--Advertisement--

जन्म देने के साथ ही बछड़े की मां नहीं रही तो एक और मां ने संभाल ली दूध पिलाने की जिम्मेदारी

वंदना ने मां की जिम्मेदारी निभाई और अपने लाडले को दूध पिलाने के साथ बछड़े को भी बोतल से दूध पिलाकर उसकी जान बचा ली।

Danik Bhaskar | Mar 10, 2018, 08:06 AM IST

सहरसा (पटना). मां की ममता मिली तो यह बछड़ा अपनी मां को खोने का दर्द भूल गया। बरहशेर पंचायत के बेला बगरौली की वंदना देवी गाय की मौत के बाद उसके बछड़े को दूध के सहारे पाल रही है। 14 दिन पहले बछड़े को जन्म देने के साथ ही गाय मर गई। वंदना ने मां की जिम्मेदारी निभाई और अपने लाडले को दूध पिलाने के साथ बछड़े को भी बोतल से दूध पिलाकर उसकी जान बचा ली।