Hindi News »Bihar »Patna» Woman Killed By Husband After Daughter Death

10 दिन पहले बहन की मौत, खुद ट्रेन हादसे में बचा, अब पिता ने मां को मार डाला

समस्तीपुर जिले के रहने वाले संतोष कुमार चौधरी की बड़ी बहन कोमल की दस दिन पहले NMCH में मौत हो गई थी।

Bhaskar News | Last Modified - Dec 04, 2017, 07:19 AM IST

  • 10 दिन पहले बहन की मौत, खुद ट्रेन हादसे में बचा, अब पिता ने मां को मार डाला
    +4और स्लाइड देखें

    पटना. राजधानी के एक होटल में एक दिसंबर को महिला के मर्डर के बाद उसके बेटे संतोष चौधरी ने रविवार को दाह संस्कार कर दिया। उसने बताया कि मां की हत्या से 10 दिन पहले उसकी बड़ी बहन कोमल की मौत हो गई थी। मौत की खबर के बाद वो गोवा से पटना ट्रेन से आ रहा था तभी 23 नवंबर की रात यूपी के चित्रकूट के मानिकपुर में वो जिस ट्रेन में सवार था वो हादसे का शिकार हो गई जिसमें उसकी जान बाल-बाल बची। अब एक दिसंबर को उसके पिता ने ही उसकी मां की गला रेतकर हत्या कर दी।

    गोवा के रेस्टोरेंट में काम करता है संतोष

    समस्तीपुर जिले के रहने वाले संतोष कुमार चौधरी की बड़ी बहन कोमल की दस दिन पहले NMCH में मौत हो गई थी। कोमल मां बनने वाली थी। कोमल ने बेटी को जन्म दिया वह जिंदा है। गाेवा में एक रेस्टारेंट में काम करने वाले संतोष दो साल पहले शादीशुदा कोमल की मौत की खबर सुनकर गोवा से वास्को डी गामा-पटना एक्सप्रेस से पटना आ रहा था। इसी बीच 23 नवंबर की रात यूपी के चित्रकूट के मानिकपुर में इस ट्रेन की 13 बोगी पटरी से उतर गई और हादसे का शिकार हो गई। संतोष ने बताया कि ट्रेन से मौत के मुंह से निकला। चेहरे पर मौत का खौफ लिए वहां से किसी तरह दूसरे ट्रेन से पटना पहुंचा। कोमल के ससुराल फतुहा गया। नन्हीं से भांजी को देख संतोष बहन की मौत के गम को भुलाने की कोशिश में लगा था पर एक दिसंबर को उसकी मां संगीता देवी की उसके पिता रामबाबू चौधरी ने कदमकुअां थाना के होटल अप्सरा के कमरा नंबर 405 में चाकू से गला रेतकर हत्या कर दी। तीन भाई-बहनों में संतोष सबसे बड़ा है।

    कोमल से छोटी बहन मुस्कान बांका के शंभूगंज थाना के जंगलझकड़ा स्थित ननिहाल में आठवीं क्लास की छात्रा है। उधर, पुलिस सूत्रों का कहना है कि रामबाबू चौधरी का किसी महिला से संबंध था। वह संगीता को नहीं चाहता था। इसलिए उसे पटना लाकर मार डाला।


    मामूली विवाद में मां को छोड़ दिया था डेढ़ साल पहले
    संतोष ने बताया कि मामूली विवाद में पिता ने मां को छोड़ दिया। वह दोनों बहनों को लेकर मायके में रहने लगी। संतोष का कहना है कि उसकी मां मानिसक रूप से बीमार नहीं थी। पिता या पुलिस मां के बारे में झूठ बोल रहे हैं। संतोष ने बताया कि पिता पटना के कई प्रिंटिंग प्रेस में ऑपरेटर का काम कर चुके हैं। शराब की लत थी। इसलिए उन्हें कहीं पक्की नौकरी नहीं मिली। इन दिनों नाला रोड स्थित होटल वंदना में बतौर मैनेजर थे। 11 नवंबर को ही पिता ने वहां नौकरी छोड़ी थी।

    संतोष ने बताया कि मैनेजर की नौकरी छोड़ने के बाद पिता ननिहाल आए। नानीघर में लोगों को कहा कि नई जिंदगी गुजारनी है। पटना ले जाएंगे। दोनों साथ-साथ रहेंगे। पिता, मां के साथ छोटी बहन मुस्कान को भी साथ में पटना लाए थे। गोपालगंज का भानू भी पिता के साथ मां को लाने गया था। 12 नवंबर को पिता, मां, बहन को लेकर 12 नवंबर को रवाना हुए और पटना में होटल अप्सरा में ठहरे। चूंकि पिता वंदना में मैनेजर थे, मां की हत्या करनी थी इसलिए उन्होंने भानू के आधार कार्ड पर कमरा बुक किया था ताकि पुलिस उसे गिरफ्तार नहीं कर सके।

    हत्या से दो दिन पहले होटल आए, 5 हजार रुपए भी दिए
    मां-पिता पटना में होटल में रह रहे थे। बहन भी साथ थी। पिता, मां और बहन से मिलने को होटल अप्सरा आए थे। सबों से मुलाकात हुई। पिता के कहने पर कमरे का 5 हजार किराया भी दे दिया। जवान बहन को होटल में रहना ठीक नहीं समझ, उसे साथ लेकर ननिहाल चले गए।

    बांस घाट पर किया मां का अंतिम संस्कार
    संतोष ने बताया कि मां की हत्या पिता अकेला नहीं कर सकता। मां, पिता से ज्यादा स्वस्थ थी। होटल अप्सरा में पिता का करीबी बाढ़ निवासी रामकुमार भी था। मां की हत्या पिता और रामकुमार ने की। दोनों के खिालफ कदमकुआं थाना में प्राथमिकी दर्ज की गई है। बेटे ने फफकते हुए कहा-अगर भानू का आधार कार्ड नहीं होता तो मां को पुलिस लावारिस घोषित कर अंतिम संस्कार कर देती। कहा- कदमकुआं थाना की पुलिस भानू को लेकर ननिहाल आई तब पता चला कि उसकी मां की पिता ने होटल के कमरे में हत्या कर दी और फरार हो गया। संतोष मामा बबन कुमार झा के साथ रविवार को पटना आए। पीएमसीएच में मां के शव को देखते ही वह रोने लगा। बाद में संतोष अौर बबन दोनों ने बांस घाट पर संगीता का दाह-संस्कार कर दिया और रात में बांका लौट गए।

    इधर पुलिस रामबाबू के समस्तीपुर जिले के हथौड़ी थाना इलाके के परबंदा गांव गई थी। वहां छापेमारी की गई पर वह फरार पाया गया। पुलिस ने इस बाबत भानू से भी पूछताछ की। उसने रामबाबू के कुछ दोस्तों के बारे में पुलिस को बताया है। थानेदार रंजीत कुमार ने कहा कि रामबाबू का मोबाइल भी बंद है। जल्द ही उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

  • 10 दिन पहले बहन की मौत, खुद ट्रेन हादसे में बचा, अब पिता ने मां को मार डाला
    +4और स्लाइड देखें
  • 10 दिन पहले बहन की मौत, खुद ट्रेन हादसे में बचा, अब पिता ने मां को मार डाला
    +4और स्लाइड देखें
  • 10 दिन पहले बहन की मौत, खुद ट्रेन हादसे में बचा, अब पिता ने मां को मार डाला
    +4और स्लाइड देखें
  • 10 दिन पहले बहन की मौत, खुद ट्रेन हादसे में बचा, अब पिता ने मां को मार डाला
    +4और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×