Hindi News »Bihar News »Patna News» Sattu Reached Australia And Canada From Bihar

बिहार से ऑस्ट्रेलिया और कनाडा पहुंचा जांता-चक्की सत्तू, अमेजन पर भी उपलब्ध

पंकज कुमार सिंह | Last Modified - Feb 12, 2018, 10:41 AM IST

अमेजन पर भी इसे उपलब्ध कराया गया है। बिहारियों की पहचान बन चुका सत्तू विदेशों में भी धूम मचा रहा है।
  • बिहार से ऑस्ट्रेलिया और कनाडा पहुंचा जांता-चक्की सत्तू, अमेजन पर भी उपलब्ध
    +3और स्लाइड देखें
    भागलपुर, नालंदा सहित आधा दर्जन जिलों की 5 हजार से अधिक महिलाओं द्वारा तैयार जांता सत्तू मुंबई, बेंगलुरू सहित आॅस्ट्रेलिया से कनाडा तक महंगी कीमत पर बिक रही है।

    पटना.नालंदा हरनौत शेरपुर की सुनीता देवी, विनिता देवी के साथ बांका की लच्छो मुर्मू, अरवल की परवीना खातून जैसी महिलाओं को दो जून रोटी की चिंता सताती रहती थी। आज जांता चक्की ने न केवल उनकी भूख मिटायी, बल्कि इनकी जैसी 5 हजार से अधिक महिलाओं की गृहस्थी को उन्नति के रास्ते पर ला दिया है। इनके बच्चे स्कूल जाने लगे हैं। पति को भी कुछ पैसे देकर छोटे-मोटे रोजगार के लिए प्रेरित कर रही हैं।

    विदेशों में महंगी कीमत पर बिक रही सत्तू

    - भागलपुर, नालंदा सहित आधा दर्जन जिलों की 5 हजार से अधिक महिलाओं द्वारा तैयार जांता सत्तू मुंबई, बेंगलुरू सहित आॅस्ट्रेलिया से कनाडा तक महंगी कीमत पर बिक रही है।

    - अमेजन पर भी इसे उपलब्ध कराया गया है। बिहारियों की पहचान बन चुका सत्तू विदेशों में भी धूम मचा रहा है। क्षितिज एग्रोटेक के सुनील कुमार ने महिलाओं को संगठित कर ग्रुप से जोड़ा।

    - महिलाओं को सत्तू पिसाई के लिए 30 रुपए प्रति किलो मेहनताना मिलता है। इससे एक महिला प्रतिमाह 9 से 15 हजार रुपए तक कमा लेती है। इसकी शुरुआत नालंदा में 150 महिलाओं ने की थी।

    - आज भागलपुर, जमुई, बांका, किशनगंज, अरवल की महिलाएं भी इससे जुड़ चुकी हैं। कृषि उत्पादक संगठन (एफपीओ) के माध्यम से किसानों के खेतों में उगाया चना खरीद कर महिलाओं को उपलब्ध कराया जाता है।

    16 हजार से अधिक किसानों को 18 अलग-अलग एफपीओ से जोड़ा


    - नालंदा, भागलपुर, अरवल, किशनगंज सहित कई जिलों के 16 हजार से अधिक किसानों को संगठित कर सुनील कुमार ने इन्हें 18 अलग-अलग एफपीओ से जोड़ा।

    - कंपनी एक्ट 2013 के तहत एफपीओ का रजिस्ट्रेशन कराया। कृषक उत्पादन संगठन में सब्जी उत्पादक के साथ ही अनाज उत्पादन, बीज उत्पादन के साथ मधुमक्खी पालन, बकरीपालकों के समूह हैं।

    - सब्जी उत्पादक किसानों से सीधे सब्जी लेकर बड़े बाजारों में उपलब्ध कराया जाता है। उत्पादन के हिसाब से सभी किसानों को लाभ मिलता है। केंद्र सरकार ने एफपीओ कर टैक्स में छूट देने की घोषणा की है।

    - केंद्र व राज्य सरकार की विभिन्न कृषि और पशुपालन संबंधी योजनाओं का भी लाभ एफपीओ से जुड़े किसानों को लाभ मिलेगा।

  • बिहार से ऑस्ट्रेलिया और कनाडा पहुंचा जांता-चक्की सत्तू, अमेजन पर भी उपलब्ध
    +3और स्लाइड देखें
    महिलाओं को सत्तू पिसाई के लिए 30 रुपए प्रति किलो मेहनताना मिलता है। इससे एक महिला प्रतिमाह 9 से 15 हजार रुपए तक कमा लेती है।
  • बिहार से ऑस्ट्रेलिया और कनाडा पहुंचा जांता-चक्की सत्तू, अमेजन पर भी उपलब्ध
    +3और स्लाइड देखें
    इससे एक महिला प्रतिमाह 9 से 15 हजार रुपए तक कमा लेती है। इसकी शुरुआत नालंदा में 150 महिलाओं ने की थी।
  • बिहार से ऑस्ट्रेलिया और कनाडा पहुंचा जांता-चक्की सत्तू, अमेजन पर भी उपलब्ध
    +3और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Patna News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Sattu Reached Australia And Canada From Bihar
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      More From Patna

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×