• Home
  • Bihar
  • Patna
  • सीबीएसई पेपर लीक|10वीं के गणित के प्रश्नपत्र वायरल होने के मामले में चतरा पुलिस का बड़ा खुलासा
--Advertisement--

सीबीएसई पेपर लीक|10वीं के गणित के प्रश्नपत्र वायरल होने के मामले में चतरा पुलिस का बड़ा खुलासा

सीबीएसई 10 वीं के गणित का प्रश्नपत्र पटना के दो छात्रों ने परीक्षा शुरू होने से एक दिन पहले यानी 27 मार्च को चतरा में...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:00 AM IST
सीबीएसई 10 वीं के गणित का प्रश्नपत्र पटना के दो छात्रों ने परीक्षा शुरू होने से एक दिन पहले यानी 27 मार्च को चतरा में रहने वाले रिश्तेदार छात्रों को भेजा था। चतरा के छात्र वहां चलने वाले स्टडी विजन कोचिंग सेंटर ले गए। उसी कोचिंग में प्रश्नपत्र हल हुआ था।

इस मामले में चतरा पुलिस ने 12 लोगों को गिरफ्तार किया है जिसमें पटना के दो नाबालिग छात्र भी हैं। इन दो छात्रों में एक गया के बाराचट्टी का रहने वाला है। वह 12 वीं का छात्र है। जबकि दूसरा उसी के साथ रहकर पटना में पढ़ाई करने वाला नौवीं का छात्र है। चतरा एसपी अखिलेश बी वारियर ने शनिवार को प्रेस कांफ्रेंस कर दावा किया कि पटना के दो छात्रों ने ही चतरा के छात्रों को प्रश्नपत्र वाट्सएप किया था। हालांकि वे इस बात का खुलासा नहीं कर सके कि पटना के छात्रों के पास प्रश्नपत्र किसने भेजा था। बहरहाल, इस मामले में चतरा पुलिस ने 9 नाबालिग छात्र समेत 12 लोगों को गिरफ्तार किया है। 9 नाबालिग छात्रों को बाल बंदी सुधार गृह हजारीबाग भेजा गया। पटना के दोनों छात्रों को चतरा पुलिस शुक्रवार को रामकृष्णानगर इलाके से पकड़ कर ले गई थी। पटना के एसएसपी मनु महाराज ने कहा कि उन्हें चतरा पुलिस ने यह सूचना नहीं दी है कि वह पटना से दो छात्रों को पकड़ कर ले गई है।

परीक्षा से एक दिन पहले पटना के दो छात्रों ने चतरा के छात्रों को वाट्सएप पर किया था पेपर लीक,12 गिरफ्तार

पटना में वायरल मैथ्स का पेपर

मंगलवार रात 9:12 बजे पटना में वायरल हुआ पेपर

बड़ा सवाल-पटना के छात्रों के पास कहां से आए प्रश्नपत्र

चतरा पुलिस को खुलासा करना चाहिए कि पटना के दोनों छात्रों के पास प्रश्नपत्र कहां से आए। हालांकि पटना समेत बिहार के कई जिलों में छात्रों के वाट्सएप पर पेपर अाए थे।

बुधवार को परीक्षा में पूछे गए वही सारे प्रश्न

काेचिंग संचालक, पार्टनर व टीचर भी गए जेल

जिन छात्रों को सुधार गृह भेजा गया है, उनमें तीन डीएवी और एक नजरथ विद्या निकेतन चतरा के छात्र है। इनके पास से पेपर लीक से जुड़े चिट और मोबाइल मिले थे। इनका सेंटर चतरा के जवाहर नवोदय विद्यालय में था। नवोदय विद्यालय के प्राचार्य के बयान पर चतरा सदर थाना में इन चारों छात्रों पर प्राथमिकी दर्ज की गई थी। इधर, इस मामले में चतरा के काेचिंग संचालक सतीश कुमार पांडेय व पंकज सिंह और इसी काेचिंग में गणित के टीचर हमेश को चतरा जेल भेज दिया गया। कोचिंग संचालक एबीवीपी का जिला संयोजक है।

चिट के साथ पकड़े गए तो हुआ पर्दाफाश

दरअसल पेपर लीक का राज 28 मार्च को चतरा के जवाहर नवोदय विद्यालय परीक्षा केंद्र पर खुला। उस दिन दसवीं गणित की परीक्षा थी। कुछ छात्र चिट के साथ परीक्षा देने पहुंचे, चार परीक्षार्थियों के पास से वीक्षक ने चिट पकड़ा था। वीक्षक ने इसकी जानकारी प्राचार्य को दी। प्राचार्य डॉ. देवेश नारायण ने उन बच्चों को परीक्षा देने दिया और बाद में सभी को सर्च किया। सर्च करने पर एक परीक्षार्थी के पास से एनड्राइड मोबाइल मिला। वाट्सएप को खोलने के बाद सारा मामला खुल गया और चार छात्रों पर केस दर्ज हुआ था।

इधर, दोबारा परीक्षा लेने को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती; याचिकाकर्ता ने कहा-सीबीएसई का फैसला असंवैधानिक

सीबीएसई हेडक्वार्टर पर देर रात एसआईटी की छापेमारी

नई दिल्ली | सीबीएसई के पेपर लीक होेने की जांच कर रही दिल्ली पुलिस की एसआईटी ने शनिवार रात करीब 9.30 बजे सीबीएसई के प्रीत विहार स्थित मुख्यालय पर छापा मारा। सभी 11 फ्लोर में देर रात तक गहन छानबीन जारी थी। इससे पहले, एसआईटी ने शनिवार दिनभर एक प्राइवेट स्कूल के प्रिंसिपल और सीबीएसई के एक कर्मचारी सहित तीन लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की थी। इधर, पेपर लीक मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। 12वीं अर्थशास्त्र का पेपर देशभर में और 10वीं का गणित का पेपर कुछ जगहों पर दोबारा करवाने के फैसले को मनमाना व असंवैधानिक बताते हुए इस पर रोक की मांग की गई है।