह देख ट्रैफिक एएसआई और सिपाही ने दुकानदार से ठेला हटाने के लिए कहा तो विवाद हो गया। दुकानदार ने भाइयों व समर्थकों के साथ मिलकर होमगॉर्ड जवान निर्मल कुमार तिवारी की पिटाई कर दी। इसे लेकर वहां भीड़ जमा हो गयी। बाद में सूचना मिलने पर क्रॉस माेबाइल के जवान वहां पहुंच गए।

दुकानदार ने नकारा सरकारी कार्य में बाधा डालने और हमले का आरोप

पिटाई से घायल सिपाही के बयान पर संबंधित थाना में प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है। जिसमें मिठाई दुकान के मालिक प्रदीप कुमार, मनोज कुमार व रमेश कुमार को नामजद एवं 5 अज्ञात को आरोपी बनाया गया है। दर्ज प्राथमिकी में वर्दी, नेम प्लेट से लेकर टोपी नोचने और बांस से पिटाई करने का आरोप लगाया गया है। दारोगा कुमार रविन्द्र ने बताया कि सरकारी कार्य में बाधा डालने व हमला किए जाने का मामला है। मामले की जांच-पड़ताल की जा रही है।
दूसरी ओर, दुकानदारों ने पुलिस पर झूठे मुकदमे में फंसाए जाने का आरोप लगाया है। कहा कि हमारी दुकान का सामान सड़क पर कभी नहीं लगाया जाता है।