Home | Bihar | Patna | ई-रिक्शा से ई-कचरा कलेक्ट करेंगी महिलाएं, रिसाइकिल के लिए जाएगा सोनीपत और चेन्नई

ई-रिक्शा से ई-कचरा कलेक्ट करेंगी महिलाएं, रिसाइकिल के लिए जाएगा सोनीपत और चेन्नई

शहर में ई-कचरा (इलेक्ट्रॉनिक कचरा) कलेक्शन का काम अब ई-रिक्शा से महिलाएं करेंगी। महिलाएं खुद ही ई-रिक्शा चलाएंगी और...

Bhaskar News Network| Last Modified - Mar 09, 2018, 02:00 AM IST

ई-रिक्शा से ई-कचरा कलेक्ट करेंगी महिलाएं, रिसाइकिल के लिए जाएगा सोनीपत और चेन्नई
ई-रिक्शा से ई-कचरा कलेक्ट करेंगी महिलाएं, रिसाइकिल के लिए जाएगा सोनीपत और चेन्नई
शहर में ई-कचरा (इलेक्ट्रॉनिक कचरा) कलेक्शन का काम अब ई-रिक्शा से महिलाएं करेंगी। महिलाएं खुद ही ई-रिक्शा चलाएंगी और कचरा जमाकर गोडाउन तक पहुंचाएंगी। इसके बाद ई-कचरे को रिसाइकलिंग के लिए चेन्नई और सोनीपत भेजा जाएगा। अतंरराष्ट्रीय महिला दिवस पर इसकी विधिवत शुरुआत ‘करो संभव’ संस्था के सहयोग से निदान ने की।

गांधी मैदान स्थित आईएमए हॉल से ई-कचरा कलेक्शन के लिए ई-रिक्शा का फ्लैग ऑफ जदयू विधायक श्याम रजक, बिहार राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के चेयरमैन डाॅ. अशोक घोष और निदान के निदेशक रंजन कुमार सिंह ने किया।

एक ई रिक्शा में रहेगी दो-दो महिलाओं की टीम

निदान के निदेशक रंजन कुमार सिंह ने बताया कि कचरा कलेक्शन करनेवाली 1210 गरीब महिलाओं को चिह्नित किया गया है। इन्हें स्वयं सहायता समूह से जोड़ा गया है। छह महिलाओं को ई-रिक्शा चलाने और ई-कचरा कलेक्शन का प्रशिक्षण दिया गया है। वर्तमान में एक ई-रिक्शा की खरीद हुई है। एक ई-रिक्शा में दो महिलाओं की टीम रहेगी। वे उन 1210 महिलाओं के यहां से कचरा जमा करेंगी और 1210 महिलाएं डोर टू डोर कलेक्शन कर रही हैं।

प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड हर संभव करेगा सहयोग

प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के चेयरमैन डाॅ. अशोक घोष ने बताया कि ई-कचरा कलेक्शन एक सराहनीय कदम है। प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड हर संभव सहयोग करेगा। ई वेस्ट का मैनेजमेंट होना बहुत जरूरी है। पहले ई वेस्ट इतना अधिक जेनरेट नहीं होता था। जैसे जैसे आधुनिकीकरण हुआ नए-नए उपकरण आए। ई वेस्ट अधिक जेनरेट होने और सही इसका प्रबंधन नहीं होने की वजह से इसका दुष्प्रभाव भी पड़ने लगा है। कैंसर मरीजों की संख्या भी बढ़ी है। 10 साल के बच्चे भी कैंसर पीड़ित हो रहे हैं।

ई-रिक्शा का फ्लैग ऑफ करते विधायक श्याम रजक।

10 शहरों में काम करेगी ‘करो संभव’ संस्था

करो संभव संस्था के जोनल मैनेजर विपिन उपाध्याय ने बताया कि पूरे भारत में 460 टन ई वेस्ट कलेक्ट किया है। इसमें निदान का सबसे बड़ा योगदान है। निदान के सहयोग से 10 टन ई वेस्ट कलेक्ट किया गया है। पटना, मुजफ्फरपुर और गया में अभी ई वेस्ट कलेक्शन के लिए निदान के साथ करार हुआ है। अब कुल 10 शहरों में करो संभव निदान के साथ काम करने जा रहा है। इस मौके पर अनिंदो बनर्जी, राकेश कुमार आदि उपस्थित थे।

prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now