--Advertisement--

7 साल की मासूम बच्ची के साथ रेप, फिर धारदार हथियार से गला रेतकर हत्या

मृत बच्ची दो भाइयों के बीच इकलौती बहन थी। बच्ची गांव के ही उर्दू प्राइमरी स्कूल में दूसरी क्लास में पढ़ती थी।

Danik Bhaskar | Dec 23, 2017, 04:19 AM IST
पुलिस की गाड़ी में मृत बच्ची की डेडबॉडी। पुलिस की गाड़ी में मृत बच्ची की डेडबॉडी।

आरा. यहां एक सात साल की मासूम से रेप के बाद उसकी दर्दनाक हत्या कर दी गई। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी ने बच्ची की डेडबॉडी को खेत में छिपा दी थी। बताया जा रहा है कि बच्ची घर से शाम 5 बजे बाहर निकली थी। तीन घंटे तक न लौटने के बाद खोजबीन की गई तो घर के पास ही खेत में उसकी डेडबॉडी मिली।

धारदार हथियार से गला रेतकर की हत्या

शुक्रवार की सुबह आरा में बच्ची की डेडबॉडी का पोस्टमॉर्टम कराया गया। बच्ची के प्राइवेट पार्ट के पास सूजन है। मृतका के पिता ने अज्ञात पर केस दर्ज कराया है। इधर, एसपी अवकाश कुमार ने मौके पर पहुंच मामले की जांच की। उन्होंने बताया कि जांच के लिए पटना एफएसएल टीम को बुलाया गया है। पुलिस ने बताया कि जब बच्ची की डेडबॉडी बरामद की गई तो उसके बॉडी पर सिर्फ फ्रॉक था। पैंट फेंका पड़ा हुआ था। गर्दन पर गहरे जख्म के निशान थे। धारदार हथियार से गर्दन रेत उसकी हत्या की आशंका है।

दो भाईयों के बीच इकलौती थी बहन

मृतक बच्ची दो भाइयों के बीच इकलौती बहन थी। बच्ची गांव के ही उर्दू प्राइमरी स्कूल में दूसरी क्लास में पढ़ती थी। गुरुवार की शाम वो घर से बाहर निकली थी, जिसके बाद अचानक गायब हो गयी। इधर-उधर काफी खोजा गया। लेकिन, उसका पता नहीं चल सका। रात में खेत से डेडबॉडी मिली।

मेडिकल जांच के लिए महिला डॉक्टर के नहीं आने पर हंगामा

इधर, हॉस्पिटल में डॉक्टर कुमार जितेन्द्र ने बच्ची की डेडबॉडी का पोस्टमॉर्टम किया। इस दौरान मेडिकल जांच के लिए लेडी डॉक्टर के नहीं आने पर गांववालों ने हंगामा मचाया। बाद में इसकी सूचना सिविल सर्जन को दी गयी। रेप के बाद हत्या की इस वारदात की जांच की जिम्मेदारी आरा महिला थाना की थानाध्यक्ष पूनम कुमारी को दी गई है। पोस्टमॉर्टम के दौरान महिला थानाध्यक्ष भी सदर अस्पताल में मौजूद थीं।

मृत बच्ची की फाइल फोटो। मृत बच्ची की फाइल फोटो।
जानकारी देती पुलिस अफसर। जानकारी देती पुलिस अफसर।
रोते बिलखते बच्ची के परिजन। रोते बिलखते बच्ची के परिजन।
रोते बिलखते बच्ची के परिजन। रोते बिलखते बच्ची के परिजन।
पुलिस थाने के बाहर जुटी भीड़। पुलिस थाने के बाहर जुटी भीड़।