• Home
  • Bihar
  • Patna
  • नीतीश ने कहा-सड़क हादसे के दोषियों को सख्त सजा दिलाएंगे
--Advertisement--

नीतीश ने कहा-सड़क हादसे के दोषियों को सख्त सजा दिलाएंगे

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि हम सड़क दुर्घटना के जिम्मेदारों को सख्त सजा दिलाने चाहते हैं। इसका इंतजाम किया...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:00 AM IST
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि हम सड़क दुर्घटना के जिम्मेदारों को सख्त सजा दिलाने चाहते हैं। इसका इंतजाम किया जा रहा है। दोषी ड्राइवर को अधिकतम 10 वर्ष सजा देने का प्रावधान है लेकिन किसी तरह उसे 2 वर्ष की ही सजा मिल पाती है। हमने मुजफ्फरपुर सड़क हादसे में स्कूली बच्चों की मौत के बाद सजा तथा दूसरे मसलों के बारे में ठोस कार्ययोजना बनाने की बात अफसरों से कही है। नीतीश, बुधवार को विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर सरकार का पक्ष रख रहे थे। बोले-लॉ एंड आर्डर के मुद्दे पर किसी तरह की कोताही बर्दाश्त नहीं होगी। अपराध के मुद्दे पर सरकार गंभीर है और अपराध करके कोई बच नहीं सकता। अब जिला नहीं, थाना स्तर पर भी अपराध की मॉनिटरिंग होगी। अपराध पर माकूल रोकथाम के लिए इसका माइक्रो लेवल पर मॉनिटरिंग की व्यापक कार्ययोजना पर काम हो रहा है। हम अपराध की रोकथाम के लिए जो भी उपाय होंगे, करेंगे। कानून का राज हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। यह कायम है, रहेगा।

सजा बढ़ाने के लिए केंद्र से करेंगे बात

सीएम ने मुजफ्फरपुर में सड़क दुर्घटना में स्कूली बच्चों की मृत्यु पर गहरा दुख व्यक्त किया और कहा कि यह घटना मर्माहत करने वाली है। इस मामले पर हमें संवेदनशील होना होगा। यह राजनीति का विषय नहीं है। दोषी पर सख्त कार्रवाई होगी और कोई बचेगा नहीं। लेकिन हमें ऐसी घटनाओं की रोकथाम के लिए प्रभावी कदम उठाने होंगे। सीएम ने इस मुद्दे पर सभी सदस्यों से भी सहयोग मांगा और कहा कि वे इसपर गंभीरता से सोचें। यदि इस विषय पर चिंतन नहीं किया गया तो समाधान नहीं निकल सकता। आईपीसी के तहत अनजाने में दुर्घटना से मौत होने पर चालक को दो साल की जबकि जानबूझकर घटना को अंजाम देने पर 10 साल या आजीवन कारावास की सजा का प्रावधान किया गया है। हम इसे और कड़ा करने के पक्षधर हैं। लेकिन, यह केन्द्रीय कानून है, लिहाजा इसमें आगे किया हो सकता है, इसपर विचार किया जा रहा है। क्या राज्य स्तर पर कोई कानून बनाया जा सकता है या फिर केन्द्र से अनुमति लेकर कुछ किया जा सकता है, इन सारे विषयों पर विचार हो रहा है।