बाइक जुलूस पर पथराव के बाद औरंगाबाद शहर में आगजनी, 12 दुकानें फूंकीं

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

औरंगाबाद.   शहर में निकले बाइक जुलूस पर कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा पथराव किए जाने के बाद दूसरे पक्ष ने शहर में जमकर उत्पात मचाया। दूसरे पक्ष के लाेगों ने रमेश चौक से लेकर सब्जी मंडी के बीच की कई दुकानों को आग के हवाले कर दिया। जो दुकानें खुली थी, उस दुकान के सामानों को उठाकर सड़क पर फेंक दिया और क्षतिग्रस्त कर दिया। आक्रोशितों ने करीब एक दर्जन दुकानों में लगा दी। आक्रोशितों द्वारा मचाए जा रहे उत्पात की सूचना पर डीएम राहुल रंजन महिवाल व एसपी डॉ सत्य प्रकाश दल-बल के साथ मौके पहुंचे।

 

पुलिस बलों के रमेश चौक के समीप पहुंचते ही भगदड़ मच गई। पुलिस जवानों ने उपद्रवियों को खदेड़ दिया। इस दौरान जो पकड़े गए, उनकी पिटाई भी कर दी गई। वहीं उपद्रवियों ने पुलिस पर भी पथराव किया। रमेश चौक से लेकर धर्मशाला मोड़ तक अराजक स्थिति बनी रही। डीएम व एसपी खुद हाथों में डंडा लेकर मोर्चा संभाले हुए थे। स्थिति को काबू में करने के लिए पूरे शहर में धारा 144 लागू कर दिया गया। सूचना पर फायर ब्रिगेड की टीम मौके पर पहुंची और मशक्कत से बारी-बारी दुकान में लगी आग पर काबू पाया।  

 

ये है विवाद के कारण 
दरअसल रामनवमी पर्व पर सोमवार को शहर में निकलने वाली शोभा यात्रा को लेकर रविवार को विभिन्न समितियों द्वारा बाइक जुलूस निकाला गया था। यह जुलूस शहर के विभिन्न मुहल्लों में भ्रमण किया। भ्रमण करते हुए बाइक जुलूस नावाडीह में पहुंचा। इसी मुहल्ले में कुछ असामाजिक तत्वों में जुलूस पर पथराव कर दिया। इस पथराव में करीब छह युवक घायल हुए। कुछ लोगों ने घायल युवकों को तत्काल सदर अस्पताल पहुंचाया। जहां उनका इलाज किया गया। 

 

डीएम-एसपी ने की शांति मनाए रखने की अपील 
डीएम राहुल रंजन महिवाल व एसपी डॉ सत्य प्रकाश ने घूम-घूमकर लोगों को शांति बनाए रखने की अपील की। डीएम ने कहा कि शहर में धारा 144 लागू है। जो भी उपद्रव करने की कोशिश करेंगे, उनपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। एसपी ने कहा कि यह शहर आपसी सद्भाव का मिसाल कायम करता रहा है। मगर कुछ लोग इसे बिगाड़ना चाहते हैं। एेसा कभी नहीं होगा। बदमाशों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।  

 

खबरें और भी हैं...