Hindi News »Bihar »Patna» एडमिट कार्ड लेकर लौट रहे दो मौसेरे भाइयों की हादसे में मौत

एडमिट कार्ड लेकर लौट रहे दो मौसेरे भाइयों की हादसे में मौत

बरहपुर के चंदन नगर में अज्ञात बोलेरो वाहन की चपेट में आने से दो इंटर परीक्षार्थियों की मौत हो गई। दोनों आपस में सगे...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 03, 2018, 02:00 AM IST

बरहपुर के चंदन नगर में अज्ञात बोलेरो वाहन की चपेट में आने से दो इंटर परीक्षार्थियों की मौत हो गई। दोनों आपस में सगे मौसेरे भाई थे। बख्तियारपुर के सबनीमा गांव के रहने वाले दोनों युवक लखीसराय के बड़हिया से लौट रहे थे और इसी दौरान अज्ञात बोलेरो वाहन की चपेट में आ गए। पुलिस ने मृतकों के परिजनों को घटना की सूचना दी। दोनों शवों को रेफरल अस्पताल में रखा गया है। पुलिस के अनुसार सबनीमा के नागेंद्र कुमार और पिंकू कुमार दोनों मौसेरे भाई हैं और लखीसराय के इंटर कॉलेज से लोगों ने इंटर का परीक्षा फॉर्म भरा था। एडमिट कार्ड लाने के लिए दोनों बड़हिया गए थे और फिर वहां से आने के दौरान मोकामा थाना के बरहपुर में हादसे का शिकार हो गए थे।

नागेंद्र और पिंकू ने गुरुवार ही अपने इंटर के परीक्षा फॉर्म ले लिया था लेकिन उनका बैग चोरी हो हो गया था। बड़हिया के किसी व्यक्ति ने दोनों भाइयों को बैग देने के लिए बुलाया था। दोनों भाई अपना बैग लाने के लिए गए थे और बाइक से लौटने के दौरान दोनों हादसे का शिकार हो गए। उनके बैग में दोनों का एडमिट कार्ड भी था। दोनों थे घर के एकलौते चिराग हादसे के बाद दोनों मृतकों के परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट गया है। नागेंद्र और पिंकु दोनोंअपने परिवार के इकलौते चिराग थे। दोनों के एक साथ मृत्यु से दोनों परिवारों में मातम पसर गया है। मोकामा रेफरल अस्पताल में जुटे परिजनों ने बताया कि दोनों अकेले भाई थे और परिवार का एकमात्र सहारा थे। पिंकू के पिता का निधन काफी पहले हो गया था और वह अपनी मां का एकमात्र सहारा था। नागेंद्र भी घर का इकलौता चिराग था। उसकी एक बहन थी।

नागेंद्र।

पिंकू।

पिछले साल भी दुर्घटना में घायल हुआ था नागेंद्र

पिछले साल भी हुई थी दुर्घटना सबनीमा निवासी नागेंद्र कुमार पिछले साल भी हादसे की चपेट में आया था। पिछली बार भी वह इसी तरह सड़क दुर्घटना का शिकार हुआ था। इंटर का परीक्षा फॉर्म भरकर लौटने के दौरान वह पिछले साल भी हादसे का शिकार हुआ था। काफी दिनों तक वह अस्पताल में भर्ती भी रहा था। उस हादसे के बाद उसके घर वाले उसे बाइक चलाने नहीं देते थे। पिछली साल वाली घटना इस साल भी दोहरा गई और इस बार परीक्षा एडमिट कार्ड और बैग लाने के लिए वह घर से निकला। घर वाले बाइक से जाने से मना भी कर रहे थे लेकिन वह जल्दी जाकर आने की बात कह घर से निकला था। हादसे के तुरंत बाद उसकी मां ने घर आने के बारे में पूछने के लिए फोन किया तो घरवालों को दुर्घटना की जानकारी हुई। नागेंद्र की मौत घटनास्थल पर ही हो गई थी जबकि पिंकु ने रेफरल अस्पताल में दम तोड़ दिया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×