Hindi News »Bihar »Patna» Soldier Killed By Avalanche In Anantnag

हिमस्खलन में जवान की मौत, बेटों ने कहा- पहले दादा और अब पिता की शहादत पर गर्व

शहीद केे पिता स्व. द्वारिका यादव ने भी देश की सेवा में ही प्राण न्योछावर किया था।

Bhaskar News | Last Modified - Feb 03, 2018, 08:02 AM IST

  • हिमस्खलन में जवान की मौत, बेटों ने कहा- पहले दादा और अब पिता की शहादत पर गर्व
    +1और स्लाइड देखें
    शहीद दीपक की फाइल फोटो।

    बक्सर.देश सेवा से गौरवान्वित करने वाले बक्सर जिले का एक और सेना का जवान ड्यूटी करते हुए शहीद हो गया। इंडस्ट्रियल थाना क्षेत्र के मझरियां गांव के छिड़का टोला निवासी 48 वर्षीय सेना के जवान दीपक यादव का परिवार गांव में रहता है। दीपक यादव 1 फरवरी को श्रीनगर बॉर्डर के अनंतनाग जिले में खंडवाल सेक्टर में 99 आरटीसी बटालियन में पोस्टेड थे। गश्त के दौरान शहीद हो गए।

    सीमा पर तैनात जवान जब गुरुवार की सुबह करीब 10 बजे अपने साथी जवानों के साथ पैट्रोलिंग कर रहा था इसी दौरान हिमस्खलन से वीरगति को प्राप्त हुए। हंसमुख और मिलनसार दीपक यादव के शहीद होने की खबर बीएसएफ के अधिकारी ने दीपक के भाई प्रेम यादव को फोन पर दी। मुखिया धर्मेंद्र सिंह ने कहा कि देशसेवा में खुद बुझकर दीपक ने गांव का नाम रोशन किया है।

    अब बेटे करेंगे देश की सेवा


    शहीद केे पिता स्व. द्वारिका यादव ने भी देश की सेवा में ही प्राण न्योछावर किया था। जिसके बाद पिता की जगह अनुकंपा पर नौकरी लगी थी। दीपक के दो बेटे चुन्नू यादव व बजरंगी यादव हैं। बेटों ने कहा कि पिता की शहादत पर मुझे गर्व है और मैं भी देश सेवा करूंगा।

    आज आएगा पार्थिव शरीर


    शहीद का पार्थिव शरीर सेना के विशेष विमान से शनिवार की दोपहर लाया जाएगा। श्रीनगर के सैन्य अधिकारियों ने परिजनों को बताया कि शनिवार को विमान से दीपक का पार्थिव शरीर पटना भेजा जाएगा। वहां से पैतृक गांव के लिए मिलिट्री वाहन रवाना होगा।

    बुधवार को अंतिम बार बात हुई परिवार वालों की


    शहीद जवान दीपक यादव बीते नवंबर माह में गांव आये थे। बक्सर में अपने सपनों का आशियाना बनवाने के लिए एक माह की छुट्टी ली थी। 6 दिसंबर को वापस श्रीनगर लौटे थे। उनके भाई प्रेम यादव ने बताया कि बुधवार की रात 9 बजे के करीब उनकी बात फोन से हुई थी। तब दीपक ने ठीक से बात किया था। बताया था कि कोई परेशानी नहीं है। अचानक ऐसा फोन आया कि स्तब्ध हूं।

    बेसुध है शहीद की पत्नी


    देश सेवा के लिए पहले पति और अब बेटे को खोने के गम में शहीद की मां लाखो देवी बेसुध पड़ी हैं। बेटे की शहादत की खबर मिलने के बाद से ही उन्होंने किसी से बात तक नहीं की है। वहीं शहीद की पत्नी पंचरत्नी देवी बार-बार बेहोश हो जा रही थी।

  • हिमस्खलन में जवान की मौत, बेटों ने कहा- पहले दादा और अब पिता की शहादत पर गर्व
    +1और स्लाइड देखें
    पिता की शहादत पर रोते-बिलखते उनके दोनों बेटे।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×