Hindi News »Bihar »Patna» Third Genders Under Food Safety Law

बिहार: किन्नर भी अब खाद्य सुरक्षा के दायरे में, मिलेगा सस्ता अनाज

किन्नरों की आर्थिक और सामाजिक स्थिति को देखते हुए यह फैसला लिया गया है।

Bhaskar News | Last Modified - Mar 04, 2018, 07:29 AM IST

बिहार: किन्नर भी अब खाद्य सुरक्षा के दायरे में, मिलेगा सस्ता अनाज

पटना. बिहार में किन्नरों को खाद्य सुरक्षा कानून के दायरे में लाया गया है। इससे उनको सस्ते दर पर अनाज मिलने का रास्ता साफ हो गया। गुरुवार को कैबिनेट की बैठक में इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई। इसके लिए सरकार अभियान चला कर ग्राम पंचायत, नगर निगम, नगर परिषद और नगर पंचायत में किन्नर लाभुकों की पहचान करेगी। उनको सामान्य लाभुकों की तरह हर महीने पांच किलो अनाज मिलेगा।

किन्नरों के हालात देखते हुए यह फैसला लिया गया

सरकार लाभुक परिवारों को सब्सिडी रेट पर दो रुपये प्रति किलो गेहूं और तीन रुपये प्रति किलो चावल देती है। किन्नरों की आर्थिक और सामाजिक स्थिति को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। केंद्र सरकार से प्राप्त खाद्यान्न से ही तत्काल इस समुदाय के लोगों को भी लाभान्वित किया जाएगा। इनके लिए अलग से अनाज का इंतजाम करने की आवश्यकता नहीं है।

राजगीर में बनेगी आईटी सिटी

- नालंदा विश्वविद्यालय के नजदीक राजगीर में आईटी सिटी बनेगी। इसके लिए 111 एकड़ जमीन का अधिग्रहण होगा। इसके लिए कैबिनेट ने 61 करोड़ रुपए जारी करने का फैसला किया है। गुरुवार को कैबिनेट की बैठक में इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई।

- राज्य के सेवानिवृत्त कर्मी और पारिवारिक पेंशनरों को फिर से चिकित्सा भत्ता हासिल करने की सुविधा मिल सकती है। कैबिनेट ने इस प्रस्ताव को भी मंजूरी दे दी है।

- सरकार ने अपने सभी कर्मियों को हेल्थ इंश्योरेंस के दायरे में लाने का फैसला किया था। सरकार ने पथ निर्माण विभाग द्वारा पुलों पर किए जा रहे पथकर संग्रह की व्यवस्था को बंद कर दिया है। कैबिनेट ने इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Patna News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: bihaar: kinnar bhi ab khaady surksaa ke daayre mein, milegaaa sasta anaaj
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×