• Home
  • Bihar
  • Patna
  • wife of former SDO gave her husband Harley Davidson bike gift by loan
--Advertisement--

वाइफ ने लोन ले पति को गिफ्ट की थी हार्ले डेविडसन, अब CBI करेगी सवाल

सृजन महिला विकास सहयोग समिति से पूर्व एसडीओ कुमार अनुज के सीधे कनेक्शन सामने आए हैं।

Danik Bhaskar | Jan 26, 2018, 03:50 AM IST

भागलपुर. सरकारी बैंक खातों से 1600 करोड़ रुपए डकारने वाली सृजन महिला विकास सहयोग समिति से पूर्व एसडीओ कुमार अनुज के सीधे कनेक्शन सामने आए हैं। विकास मित्र और बागबाड़ी घोटाले में निगरानी की जांच में फंसे एसडीओ की जांच अब सीबीआई कर रही है। पूर्व एसडीओ अनुज की पत्नी दिव्या सिन्हा ने सृजन से 7.17 लाख रुपए लोन लेकर पति को हर्ले डेविडसन बाइक गिफ्ट दिया था।पूर्व एसडीओ ने सरकार से इस लोन को छिपा लिया। सीबीई अधिकारी के पास पहुंचे दस्तावेज

- उन्होंने बड़ी चतुराई से अपनी संपति की घोषणा में सृजन कनेक्शन को छिपाकर यह बता दिया कि लोन कोआपरेटिव सोसायटी से लिए।

- उन्होंने पत्नी के नाम बाइक के लिए 1.93 लाख और 3 लाख रिश्तेदारों से लेने की घोषणा कर दी।

- सीबीआई डीएसपी नरेंद्र महतो तक यह दस्तावेज पहुंचे तो पूरी टीम ने पूर्व एसडीओ कुमार अनुज आैर उनकी पत्नी दिव्या सिन्हा के सृजन कनेक्शन की जांच शुरू कर दी।

- बताया जा रहा है कि दोनों पति-पत्नी को पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा।

दो साल की प्रॉपर्टी घोषणा में की गड़बड़ी
कुमार अनुज ने 2015-16 और 2016-17 में सरकार को संपति की जानकारी में गड़बड़ी की। 2015-16 में बाइक के लिए 1.93 लाख का कर्ज दिखाया। तीन लाख रिश्तेदारों से कर्ज दिखाए। 2016-17 की घोषणा में बताया कि एक बाइक 1.93 लाख की और दूसरी बाइक (हर्ले डेविडसन) 8.17 लाख की खरीदी। उन्होंने सृजन संस्था का नाम गायब कर दिया। लोन के रकम की जानकारी छिपा ली।

बाइक को लिए थे पैसे
सीबीआई को मिले दस्तावेज के अनुसार, अनुज की पत्नी दिव्या ने 3 जनवरी 2017 को सृजन में खाता खुलवाया। खाता नंबर 4759 के अनुसार उन्होंने पति के लिए हर्ले डेविडसन बाइक के लिए 8,17,993 रुपए का कोटेशन दिया था। जिसके एवज में सृजन ने उन्हें 7.71 लाख रुपए का लोन दे दिया।

मनोरमा ने ली गारंटी
लोन चुकाने के लिए सृजन ने दो साल का वक्त दिया था। दिव्या को 35,795 रुपए हर माह किस्त देनी थी। सृजन की सचिव मनोरमा ने अपनी मौत से 7 दिन पहले 7 फरवरी को इस राशि की गारंटी ली थी। जमानतदार के रूप में कहा था कि किस्त समय पर नहीं चुकाई गई तो वसूली की जिम्मेदारी मेरी होगी।