--Advertisement--

अपराधियों की उल्टी गिनती शुरू, निशाने पर हैं 68 इनामी चेहरे, इन पर इनामी राशि

लिस्ट में पटना जिले से इनामी सरगना रवि गोप का नाम शामिल है। राजेंद्रनगर इलाके के मूल निवासी रवि पर 50 हजार का इनाम है।

Danik Bhaskar | Feb 09, 2018, 06:21 AM IST

पटना. राज्य में अपराधियों की उल्टी गिनती हो रही है। इसके लिए एसटीएफ ने मुहिम छेड़ रखी है। फिलहाल टारगेट पर 68 इनामी चेहरे हैं। इनमें 29 अपराधियों के अलावा 39 नक्सलियों के नाम शामिल हैं। इनामी चेहरों में 1 लाख या उससे अधिक 5 लाख तक की सूची में सिर्फ एक दर्जन नक्सली या उग्रवादियों के ही नाम हैं। अपराधियों पर 25 से 50 हजार तक का इनाम रखा गया है। इन परिस्थितियों के बीच हकीकत यह भी है कि ‘मोस्ट वांटेड’ लिस्ट में बीते 13 महीने में 26 इनामी अपराधी या नक्सलियों की संख्या कम हुई है। हर माह आैसतन दो इनामी चेहरे कम हो रहे हैं।


किसी की गिरफ्तारी तो कोई सरेंडर करता है या मुठभेड़ में ढेर हो रहा है। इसके पीछे आईजी (ऑपरेशन) कुंदन कृष्णन के निर्देशन में खास रणनीति के तहत चलाया जा रहा ऑपरेशन है। इसी कड़ी में एसटीएफ की एसआईजी व एसओजी की टीमें इनामी अपराधियों या नक्सलियों की घेराबंदी में लगी हैं। ताजा मामला हरियाणा के बल्ल्भगढ़ से 25 हजार के इनामी सरगना टोपला यादव उर्फ टोपिया यादव उर्फ टीपू की गिरफ्तारी का है। भागलपुर जिले में तीन वर्ष पहले तक आतंक का पर्याय रहे टोपला ने 26 जून 2014 को उसने पुलिस के साथ हुए एनकाउंटर में शाहकुंड के तत्कालीन थानेदार की हत्या कर दी थी।

पटना जिले में एक


लिस्ट में पटना जिले से इनामी सरगना रवि गोप का नाम शामिल है। राजेंद्रनगर इलाके के मूल निवासी रवि पर 50 हजार का इनाम है।

अंडरग्राउंड हो रहे सरगना


बहरहाल बदली हुई परिस्थितियों के बीच एसटीएफ की जाल से बचने के लिए इनामी सरगना दूसरे राज्यों में अंडरग्राउंड हो रहे हैं। इसी का नया सबूत है हरियाणा में 30 हजार के इनामी सरगना टोपला यादव की गिरफ्तारी।

दबिश के बीच कर रहे सरेंडर


एसटीएफ के ऑपरेशन का स्पष्ट मैसेज है। ‘सरेंडर करो वरना गिरफ्तारी होगी।’ आलम यह है कि बढ़ती दबिश के बीच इनामी सरगना सरेंडर करने को भी मजबूर हो रहे हैं। विशेष मुहिम के क्रम में जनवरी 2017 से अब तक 2 इनामी चेहरों ने सरेंडर किया जबकि 17 की गिरफ्तार करके जेल भेजा गया। इस दौरान आमना-सामना होने पर हुए एनकाउंटर में एक-एक अपराधी व नक्सली ढेर हो चुके हैं। इसके अलावा एक इनामी (50 हजार) लंकेश झा उर्फ अभिषेक झा की मृत्यु हो गई थी। कुछ अपराधियों की गिरफ्तारी में संबंधित जिला पुलिस की भी अहम भूमिका रही है।

वांछित अपराधियों व नक्सलियों पर पैनी नजर

आईजी (ऑपरेशन) कुंदन कृष्णन ने बताया कि इनामी सरगना या अन्य वांछित अपराधियों व नक्सलियों पर पैनी नजर है। उनकी तलाश में लगातार अभियान चलाए जा रहे हैं। संभावित ठिकानों को खंगाला जा रहा है।’