--Advertisement--

फरार कैदी अरेस्ट, कहा- जेल में पतले कंबल से लगती थी ठंड तो भाग गया

रेलवे कोर्ट की सीढ़ी पर पुलिस को चकमा देकर भागे बंदी राजकुमार मंडल ने एक माह पहले ही प्लान बना लिया था।

Dainik Bhaskar

Jan 08, 2018, 07:21 AM IST
Prisoner arrest who Escaped From Police custody

भागलपुर. रेलवे कोर्ट की सीढ़ी से शनिवार को पेशी से पहले सेंट्रल जेल का भागा बंदी राजकुमार मंडल पकड़ा गया। रेल पुलिस ने घोघा पुलिस की मदद से राजकुमार के घोघा थानातंर्गत कोदवार गांव से सोये अवस्था में अलसुबह गिरफ्तार किया। कोदवार स्थित गांव से जिस समय फरार बंदी राजकुमार की गिरफ्तारी हुई, उस समय वह कंबल ओढ़कर सो रहा था।

कड़ाके की ठंड में अचानक धमकी पुलिस के सामने उसकी एक न चली और उसे उसी समय पुलिस ने उठा लिया फिर घोघा थाने लाई। घोघा थाने में पुलिस की पूछताछ में उसने कहा कि अक्टूबर से वह जेल में बंद है। जेल में जमीन पर पतला कंबल ओढ़ने से उसे ठंड लगती थी। उसे मां-पिता की याद आती थी, इसलिए वह भाग गया। राजकुमार शनिवार को कैदी वाहन से कोर्ट हाजत जाते समय सीढ़ी पर हाथ में सरसों तेल लगाया, फिर हथकड़ी सरकाया। इसके बाद सीढ़ी पर पेशी भुगतकर उतर रहे बेटिकट यात्रियों की भीड़ का फायदा उठाकर उनकी झुंड में शामिल होकर भाग गया था। बंदी के भागने का पता उसकी पेशी से पहले हाजत में बंदियों की गिनती में हुआ।

सेंट्रल जेल के कैदी वार्ड संख्या 405-1 में रहता था चोरी का आरोपी राजकुमार


रेलवे कोर्ट की सीढ़ी पर पुलिस को चकमा देकर भागे बंदी राजकुमार मंडल ने एक माह पहले ही प्लान बना लिया था। उसने हथकड़ी की पकड़ को काफी पहले अाजमा लिया था, लेकिन उसे मौका नहीं मिला। शनिवार को रेलवे कोर्ट की सीढ़ी चढ़ते समय उसने भीड़ का फायदा उठाते हुए सरसो तेल लगा हथकड़ी सरकाई और भाग निकला। यह बात उसके साथ जेल में बंद एक बंदी ने बताई। राजकुमार ने सहबंदियों से कहा था कि एक दिन वह पुलिस के सामने से निकल जाएगा और पुलिस देखती रह जाएगी।

सेंट्रल जेल के कैदी वार्ड संख्या 405-1 में चोरी के आरोप में बंद राजकुमार की यह बात जब सहबंदियों से कहा था, तब उसे सहबंदियों ने मजाक में ले लिया था। सहबंदी लंगड़ा के मुताबिक जब भी उसे पेशी पर कोर्ट लाया जाता था, उस दिन वह हाथ पर तेल जरूर लगाता था। उसे जब कोई टोकता था, तब वह स्टाइल बताकर अनसुना कर देता था। उसे यह पता था कि जेल से लाए जाने पर आगे-पीछे पुलिस रहती है। इसलिए वह हमेशा बीच में रहता था। कैदी वार्ड में उसके कपड़े व बर्तन आदि सुरक्षित है।

गांव में प्रेमिका से मिलकर घर में ही छुपकर सोया हुआ था


उधर, छापेमारी टीम के एक अधिकारी ने बताया कि राजकुमार कोर्ट से भागने के बाद गांव में वह अपनी प्रेमिका से मिलने गया था। प्रेमिका के घर से रात एक बजे वह अपने घर पर आया और छिपकर पुआल पर कंबल तानकर सोया था। दोपहर उसे जीआरपी थाने लाया गया।

X
Prisoner arrest who Escaped From Police custody
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..