--Advertisement--

नेचुरल डेयरी में 3 टेक्नीशियन की मौत का मामला, परिजनों ने कहा- यह हत्या है

नेचुरल डेयरी में बंगाल के 3 टेक्नीशियनों की हुई मौत के मामले में दैनिक भास्कर ने पटना पुलिस की भूमिका पर सवाल उठाया था।

Dainik Bhaskar

Feb 03, 2018, 06:22 AM IST
इसी डेयरी में दम घुटने से हुई थी तीनों टेक्नीशियन्स की संदिग्ध मौत। इसी डेयरी में दम घुटने से हुई थी तीनों टेक्नीशियन्स की संदिग्ध मौत।

पटना. नेचुरल डेयरी में बंगाल के तीन टेक्नीशियन की हुई संदिग्ध मौत हो उनके परिजन हादसा नहीं मान रहे हैं। उनका कहना है कि तीनों टेक्नीशियन की साजिशन हत्या की गई है। इस संबंध में थाने में परिजनों ने हत्या का ही मामला दर्ज कराया है। वर्धमान के उदय दास, हुगली के अभिमन्यु बेरा और इंद्रजीत जाना के परिजनों ने आरोप लगाया कि हत्या 29 जनवरी की रात या फिर 30 जनवरी के अहले सुबह हुई है। आरोप के पीछे परिजनों के कई तर्क हैं।

उदय के भाई तोतन दास ने कहा कि तय समय पर जब उसका भाई घर नहीं पहुंचा तो डेयरी के प्रोडक्शन मैनेजर विजय को फोन कर पूछा गया कि वे लोग कहां हैं। किसी का फोन नहीं लग रहा है। प्रोडक्शन मैनेजर ने कहा कि पता करके बताता हूं। इसे बाद उसने अपना फोन ऑफ कर लिया। तोतन ने कहा कि पुलिस बहुत आसानी से इसे हादसा मान रही है लेकिन यह सुनियोजित हत्या है। उसने यह भी खुलासा किया कि डेयरी प्रबंधन और काम करने वाली एजेंसी के बीच किसी बात को लेकर टकराव था।


पीएमसीएच में 3 घंटे भटकते रहे परिजन, बांग्ला बोलने से परेशानी


परिजन शुक्रवार की सुबह की पीएमसीएच पहुंच गए थे। तीनों मृतकों के परिजनों की संख्या दस से बारह थी। पीएमसीएच आने के बाद परिजन लोगों से पूछते हुए टीओपी गए। लेकिन वहां कोई उन्हें कुछ भी बताने को तैयार नहीं था। पाटलीपुत्र थाना, पीएमसीएच, नेचर डेयरी इन तीन जगहों में से कहां जाएं, किसके पास जाएं इन लोगों को तकरीबन तीन घंटे तक कोई कुछ बताने को तैयार नहीं था। बांग्ला बोलने की वजह से लोगों को इनकी बात समझने में भी परेशानी हो रही थी। दिन के 12 बजे के बाद किसी ने डीएसपी विधि व्यवस्था शिवली नोमानी को फोन कर बताया कि परिजन पीएमसीएच में हैं। इसके बाद संबंधित थाने और पीएमसीएच टीओपी की पुलिस एक्टिव हुई।


पहले भी कई बार फैक्ट्री में काम करने आए थे पटना


उमेश सहित अन्य टेक्नीशियनों ने अपने अपने परिजनों से 29 जनवरी की रात को बात की थी। तोतन ने कहा कि उमेश की बात आखिरी बात रात के 9.05 में हुई है। इसके बाद से तीनों का फोन ऑफ है। तीनों का फेसबुक भी 29 जनवरी के बाद से अपडेट नहीं हुआ है। इंद्रजीत जाना ने कहा कि उनका भाई अपने दोस्तों के साथ पहले भी कई बार इस फैक्ट्री में काम करने आ चुका है। सभी 22 जनवरी को ही पटना के लिए कोलकाता से चले थे।

परिजनों के सवाल

1. तीनों दक्ष टेक्नीशियन थे। उन्हें पता था कि कोल्ड रूम में नहीं सोना है और वे अंगीठी जलाकर नहीं सोते थे।
2. तीनों स्वेटर पहनकर नहीं सोते थे, जबकि उनकी बॉडी पर स्वेटर है।
3. तीनों का फोन एक साथ ही ऑफ क्यों हुआ।
4. जिसने तीनों को पीएमसीएच में एडमिट कराया वो भाग क्यों गया और मोबाइल ऑफ क्यों कर लिया।
5. अगर हादसा है तो परिजनों और पुलिस से क्यों छिपाया गया।
6. अंगीठी का राख भी हार्ड था। पूरा जला नहीं था।

पीएमसीएच टीओपी प्रभारी सस्पेंड, पाटलीपुत्र थाने के सिपाही की भूमिका की होगी जांच

नेचुरल डेयरी में बंगाल के तीन टेक्नीशियनों की हुई मौत के मामले में दैनिक भास्कर ने पटना पुलिस की भूमिका पर सवाल उठाया था। मामले में कार्रवाई करते हुए एसएसपी मनु महाराज ने पीएमसीएच टीओपी प्रभारी मंतोष कुमार को सस्पेंड कर दिया। साथ ही पाटलीपुत्र थाना के सिपाही सुनील कुमार सिंह की भूमिका पर जांच का आदेश दिया है। एसएसपी ने कहा कि टीओपी प्रभारी ने अपने वरीय अधिकारियों को समय पर इस बात की जानकारी नहीं दी कि पाटलीपुत्र से तीन डेड बॉडी को पीएमसीएच लाया गया है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि संबंधित थाने की पुलिस तब सक्रिय हुई जब बंगाल के डीजी ऑफिस से बिहार पुलिस के वरीय अधिकारी को मामले की जानकारी दी गई।

धुएं से तीनों की मौत हुई तो सीलिंग पीला क्यों नहीं हुआ

नेचुरल डेयरी के रूम में उदय, अभिमन्यु व इंद्रजीत की मौत अगर अंगीठी के धुएं से हुई तो फिर उस कमरे का सीलिंग पीला क्यों नहीं हुआ। रूम में दो स्थान पर अंगीठी का राख था। कमरा बंद था। हवा आने-जाने को कोई रास्ता नहीं था। ऐसे में पूरी रात अंगीठी का धुआं उठने से उजले सीलिंग में कुछ दाग होना चाहिए था पर ऐसा कुछ नहीं था। सीलिंग पूरी तरह सफेद है। कहीं कोई पीलापन नहीं है। जिस मोटे कूट पर तीनों का शव मिला, वह भीगा था। यही नहीं कूट के नीचे भी ब्लड के निशान थे। ये निशान ऐसे थे, जिससे यह पता चल रहा था कि तीनों शवों को खींचा गया। शुक्रवार की रात डेयरी पहुंचे परिजनों का आरोप है कि ये तीनों बगल वाले कमरे में सोए थे। वहां भी जमीन पर कूट बिछा था। उसी रूम में खाना बनाने का सामान भी था। तीनों को पहले इसी रूम में मारा गया फिर तीनों के शवों को खींचकर दूसरे रूम में लाया गया। इसे दूसरा रूप देने के लिए उस रूम में अंगीठी लाकर रख दिया गया ताकि किसी को शक नहीं हो। अंगीठी का राख भी सख्त था जिसे जलकर राख हो जाना चाहिए था। वैसा हार्ड राख डेयरी में कई जगह पड़ा मिला।

पैंट-शर्ट में था तीनों का शव

परिजनों ने कहा कि तीनों का शव पैंट-शर्ट में था। सवाल उठाया कि जब कोई काम करने के बाद सोता है तो वह कपड़ा बदल लेता है पर ऐसा नहीं था। उदय की घड़ी टूटी हुई थी। 29 जनवरी की रात से ही तीनों का मोबाइल बंद है। उसी रात 10 बजे आखिरी बार बात हुई थी। यहां का काम फाइनल हो गया था। 31 जनवरी या पहली फरवरी को तीनों को पटना से जाना था। इंद्रजीत के चाचा चिन्मय ने बताया कि हम लोगों को तीनों की मौत की खबर पहली फरवरी को मिली जबकि 31 को ही माैत हो गई थी। परिजनों ने यह भी कहा कि डेयरी और ब्लू स्टार के बीच पहले से विवाद चल रहा था। हो सकता है कि इसी विवाद में तीनों को मार डाला गया। तीनों मृतकों की शादी नहीं हुई थी। शनिवार को तीनों लाश को यहां से ले जाएंगे।

किसी के लंग्स में धुएं का दाग नहीं मिला


पीएमसीएच सूत्रों का कहना है कि तीनों का पोस्टमार्टम हो गया है। किसी के लंग्स में धुएं का दाग नहीं मिला है। जानकारों का कहना है कि अगर धुएं से दम घुटने से तीनों की
मौत होती तो लंग्स में कुछ न कुछ दाग होता। वैसे विसरा को एफएसएल में भेजा जाएगा। इसकी रिपोर्ट के बाद पता चल जाएगा कि तीनों की मौत कैसे हुई थी। तीनों का शव काला पड़ गया था। शरीर में कई जगहों पर दाग भी था।

नेचुरल डेयरी मालिक और ब्लू स्टार पर 3 टेक्नीशियनों की हत्या का केस दर्ज

पाटलिपुत्र इंडस्ट्रियल एरिया स्थित नेचुरल डेयरी में बंगाल के तीन एसी टेक्नीशियन उदय दास, अभिमन्यु अौर इंद्रजीत की मौत का मामला हत्या में बदल गया है। मृतकों के परिजनों ने डेयरी मालिक और ब्लू स्टार एजेंसी पर पाटलिपुत्र थाना में हत्या का केस दर्ज किया है। दर्ज केस में उदय के भाई तोतोन दास व अन्य परिजनों ने कहा है कि दम घुटने से मौत नहीं हुई बल्कि यह कोल्ड ब्लडेड मर्डर है। हत्या का केस दर्ज होने के बाद मेडिकल बोर्ड के डॉक्टरों ने तीनों शवों का पोस्टमार्टम किया। तीनों का विसरा प्रीजर्व कर लिया गया जिसे एफएसएल जांच में भेजा जाएगा। पोस्टमार्टम रिपोर्ट पुलिस को नहीं मिली है। तीन टेक्नीशियनों की मौत होने के बाद शुक्रवार को डेयरी में दूध पैकिंग का काम ठप रहा। इधर, शुक्रवार की रात विधि-व्यवस्था डीएसपी शिबली नोमानी परिजनों के साथ डेयरी पहुंचे और छानबीन व पूछताछ की।

पुलिस ले गई दो कर्मियों को पूछताछ के लिए


परिजनों ने डेयरी में जांच कर रहे डीएसपी से कहा कि डेयरी को सील किया जाए और डेयरी के मालिक व ब्लू स्टार एजेंसी वाले की गिरफ्तारी करें। पुलिस ने डेयरी में मौजूद वहां के दो कर्मियों पंकज और विजय को पूछताछ के लिए थाना ले गई। देर रात तक पुलिस दोनों से पूछताछ करने में जुटी है। एसएसपी मनु महाराज ने बताया कि हत्या का केस दर्ज कर लिया गया है।

नेचुरल डेयरी में मृतकों के परिजनों के साथ मामले की छानबीन करते डीएसपी। नेचुरल डेयरी में मृतकों के परिजनों के साथ मामले की छानबीन करते डीएसपी।
मृतक अभिमन्यु की फाइल फोटो। मृतक अभिमन्यु की फाइल फोटो।
मृतक उदय दास की फाइल फोटो। मृतक उदय दास की फाइल फोटो।
मृतक इंद्रजीत की फाइल फोटो। मृतक इंद्रजीत की फाइल फोटो।
X
इसी डेयरी में दम घुटने से हुई थी तीनों टेक्नीशियन्स की संदिग्ध मौत।इसी डेयरी में दम घुटने से हुई थी तीनों टेक्नीशियन्स की संदिग्ध मौत।
नेचुरल डेयरी में मृतकों के परिजनों के साथ मामले की छानबीन करते डीएसपी।नेचुरल डेयरी में मृतकों के परिजनों के साथ मामले की छानबीन करते डीएसपी।
मृतक अभिमन्यु की फाइल फोटो।मृतक अभिमन्यु की फाइल फोटो।
मृतक उदय दास की फाइल फोटो।मृतक उदय दास की फाइल फोटो।
मृतक इंद्रजीत की फाइल फोटो।मृतक इंद्रजीत की फाइल फोटो।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..