--Advertisement--

पढ़ाने के समय लूडो खेलते थे टीचर, विरोध के बीच पहुंचे मुखिया पति की झाड़ू से पिटाई

बच्चों के माता-पिता ने बताया स्कूल के प्रिंसिपल तो ठीक हैं, पर टीचर इनकी नहीं सुनते।

Danik Bhaskar | Jan 25, 2018, 04:15 AM IST
मुखिया के पति की पिटाई करती महिलाएं। मुखिया के पति की पिटाई करती महिलाएं।

किशनगंज (बिहार). यहां के मिडिल स्कूल में पढ़ाई के टाइम पर कुछ टीचर लूडो खेलते थे। जब बच्चों ने इसकी शिकायत घरवालों से की तो भारी संख्या में गार्जियन्स स्कूल पहुंचे गए। यहां हंगामा होने लगा। हंगामे की सूचना पर गांव के मुखिया के पति मौके पर पहुंचे और राजनीति चमकाने की कोशिश की। इसके बाद गांव की महिलाओं ने झाड़ू से उनकी पिटाई कर दी।

ये है पूरा मामला

- गांववालों का आरोप है कि गांव के उत्क्रमित मिडिल स्कूल में टीचर बच्चों को पढ़ाने की जगह धूप में बैठ लूडो खेलते हैं। उन्हें पढ़ाते नहीं है।

- लोगों ने बताया कि जिसने भी इसका विरोध किया तो अगले दिन उसके बच्चे को कपड़े गंदे हैं कहकर भगा देते हैं। मुखिया पति से इसकी कई बार शिकायत की, पर उन्होंने नहीं सुनी।

- बुधवार को भी गांव के लोग इसका विरोध कर रहे थे, जैसे ही मुखिया पति स्कूल पहुंचे, महिलाओं ने झाड़ू से उनकी पिटाई कर दी। मामले में प्रिंसिपल लक्ष्मण ने कहा की उनकी कोई बात सुनते ही नहीं है।

गांववालों का गुस्सा देखकर स्कूल से भाग गए पांचों टीचर

- गांववालों का गुस्सा देख स्कूल के टीचर मुस्तफा कमाल, सरोजनी कुमार, उषा कुमारी, मेहबूब आलम वहां से भाग निकले।

- बच्चों के माता-पिता ने बताया स्कूल के प्रिंसिपल तो ठीक हैं, पर टीचर इनकी नहीं सुनते। कई टीचर तो अधिकतर देर से स्कूल पहुंचते हैं।

- मुखिया पति की पिटाई के बाद गांव के लोगों ने सड़क पर आग जलाकर 3 घंटे तक प्रदर्शन किया। बीडीओ ओमप्रकाश ने संबंधित टीचर्स पर कार्रवाई का आश्वासन दिया, तब जाकर मामला शांत हुआ।

बताया जा रहा है कि मुखिया का पति टीचरों का बचाव करने पहुंचा था। बताया जा रहा है कि मुखिया का पति टीचरों का बचाव करने पहुंचा था।
टीचरों के खिलाफ अभिभावकों ने विरोध प्रदर्शन भी किया। टीचरों के खिलाफ अभिभावकों ने विरोध प्रदर्शन भी किया।