Hindi News »Bihar »Patna» Young Scientist Made Unique Machine

बिहार के इस लड़के ने बनाई ऐसी मशीन, देश-विदेश के वैज्ञानिकों ने दी शाबाशी

विवेक को पिछले साल अप्रैल में स्विट्जरलैंड विवि से भी शोध पर चर्चा करने के लिए बुलावा आया था।

Bhaskar News | Last Modified - Feb 07, 2018, 06:15 AM IST

  • बिहार के इस लड़के ने बनाई ऐसी मशीन, देश-विदेश के वैज्ञानिकों ने दी शाबाशी
    गाेवा में नाेबेल फाउंडेशन के चेयरमैन से वार्ता करते विवेक।

    मधेपुरा (बिहार).यहां के युवा वैज्ञानिक विवेक कुमार की चर्चा देश-विदेश के वैज्ञानिक इन दिनों कर रहे हैं। विंटर के महीने में मेघालय की लूखा नदी के पानी के नीले होने और उस सीजन में मछलियों के मरने पर शोध कर चुके विवेक ने हाल ही में गावा में संपन्न नोबेल प्राइज सीरिज-इंडिया 2018 के कार्यक्रम में पार्टिसिपेट किया। बता दें कि विवेक ने एक ऐसी मशीन बनाई है जिससे हवा में कार्बन डाइऑक्साइड, ऑक्सीजन, नाइट्रोजन डाइऑक्साइड, कार्बन मोनो ऑक्साइड के मात्रा का पता लगाया जा सकता है।

    1-2 फरवरी को संपन्न हुए इस कार्यक्रम में विज्ञान के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार प्राप्त कर चुके चार वैज्ञानिकों के साथ-साथ नोबेल फाउंडेशन के चेयरमैन कार्ल हेनरिक हेल्डिन भी शामिल हुए। मुख्यमंत्री मनोहर पार्रिकर ने कार्यक्रम का उद्घाटन किया था। कार्यक्रम में देश-विदेश के साइंटिस्ट ने विवेक के शाेध को सराहा। नोबेल फाउंडेशन के चेयरमैन से उनकी अपनी शोध को बहुत ही उपयोगी बताया। मूल रूप से सिंहेश्वर बाजार निवासी युवा वैज्ञानिक विवेक के पिता मधेपुरा के एक वित्तरहित कॉलेज में प्रोफेसर और मां गृहिणी हैं।

    विदेशों में भी पेश कर चुके हैं शोध

    विवेक को पिछले साल अप्रैल में स्विट्जरलैंड विवि से भी शोध पर चर्चा करने के लिए बुलावा आया था। वहां उन्होंने अपना शोध वैज्ञानिकों के सामने रखा और सराहे गये। पिता प्रो. अनिल कुमार ने बताया कि विवेक बचपन से ही मेधावी रहा।

    इंडियन एकेडमी ऑफ साइंस में लगाई थी प्रदर्शनी

    विवेक अभी नार्थ-इस्टर्न हिल यूनिवर्सिटी शिलांग के डिपार्टमेंट आॅफ इनावयरमेंटल स्टडीज में शोध कर रहे हैं। उनकी मानें तो इसी विश्वविद्यालय में पिछले साल नवंबर में आयोजित 83वां इंडियन एकेडमी ऑफ साइंस के सम्मेलन में उन्होंने भाग लिया था। वहां उन्होंने खुद के द्वारा आविष्कार किए गए यंत्रों की प्रदर्शनी लगाई थी। यह यंत्र हवा में कार्बन डाइऑक्साइड, ऑक्सीजन, नाइट्रोजन डाइऑक्साइड, कार्बन मोनो ऑक्साइड के मात्रा का पता लगाते हंै। वैज्ञानिकों ने विवेक के इस यंत्र को सराहा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×