--Advertisement--

रिटायर होने से दो दिन पहले रेलकर्मी की हत्या, शव को क्वार्टर स्थित नाले में फेंका

कुछ महीना पहले मृतक ने नारगंजो में एक जमीन के लिए अखिलेश्वर यादव नामक व्यक्ति को चार लाख रुपए दिए थे।

Danik Bhaskar | Jan 30, 2018, 07:07 AM IST

झाझा. यहां के रेलवे स्टेशन स्थित रेलवे टेलीकॉम में एमसीएम पद पर कार्यरत कर्मी दासो टुड्डू की रविवार को गला रेत कर हत्या कर दी गई। घटना को अंजाम देने के बाद हत्यारों ने मृतक के शव को स्टेशन से सटे उनके क्वार्टर के पास स्थित नाले में फेंक दिया। सुबह मृतक की बहू शांति मुर्मू क्वार्टर के बाहर झाड़ू देने निकली तो खून बिखरा देख नाले की तरफ गई, जहां उसे खून से लथपथ उसके ससुर का शव मिला। जिसे देख शांति ने आस-पड़ोस के लोगों को इसकी सूचना दी।

पड़ोसियों द्वारा मृतक के पुत्र विनोद टुड्डू को फिर जानकारी दी गई। दासो टुड्डू झाझा थानाक्षेत्र अंतर्गत नारगंजो के भदोरिया गांव का रहने वाला था। दासो 31 जनवरी को रिटायर्ड होने वाला था। उनके सहयोगियों द्वारा विदाई समारोह की तैयारी चल रही थी। दासो की मौत की खबर से रेलकर्मियों में मातमी सन्नाटा पसर गया।

जमीन के लिए दिए थे 4 लाख, विक्रेता से वापस मांग रहे थे पैसे


मृतक के पुत्र विनोद ने बताया कि कुछ महीना पहले उसके पिता ने नारगंजो में एक जमीन के लिए अखिलेश्वर यादव नामक व्यक्ति को चार लाख रुपए दिए थे। जमीन की कीमत साढ़े चार लाख थी, जिसे लेकर अखिलेश्वर यादव को चार लाख रुपए दे दिए गए थे और 50 हजार रुपया जमीन की रजिस्ट्री के बाद देने की बात थी। इसी बीच दासो को पता चला की जिस जमीन को वो खरीद रहे हैं, उस जमीन पर केस चल रहा है। इसके बाद वे अखिलेश्वर यादव से जमीन नहीं लेने और पैसे वापस करने की मांग कर रहे थे।

खलिहान में सोया था पुत्र घर में थे बहू-पोता व दासो


घटना के दिन रेलकर्मी दासो टुड्डू अपनी बहू शांति मुर्मू और पोता निलेश टुड्डू के साथ रेलवे क्वार्टर में था। पुत्र विनोद खलिहान में सोया था। इसी बीच रात में दासो टुड्डू क्वार्टर से बाहर कब निकला इसकी किसी को जानकारी नहीं है। सुबह हत्या की सूचना के बाद खलिहान से क्वार्टर पर आया पुत्र विनोद अपने पिता की निर्मम हत्या से आहत था। उसे यकीन नहीं हो रहा था कि उसके पिता की हत्या कर दी गई है।

रेल पुलिस कर रही मामले की छानबीन


रेल पुलिस को मृतक की बहू ने बताया कि सोमवार की अहले सुबह आवास के बाहर सफाई के दौरान उसकी नजर शव पर पड़ी। घटनास्थल रेलवे सीमा क्षेत्र मे आने के कारण रेल राजकीय पुलिस को घटना की जानकारी दी गई। सूचना के बाद रेल थाना इंस्पेक्टर अरबिंद कुमार दल-बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचकर शव को अपने कब्जे मे लेते हुए परिजनों से पूछताछ की प्रक्रिया शुरू कर दी।

जांच कर खोजेंगे हत्या का कारण
झाझा रेल थाना के इंस्पेक्टर अरविंद कुमार ने बताया कि परिजनों द्वारा जो बयान दिया गया है, उस आधार पर मामले की छानबीन शुरू कर दी गई है। हत्या के कारण का अब तक खुलासा नहीं हो सका है। जांच के बाद जल्द ही हत्या के कारणों का पता चल जाएगा और मामले का खुलासा होगा।