Hindi News »Bihar »Patna» Three Technicians Die By Kneeling In Natural Dairy Incident

डेयरी हादसे में दम घुटने से तीन टेक्नीशियन की मौत, मैनेजमेंट उठा ये सवाल

30 जनवरी को तीनों ने रात दो बजे तक काम किया फिर रूम बंदकर जमीन पर सो गए।

Bhaskar News | Last Modified - Feb 02, 2018, 05:03 AM IST

  • डेयरी हादसे में दम घुटने से तीन टेक्नीशियन की मौत, मैनेजमेंट उठा ये सवाल
    +8और स्लाइड देखें
    दम घुटने से मौत इसी जगह हुई हैं।

    पटना.पाटलिपुत्र इंडस्ट्रियल एरिया इलाके में स्थित नेचुरल डेयरी में दम घुटने से तीन टेक्नीशियन की मौत हो गई। घटना के पीछे डेयरी में अमोनिया गैस का रिसाव है या फिर जिस रूम में तीनों की मौत वहां वहां जल रहे अंगीठी के धुएं से, पुलिस इसकी जांच कर रही है। तीनों मृतक उदय दास, अभिमन्यु और इंद्रजीत कोलकाता के रहने वाले थे। डेयरी में कोल्ड रूम इंस्टाल हो रहा था। इसका काम फाइनल स्टेज में था।

    31 जनवरी को तीनों की हुई थी मौत

    दरअसल, 30 जनवरी को तीनों ने रात दो बजे तक काम किया फिर रूम बंदकर जमीन पर सो गए। 31 को शाम चार बजे ब्लू स्टार कंपनी के ठेकेदार ने डेयरी मैनेजर विजय प्रताप को फोन कर तीनों के बारे में पूछताछ की। इसके बाद अन्य डेयरी कर्मी रूम के अंदर गए। तीनों को हिला-डोला करके देखा। मुंह पर पानी का छींटा दिया लेकिन वे नहीं उठे। फिर बिना पुलिस को सूचना दिए वहां से तीनों को पीएमसीएच ले जाया गया, जहां 31 की रात को डाक्टरों ने तीनों को मृत घोषित कर दिया। इधर सूचना मिलने के बाद पुलिस गुरुवार को शाम चार बजे डेयरी पहुंची और मामले की छानबीन की। तीनों मृतक के परिजन कोलकाता से पटना पहुंच गए हैं।

    डेयरी के गार्ड ने दी थी ये जानकारी

    डेयरी के गार्ड राजेश ने बताया कि 31 जनवरी को दिन में करीब चार बजे डेयरी में शोर मचा कि तीनों टेक्निशयन बेहोश हैं। आनन-फानन में एंबुलेंस लाया गया और तीनों को पीएमसीएच ले जाया गया। दूसरी ओर, पीएमसीएच के इमरजेंसी प्रभारी डाॅक्टर अभिजीत और सिटी एसपी सेंट्रल डी. अमरकेश ने बताया कि तीनों को रात करीब 11.30 बजे पीएमसीएच लाया गया। सबसे बड़ा सवाल यह है कि आखिर साढ़े सात घंटे तीनों कहां रहे। कहीं ऐसा तो नहीं कि तीनों को डेयरी से निकालकर किसी निजी नर्सिंग होम में ले जाया और फिर मौत के बाद पीएमसीएच में भर्ती करा दिया गया।

    रूम में दो जगह थी राख, जहां सोए थे वहां गिरा था खून

    जिस रूम में तीनों सो रहे थे, वहां पर दो जगह अंगीठी की राख पड़ी थी। तीनों का बैग व अन्य सामान भी वहीं रखा हुआ था। जहां तीनों जमीन पर सोए थे, वहां पर दो जगह खून गिरा हुआ था। रूम के बाहर मशीन भी रखी हुई थी।


    प्रथमदृष्टया मौत का कारण धुआं : एसपी

    सिटी एसपी सेंट्रल डी अमरकेश ने बताया कि प्रथम दृष्टया धुआं से दम घुटने से हुई मौत प्रतीत होती है। वैसे अन्य बिंदुओं पर पुलिस छानबीन करने में जुटी है। डेयरी संचालक एचके दास और डेयरी मैनेजर विजय प्रताप ने बताया कि धुआं से दम घुटने से तीनों की मौत हुई। गैस का रिसाव नहीं हुआ है।

    लंग्स का टिश्यू फटने से गिरा खून

    डाॅक्टर दिवाकर तेजस्वी ने बताया कि मौके पर खून गिरने का मतलब है कि लंग्स का टिश्यू फट गया। श्वास नली को भी क्षति हुई। हाे सकता है गहरी नींद में सोए रहने से ज्यादा गैस या धुआं चला गया हो और ब्रेेन सुस्त हो गया जिससे तीनों वहां से भाग नहीं सके।

    सिपाही हो गया मैनेज, एसएचओ आए लेट

    नेचुरल डेयरी में तीन टेक्नीशियन की मौत के मामले में कई राज खुलने बाकी हैं। पूरी घटना की जानकारी पाटलिपुत्र थाने के एक सिपाही को थी। लेकिन उसने अपने वरीय अधिकारियों को जानकारी नहीं दी। सूत्रों की मानें तो घटना 30 जनवरी की रात की है। एक दिन तक तीनों टेक्नीशियन की बॉडी को फैक्ट्री में ही रखा गया।

    31 जनवरी को प्रोडक्शन मैनेजर विजय ने पाटलिपुत्र थाने के एक सिपाही को फोन कर बताया कि उसके यहां काम करने आए तीन टेक्नीशियन गंभीर हैं। हो सकता है उनका डेथ हो जाए। उसने सिपाही को नजराना भेंट करने की बात भी कही थी। सिपाही को मैनेज करने के बाद 31 जनवरी की शाम प्रोडक्शन मैनेजर विजय और दूसरे कर्मी पंकज ने एंबुलेंस बुक किया। उसी एंबुलेंस से तीनों के बॉडी को लेकर सभी 31 जनवरी की रात पीएमसीएच इलाज के बहाने ले गए। तीनों को इमरजेंसी में एडमिट किया गया। डॉक्टरों ने जांच के बाद कहा कि इनकी मौत हो चुकी है। इसके बाद विजय और पंकज वहां से निकल गए। पीएमसीएच से 31 की रात तकरीबन साढ़े बारह बजे टीओपी प्रभारी मंतोष को तीन शव के बारे में सूचना दी गई।

    मंतोष ने मामले की जानकारी 1 फरवरी को दिन के 12 बजे पीरबहोर थाना प्रभारी को दी। पीरबहोर थाना प्रभारी ने इसकी जानकारी पाटलीपुत्र थाना प्रभारी को फोन पर दी। वे शाम 5 बजे पीएमसीएच पहुंचे। सूत्रों की मानें तो एसएचओ को जब मामले की जानकारी हुई तो वे थाने के कर्मियों से पूछताछ करने लगे। इस बीच यह बात सामने आ गई कि सिपाही को मामले की जानकारी थी। सिपाही ने तत्काल प्रोडक्शन मैनेजर के फोन कर वहां से भाग जाने को कहा। सिटी एसपी डी अमरकेश ने टीओपी प्रभारी से स्पष्टीकरण मांगा है। इसी नेचुरल डेयरी में 24 दिसंबर 2016 को अमोनिया गैस का रिसाव हुआ था।

  • डेयरी हादसे में दम घुटने से तीन टेक्नीशियन की मौत, मैनेजमेंट उठा ये सवाल
    +8और स्लाइड देखें
    पाटलिपुत्रा इंडस्ट्रियल एरिया के नुचुरल डेयरी में हुए तीन व्यक्तियों की मौत के बाद पीएमयीएच में घटना की पड़ताल करते अधिकारी।
  • डेयरी हादसे में दम घुटने से तीन टेक्नीशियन की मौत, मैनेजमेंट उठा ये सवाल
    +8और स्लाइड देखें
    पाटलिपुत्रा इंडस्ट्रियल एरिया के नुचुरल डेयरी में हुए तीन व्यक्तियों की मौत के बाद पीएमयीएच में घटना की पड़ताल करते अधिकारी।
  • डेयरी हादसे में दम घुटने से तीन टेक्नीशियन की मौत, मैनेजमेंट उठा ये सवाल
    +8और स्लाइड देखें
    जानकारी देते दोनों गार्ड।
  • डेयरी हादसे में दम घुटने से तीन टेक्नीशियन की मौत, मैनेजमेंट उठा ये सवाल
    +8और स्लाइड देखें
    नेचुरल डेयरी में हुए तीन व्यक्तियों की मौत के बाद पीएमयीएच में घटना की पड़ताल करते अधिकारी।
  • डेयरी हादसे में दम घुटने से तीन टेक्नीशियन की मौत, मैनेजमेंट उठा ये सवाल
    +8और स्लाइड देखें
    नेचुरल डेयरी में तीन की दम घुटने से मौत इसी जगह हुई।
  • डेयरी हादसे में दम घुटने से तीन टेक्नीशियन की मौत, मैनेजमेंट उठा ये सवाल
    +8और स्लाइड देखें
  • डेयरी हादसे में दम घुटने से तीन टेक्नीशियन की मौत, मैनेजमेंट उठा ये सवाल
    +8और स्लाइड देखें
  • डेयरी हादसे में दम घुटने से तीन टेक्नीशियन की मौत, मैनेजमेंट उठा ये सवाल
    +8और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×