--Advertisement--

जन औषधि केन्द्र से हर महीने आप कमा सकते हैं 15-20 हजार रु., ये है पूरा प्रोसेस

दुकान खोलने के लिए अपनी जमीन, रेंट या गवर्मेंट हॉस्पिटल्स में सीएस की अनुमति लेकर खोली जा सकती है।

Dainik Bhaskar

Dec 18, 2017, 05:20 AM IST
डेमो फोटो। डेमो फोटो।

बिहारशरीफ. जन औषधि केन्द्र (Public Drug Center) खोल कर हर महीने 15 हजार से भी ज्यादा की कमाई कर सकते हैं। अर्बन एरिया में हर पांच किलोमीटर और रूरल एरिया में हर ढाई किलोमीटर पर एक जन औषधि केन्द्र खोलने की सरकार की योजना है। ताकि जनता समझा सके की ब्रांडेड दवाइयों की तुलना में जेनेरिक दवाइयां कम कीमत पर उपलब्ध है और उसमें भी ब्रांडेड दवाइयों की तरह ही गुण है। कोई भी इसके लिए आवेदन कर सकता है, लेकिन बेरोजगारों, दिव्यांगो व एनजीओ को प्राथमिकता दी जाएगी।

रोजगार शुरू करने के लिए ढाई लाख की मदद

रोजगार शुरू करने के लिए सरकार ढाई लाख रुपए की मदद देती है। इसमें दो लाख रुपए स्टोर मैनेजर तत्काल शुरू करने के लिए तथा 50 हजार रुपए कम्प्यूटर और अन्य सामान के लिए दिए जाएंगे। दुकान खोलने के लिए अपनी जमीन, रेंट या गवर्मेंट हॉस्पिटल्स में सीएस की अनुमति लेकर खोली जा सकती है। एक लाख फर्नीचर और एक लाख दवा के लिए सरकार देती है।

20 फीसदी मिलेगा लाभ : दुकान खोलने वालों को जेनेरिक दवाइयां उपलब्ध कराने के लिए पटना में केन्द्रीकृत केन्द्र खोलने की योजना है, जहां से दवा की आपूर्ति होगी। विक्रेता को 20 प्रतिशत लाभांश दिया जायेगा।

दवाओं के नाम सामान्य दाम केन्द्र में
एसिक्लोफिनैक 23.10 5.70
डाइक्लोफिनैक जेल 30.30 8.22
इटोरिकोक्सिब 120 एमजी 131.58 33.96
इबुप्रोफेन 400 एमजी 9.75 4.88
पारासिटामोल 650 एमजी 25.65 8.03
बैडोफेन 10 एमजी 95.60 12.05
एमिकासिन 250 एमजी सूई 29.98 11.35
एमोक्सिसीलिन 250 एमजी 29.60 14.99
एम्पीसिलीन इंजे 500एमजी 65.40 26.25
विटामिन डीथ्री सिरप 93.43 23.29

इस तरह करें आवेदन : ऑफलाइन आवेदन करने के लिए फार्म को डाउनलोड कर आवेदन किया जा सकता है। ऑन लाईन आवेदन के लिए बीपीपीआई पर आवेदन किया जा सकता है।

क्या मिलेगी सहायता
- दवाईयों की प्रिंट कीमत पर 16 प्रतिशत का मुनाफा
- दो लाख रुपए तक की वन टाइम वित्तीय सहायता
- 12 महीने के लिए सेल का 15 प्रतिशत अतिरिक्त इंसेंटिव या अधिकतम 10 हजार रुपए हर माह

तीन श्रेणी के लोग खोल सकते हैं स्टोर

- बेरोजगार फार्मासिस्ट, डाक्टर, रजिस्टर्ड मेडिकल प्रैक्टिशनर

- संघ, संगठन, एनजीओ, ट्रस्ट, निजी अस्पताल, कल्याणकारी संस्था, चिकित्सक, बेरोजगार, फार्मासिस्ट, उद्यमी, नॉमिनेट एजेंसी

बीपीपीआई पटना के स्टेट कॉर्डिनेटर किशोर कुणाल ने बताया कि केन्द्र संचालन के लिए दिव्यांग और एससी, एसटी को सरकार एकमुश्त 50 हजार की दवाइयां उपलब्ध करा रही है। उन्हें पूंजी लगाना नहीं पड़ेगा। आवेदनों की मामूली जांच के बाद शर्तें पूरा करने वालों को जन औषधि केन्द्र संचालन की अनुमति दे दी जाती है।

X
डेमो फोटो।डेमो फोटो।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..