--Advertisement--

शराब तस्करी में लिप्त लोगों का स्पीडी ट्रायल, 14 दिन में मिलेगी सजा

पुलिस तस्करों के मोबाइल का कॉल डिटेल निकालेगी।

Dainik Bhaskar

Jan 10, 2018, 05:42 AM IST
Speedy trial against who involved in Liquor smuggling

सुपौल. शराब तस्करों पर लगाम कसने के लिए बिहार सरकार सख्त रवैया अपना रही है। शराब तस्करी में पकड़े गए आरोपियों का स्पीडी ट्रायल होगा और उन्हें 14 दिन के अंदर सजा दिलाई जाएगी। ऐसे तस्करों के संपर्क में रहने वाले भी पुलिस रडार पर हैं। पुलिस तस्करों के मोबाइल का कॉल डिटेल निकालेगी। जिसके बाद देखा जाएगा कि इन तस्करों से संबंध रखने वाले भी क्या शराब के धंधे में लिप्त हैं या उनसे शराब खरीदते हैं। यदि उन लोगाें की संलिप्तता शराब में किसी भी प्रकार पाई गई ताे उनके खिलाफ भी कार्रवाई होगी।

पिछले दिनों आयुक्त उत्पाद बिहार पटना की अध्यक्षता में राज्य स्तरीय बैठक के बाद प्रधान सचिव ने इस संबंध में सभी जिलाधिकारियों व उत्पाद विभाग के अधीक्षक को निर्देश जारी किया है। निर्देश में स्पष्ट किया गया है केस में एक-दो लोगों की गवाही पूरी होते ही दो सप्ताह के भीतर सजा दिलाई जाए।

शराब तस्करों के जल्दी छूटने से सख्त हुई सरकार, हर जिले में तैनात होंगे एपीपी


स्पीडी ट्रायल व आरोपियों का सजा दिलाने के लिए जिलाें में जिला अभियोजन पदाधिकारी व सहायक अभियोजन पदाधिकारी में से ही एपीपी की नियुिक्त की जाएगी। शराब की कमाई से अर्जित संपत्ति की नीलामी होगी। सरकार का मानना है कि शराब तस्करी में संलिप्त जितने भी आरोपियों की गिरफ्तारी होती है, वह कुछ दिनों में ही जमानत पर छूट जाते हैं। इससे शराब तस्कर भयमुक्त होकर शराब तस्करी कर रहे हैं। उत्पाद विभाग मद्य निषेध कानून से आरोपियों के मामले का निपटारा किया जाएगा। इसके लिए पुलिस को भी रिपोर्ट तैयार करने का निर्देश दिया गया है।

गवाही के लिए ट्रांसफर हुए सिपाहियों को बुलाया जाएगा


शराब तस्करी में लिप्त आरोपियों को सजा दिलाने के लिए उन सिपाहियों जिनका स्थानांतरण दूसरे जिले में किया गया है, उन्हें ट्रायल अवधि में गवाही के लिए बुलाया जाएगा। गवाही होने के बाद सभी को वापस उनके जिले ही पदस्थापित कर दिया जाएगा।

विभाग की महिला सिपाही लेंगी घरों में तलाशी


कई बार तस्कर घर में शराब छुपाकर उसकी बिक्री करते हैं। घरों में महिलाओं की मौजूदगी में पुलिस जवानों को तलाशी लेने मे परेशानी ना हो इसके लिए उत्पाद विभाग में चार महिला पुलिस की नियुक्ति होगी। जो लोगों के घर की तलाशी लेंगी। इसके लिए जिलों में दस बेड का महिला बैरेक बनाया जाएगा।

हाजत व मालखाना का होगा निर्माण


जिले में जब्त शराब के लिए मालखाना व कैदियों को रखने के लिए हाजत का निर्माण जल्द होगा। वर्तमान में हाजत व मालखाना जर्जर हालत में है। उत्पाद विभाग का कहना है कि नए सिरे से अब हाजत व मालखाना का निर्माण कराया जाएगा। उत्पाद आयुक्त पटना कार्यालय ने सभी जिलों से जमीन उपलब्ध कराने को कहा है। जमीन मिलते ही हाजत और मालखाना का निर्माण शुरू हो जाएगा।

X
Speedy trial against who involved in Liquor smuggling
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..