--Advertisement--

एनसीआर की तरह ही ग्रेटर पटना का रास्ता साफ, चारों तरफ बनेगा फोरलेन रिंग रोड

केंद्र सरकार की मंजूरी मिलते ही रिंगरोड ही नहीं, एक तरह से एससीआर को मंजूरी मिल गई।

Danik Bhaskar | Jan 30, 2018, 04:35 AM IST

पटना. ग्रेटर पटना का रास्ता साफ हो गया है। इसके चारों तरफ फोरलेन रिंग रोड बनेगा। पटना रिंग रोड के एलाइन्मेंट को केंद्र सरकार ने मंजूरी दे दी है। राज्य सरकार इसके लिए जमीन अधिग्रहण करके देगी और केंद्र इसका निर्माण कराएगा।


राजधानी में अनीसाबाद से फुलवारीशरीफ होते हुए पटना एम्स तक नए एलिवेटेड रोड का निर्माण किया जाएगा। राज्य सरकार के इस प्रस्ताव को गडकरी ने तत्काल मंजूरी दे दी। केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ लगभग 6 घंटे तक चली बैठक के बाद संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में यह एेलान किया। इंडो-नेपाल बाॅर्डर पर 552 किलोमीटर सड़क को भारत माला प्रोजेक्ट के तहत अब केन्द्र सरकार बनाएगी। इसके लिए एनएचएआई को डीपीआर बनाने को कहा जा रहा है। भारत माला प्रोजेक्ट के तहत औरंगाबाद से जयनगर तक राजमार्ग बनाने का काम शीघ्र शुरू होगा।

स्टेट कैपिटल रीजन की पड़ी बुनियाद

दिल्ली के लिए जितना महत्वपूर्ण एनसीआर यानी नेशनल कैपिटल रीजन का है, पटना के लिए स्टेट कैपिटल रीजन भी उतना ही महत्वपूर्ण होगा। इस एससीआर की बुनियाद फोरलेन रिंग रोड से ही पड़ेगी। राज्य सरकार की ओर से तैयार एलाइनमेंट को केंद्र सरकार की मंजूरी मिलते ही रिंगरोड ही नहीं, एक तरह से एससीआर को मंजूरी मिल गई। यह पटना की सूरत बदल देगा।

नीतीश बोले- गंगा की अविरलता के लिए गाद से निजात पाना जरूरी

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गंगा की अविरलता और निर्मलता कायम करने के लिए गाद की समस्या दूर करने की आवश्यकता जताई है। सोमवार को केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के साथ बैठक में नीतीश ने कहा कि अब केंद्र इतने बड़े प्रोजेक्ट पर काम कर रही है तो इसका इकोलॉजी और इनवायरमेंट का साइंटिफिक अध्ययन भी कराना आवश्यक है। गंगा में सिल्ट की गंभीर समस्या हो गई है। फरक्का बराज की उपयोगिता और बराज के स्ट्रक्चर का आकलन होना चाहिए। गंगा की अविरलता के बिना निर्मलता संभव नहीं है। सिल्ट डिपॉजिट से कटाव बढ़ गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इन कामों को लेकर भूमि अधिग्रहण या अन्य जो समस्याएं हैं, जहां-जहां काम शुरू होने में गतिरोध था, अब वहां काम तेजी से होगा। बैठक में पथ निर्माण विभाग के प्रधान सचिव अमृत लाल मीणा ने बिहार के एनएच और भारतीय अंतर्देशीय जलमार्ग प्राधिकरण के उपाध्यक्ष प्रवीर पाण्डेय ने जल मार्ग विकास परियोजना के तहत बिहार की इन-लैंड वाटर वे का प्रेजेंटेशन दिया। एनएचएआई से एनएच पर एम्बुलेंस और क्रेन की तैनाती के लिए एमओयू हस्ताक्षर हुआ।

गंगा रिवर फ्रंट के दूसरे फेज को मंजूरी

केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि गंगा रिवर फ्रंट परियोजना के दूसरे फेज को मंजूरी दे दी गई है। पटना सिटी के नौजर घाट से नूरपुर घाट के बीच स्थित 27 घाटों का सौंदर्यीकरण किया जाएगा। छह किलोमीटर लंबी इस योजना पर 218 करोड़ की लागत आएगी। इस योजना के तहत घाटों का सौंदर्यीकरण, वृक्षारोपण, लैंड स्केपिंग, आंतरिक वाटर चैनल पर पुलिया का निर्माण, फूड कियोस्क, चेंजिंग रूप, शौचालय, खेल के मैदान और स्लुइस गेट का निर्माण शामिल है। मंत्री ने कहा कि बिहार में नमामि गंगे के तहत 20 परियोजनाओं पर काम चल रहा है। इन परियोजनाओं की क्षमता 535 एमएलडी सीवरेज का ट्रीटमेंट किया जाएगा। इसके साथ 1681 किलोमीटर का सीवरेज नेटवर्क तैयार किया जाएगा। इन योजनाओं पर कुल 4166 करोड़ की लागत आएगी। जिन योजनाओं का काम शुरू हो चुका है, उसमें पटना की पांच, बक्सर, मुंगेर, बेगूसराय और हाजीपुर की एक-एक योजनाएं हैं। बाकी योजनाएं टेंडर की प्रक्रिया में हैं।

गंगा पर अब नहीं बनेंगे बराज

गडकरी ने कहा कि गंगा में कहीं पर भी बराज का निर्माण नहीं होगा। हल्दिया से वाराणसी तक गंगा में पर्याप्त पानी है। हम यहां पर फेरी सेवा शुरू करने पर विचार कर रहे हैं। समस्या वाराणसी से इलाहाबाद के बीच है। जहां पानी कम है।

रिंग रोड यानी तिगुना पटना

पटना शहर के आगामी 25 वर्षों के संभावित विस्तार को देखते हुए पटना रिंग रोड का एलाइनमेंट बनाया गया है। वैशाली जिले के हाजीपुर से सारण के सोनपुर और पटना जिले के बिहटा से कच्ची दरगाह तक ग्रेटर पटना का विस्तार हो जाएगा।

प्रोजेक्ट- 1

पटना रिंग रोड

पटना शहर के चारो तरफ रिंग रोड का निर्माण होगा। इससे ग्रेटर पटना बनेगा। दिल्ली एनसीआर की तर्ज पर पटना एससीआर का निर्माण होगा। उत्तर में सोनपुर-हाजीपुर व दक्षिण में बिहटा-नौबतपुर रिंग में आएंगे।
फायदा इस रोड के िनर्माण से पटना, सारण और वैशाली जिले की सूरत बदल जाएगी।

प्रोजेक्ट- 2

जेपी सेतु के सामानांतर नया पुल

पटना रिंग रोड प्रोजेक्ट के तहत ही जेपी सेतु के सामानांतर एक नए पुल का निर्माण होगा। इससे जेपी सेतु फोर लेन हो जाएगा।
फायदा पश्चिमी पटना में रहने वाली करीब 5 लाख की आबादी के साथ ही सारण और वैशाली जिले के लोगों को गंगा आर-पार करने में काफी सहूलियत होगी।

प्रोजेक्ट- 3

गांधी सेतु के समानांतर फोरलेन

3300 करोड़ की लागत से इस नए सेतु का निर्माण इसी वर्ष शुरू होगा। इसका पहंुच पथ आठ लेन का बनेगा।
फायदा साउथ बिहार से नार्थ बिहार जाना अब पहले से आसान होगा। यह लाइफलाइन की तरह काम करेगा। अभी पटना में प्रवेश करने के लिए गांधी सेतु पर काफी दबाव है।

प्रोजेक्ट- 4

एम्स-अनीसाबाद एलिवेटेड

सड़क किनारे आबादी और घना बाजार होने के कारण 6 किमी जाने में घंटे से भी ज्यादा समय लग जाते हैं।
फायदा एम्स-अनिसाबाद एलिवेटेड रोड बनने के बाद एम्स जाने वाले मरीजों के साथ ही नौबतपुर और बिहटा जाने वालों का समय बचेगा। जाम से बचेंगे।

प्रोजेक्ट- 5

सुपर हाईवे

पटना-बक्सर-बनारस-दिल्ली सुपर हाईवे के बन जाने से इलहाबाद, कानपुर, दिल्ली सीधे राजधानी पटना से जुड़ेंगे।
फायदा सुपर हाईवे निर्माण के बाद पटना से दिल्ली का यह सबसे छोटा सड़क मार्ग होगा। अभी मोहनिया या गोपालगंज होते हुए लंबी दूरी तय करनी होती है।

प्रोजेक्ट- 6

दीघा-मनेर एलिवेटेड

रिंग रोड के तहत दीघा मनेर एलिवेटेड रोड का निर्माण होगा। गंगा के किनारे-किनारे दीघा से मनेर तक का यह जाममुक्त नया मार्ग होगा।
फायदा लोकनायक गंगा एक्सप्रेस-वे का मनेर तक एक्सटेंशन हो जाने से पूर्वी पटना के कच्ची दरगाह से पश्चिमी पटना के मनेर तक जाना आसान होगा। शहर के अंदर नहीं आना पड़ेगा।

दीघा सेतु के समानांतर नया पुल

गंगा पर दीघा सेतु के समानांतर एक नया पुल बनाने और गंगा पथ का दीघा से मनेर तक विस्तार करने पर भी सहमति बन गई है। साथ ही पटना से बक्सर, वाराणसी होते हुए दिल्ली तक सुपर हाईवे बनेगा। इसके लिए बक्सर से वाराणसी के बीच फोर लेन हाईवे बनाया जाएगा। वहीं भागलपुर में बिक्रमशिला पुल के समानांतर और पटना में महात्मा गांधी सेतु के समानांतर गंगा नदी पर 3300 करोड़ की लागत से पुल बनेगा। इसका पहुंच पथ आठ लेन का होगा। केन्द्र ने बिहार सरकार के इन महत्वपूर्ण प्रस्तावों पर सहमति जता दी है। गडकरी ने कहा कि आरा-मोहनियां राजमार्ग को अब एनएचएआई बनाएगा।

पीएम पैकेज पर तेजी से काम

गडकरी ने कहा कि 55 हजार करोड़ वाले पीएम पैकेज का काम तेजी से चल रहा है। 36 हजार करोड़ का काम शुरू हो चुका है। आठ हजार करोड़ का टेंडर हो चुका है। बची योजनाओं का डीपीआर तैयार हो रहा है। जमीन अधिग्रहण संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए राज्य के पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव और मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह को नियमित मॉनिटरिंग करने की जिम्मेदारी दी गई है। रक्सौल-मोतिहारी के बीच की सड़क की स्थिति में सुधार के लिए 60 करोड़ रुपए दिए गए हैं। नए सिरे से निर्माण का टेंडर भी किया जाएगा। उम्मीद जताई कि बालू-गिट्टी-मिट्टी की समस्या का जल्द निपटारा हो जाएगा।

गंगा में शुरू होगी सी-प्लेन की सेवा

राजधानीवासी जल्द ही सी-प्लेन की सवारी कर सकेंगे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के गंगा में सी-प्लेन सेवा शुरू करने के प्रस्ताव पर सहमति जता दी।

पटना रिंग रोड का एलाइनमेंट मंजूर, गंगा पथ का दीघा से मनेर तक विस्तार

- महात्मा गांधी सेतु का एक लेन इसी साल शुरू होगा। जापान, चीन से आएगा स्टील।
- सभी एनएच पर हर 50 किमी पर रहेगा एंबुलेंस और क्रेन।
- आरा-मोहनियां एनएच एनएचएआई बनाएगा।
- 218 करोड़ के गंगा रिवर फ्रंट के दूसरे फेज को मंजूरी।
- गंगा पर अब नहीं बनेंगे नए बराज।
- हल्दिया से वाराणसी के बीच फेरी सेवा शुरू करने पर विचार।
- गंगा पर फरक्का बराज के असर को आंकने के लिए विशेषज्ञों की नई कमेटी।