--Advertisement--

अब कफन खरीदने के लिए प्रीपेड कार्ड से मिलेगा पैसा, पहले मिलता था कैश

इस योजना के माध्यम से कबीर अंत्येष्टि का पैसा सीधे लाभुक के खाते में चला जाएगा।

Danik Bhaskar | Jan 16, 2018, 04:03 AM IST

बक्सर. अब कैश के बदले प्रीपेड कार्ड से कबीर अंत्येष्टि का पैसा दिया जाएगा। इस व्यवस्था से पंचायत सचिव व अफसरों को मृतक के परिजनों को कैश भुगतान करने की झंझट से मुक्ति मिल जाएगी। इसके लिए सामाजिक सुरक्षा कोषांग की ओर से एक नई पहल की जा रही है। जिससे लाभुकों को ससमय पैसा मिल सकेगा। इतना ही नहीं राशि में हेराफेरी भी नहीं हो पाएगी।

इस योजना के माध्यम से कबीर अंत्येष्टि का पैसा सीधे लाभुक के खाते में चला जाएगा। जिला प्रशासन ने इसके धरातल पर उतारने के लिए काम कर रही है। प्रीपेड कार्ड निर्गत करने के लिए आईसीआईसीआई बैंक का चयन किया गया है। लाभ पाने के लिए पहले अधिकृत कर्मियों को एक प्रारूप को भरकर बैंक के प्रतिनिधि को उपलब्ध कराना पड़ेगा। जिसमें प्रखंड, पंचायत, पंचायत सचिव का नाम, मोबाइल नंबर, पता, आधार नंबर सहित अन्य महत्वपूर्ण जानकारी देनी होगी।

शहरी क्षेत्र में टैक्स दरोगा देंगे राशि

इस योजना के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में पंचायत सचिव एवं शहरी क्षेत्रों में टैक्स दारोगा के अलावे अन्य अधिकृत सरकारी कर्मी को उक्त बैंक की ओर से प्री पेड कार्ड उपलब्ध कराया जाएगा। जिससे वे लाभुकों के खाता आदि में डायरेक्ट ट्रांसफर कर सकेंगे। इस कार्ड को पाने के लिए पंचायत सचिव आदि को अपना केवाईसी देना होगा। इसके लिए उन्हें दो फोटो, आधार कार्ड की स्व अभिप्रमाणित छायाप्रति,पहचान पत्र के साथ आवेदन देना होगा। इसके बाद ही उन्हें प्री पेड कार्ड दी जाएगी। इसके पहले आईसीआईसीआई बैंक द्वारा पूरी प्रक्रिया को पूरा करने के बाद ग्रामीण क्षेत्र के पंचायत सचिव को बीडीओ की अनुशंसा पर प्रीपेड कार्ड दिया जाएगा। नगर परिषद के सक्षम पदाधिकारियों की अनुशंसा पर टैक्स दारोगा को दिया जाएगा।

समय पर मिल सकेगा लाभ


इस योजना के तहत गरीब असहाय मृतक के परिजनों को करीब तीन हजार रुपये कफन व अन्य सामान खरीदने के लिए दिया जाता है। इसे देने में पंचायत सचिव को बैंक की पूरी प्रक्रिया को पूरा करना पड़ता था। जिसमें काफी समय लगता था। इससे लाभुक को समय पर पैसा नहीं मिल पाने से योजना का उद्देश्य समय पर पूरा नहीं हो पा रहा था। इतना ही नहीं कई बार राशि भुगतान करने में कई तरह की गोलमाल करने की तथाकथित शिकायतें आते रहती थी। किंतु इस व्यवस्था के लागू हो जाने के बाद जहां लाभुकों को ससमय पैसा मिल जाएगा। वहीं कर्मियों को राशि देने में भी सुविधा होगी।