Hindi News »Bihar News »Patna News» Son Walking Around Hospital With Sick Mother On Shoulder

बीमार मां को कंधे पर ले घूमता रहा बेटा, इसलिए नहीं खेला इमरजेंसी वार्ड का गेट

Bhaskar News | Last Modified - Dec 03, 2017, 08:38 AM IST

गेट बंद रहने के चलते गाड़ी से आई एक बीमार मां को उसका बेटा कंधे पर लेकर इमरजेंसी वार्ड तक गया।
  • बीमार मां को कंधे पर ले घूमता रहा बेटा, इसलिए नहीं खेला इमरजेंसी वार्ड का गेट
    +2और स्लाइड देखें
    बीमार मां को कंधे पर उठाए हुए उसका बेटा।

    आरा (बिहार).सदर हॉस्पिटल, आरा में शनिवार को गेट बंद रहने के चलते गाड़ी से आई एक बीमार मां को उसका बेटा कंधे पर लेकर इमरजेंसी वार्ड तक गया। बेटा बार-बार ड्यूटी पर तैनात सिक्युरिटी गार्ड से गेट खोलने के लिए कहता रहा। लेकिन, गार्ड ने गेट नहीं खोला। आखिरकार बीमार मां को अपने बेटे के कंधे का सहारा लेना पड़ा।

    तबीयत खराब होने के चलते नहीं चल पा रही थी महिला

    मामला दोपहर बाद करीब दो बजे का है। बताया जा रहा कि मरीज रामरातो देवी की तबीयत बहुत अधिक खराब हो गयी थी। वह पैदल चलने में असमर्थ थी। फैमिली गांव से बोलेरो गाड़ी रिजर्व कर उसे इलाज के लिए लेकर सदर हॉस्पिटल अारा ला रहे थे। इस दौरान हॉस्पिटल रोड जाम हो गया था। इससे मरीज की फैमिली गाड़ी लेकर हॉस्पिटल के पिछले गेट पर पहुंचे जहां से इमरजेंसी वार्ड का रास्ता है। यहां पिछला गेट बंद था, जिसके बाद मरीज की फैमिली गार्ड को गेट खोलने के लिए बोलते रहे। लेकिन, उसने गेट नहीं खोला। फिर बुजुर्ग महिला के बेटे विन्देशरी शर्मा उन्हें अपने कंधे पर उठाया और दोबारा घूमते हुए सामने की तरफ से इमरजेंसी वार्ड तक गया।

    पहले भी हुई है गार्ड से लेकर वार्ड-ब्वॉय तक की लापरवाही

    हॉस्पिटल में ड्यूटी में कार्यरत गार्ड से लेकर वार्डों में कार्यरत वार्ड ब्वॉय की लापरवाही समय-समय पर सामने आती रही है। पिछले महीनों इमरजेंसी में बेड खाली नहीं रहने एवं बीमार मरीज को इमरजेंसी से दूसरे मेडिकल वार्ड में शिफ्ट नहीं करने के कारण फैमिली को पेड़ में बोतल बांध कर स्लाइन चढ़ाना पड़ा था। इसके अलावे अस्पताल कैंपस में एम्बुलेंस ड्राइवर की हत्या के बावजूद ड्यूटी में कार्यरत गार्डों को भनक नहीं लगने को लेकर भी सवाल उठे थे। इन गार्डों पर हर महीने एक लाख रूपए से अधिक खर्च होता है।

    तीन गेट हैं, हॉस्पिटल के लिए


    सदर हॉस्पिटल में एंट्री के लिए तीन गेट हैं। यहां सिक्युरिटी के नाम पर करीब 32 गार्ड रखे गए हैं। आपकालीन स्थिति के लिए पिछले गेट की चाभी गार्ड के पास ही होती है जिससे जरुरत पड़ने पर खोला जा सके। उधर, प्रभारी डीएस डॉक्टर विकास सिंह ने बताया कि मामला काफी गंभीर है। जांच की जाएगी। साथ ही दोषी गार्ड की संलिप्तता उजागर होने पर उसे तत्काल हटा दिया जाएगा।

    आगे की स्लाइड्स में देखें संबंधित फोटोज...

  • बीमार मां को कंधे पर ले घूमता रहा बेटा, इसलिए नहीं खेला इमरजेंसी वार्ड का गेट
    +2और स्लाइड देखें
    बीमार मां को कंधे पर उठाकर हॉस्पिटल ले जाता उसका बेटा।
  • बीमार मां को कंधे पर ले घूमता रहा बेटा, इसलिए नहीं खेला इमरजेंसी वार्ड का गेट
    +2और स्लाइड देखें
    गार्ड द्वारा गेट नहीं खोले जाने के बाद पेशेंट को ऐसे ले जाना पड़ा।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Patna News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Son Walking Around Hospital With Sick Mother On Shoulder
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Stories You May be Interested in

      रिजल्ट शेयर करें:

      More From Patna

        Trending

        Live Hindi News

        0
        ×