Hindi News »Bihar »Patna» गंगा में कच्ची दरगाह-बिदुपुर ब्रिज के 87 में से अभी 30 पाये ही बन रहे

गंगा में कच्ची दरगाह-बिदुपुर ब्रिज के 87 में से अभी 30 पाये ही बन रहे

गंगा में बन रहे कच्ची दरगाह-बिदुपुर सिक्स लेन ब्रिज की अबतक की निर्माण गाथा अद‌्भुत है। इसका शिलान्यास अगस्त, 2015 और...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 02:05 AM IST

गंगा में बन रहे कच्ची दरगाह-बिदुपुर सिक्स लेन ब्रिज की अबतक की निर्माण गाथा अद‌्भुत है। इसका शिलान्यास अगस्त, 2015 और कार्यारंभ फरवरी, 2016 में किया गया। लेकिन, असल निर्माण जनवरी, 2017 में शुरू हुआ। बिहार राज्य पथ विकास निगम ने निर्माण एजेंसी देवू-एलएंडटी के साथ जो करार किया उसके मुताबिक 16 जनवरी, 2017 से 15 जनवरी, 2021 यानी 4 साल में निर्माण कार्य पूरा करना है। लेकिन, गुरुवार को पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव के स्थलीय कार्य निरीक्षण में यह बात सामने आई कि 9.76 किमी लंबे इस ब्रिज में अभी 30 पायों का निर्माण हो रहा है। कुल 87 पाये बनाए जाने हैं। अन्य पायों के लिए स्वायल टेस्टिंग का काम शुरू है।

अबतक हो सका है 15 फीसदी निर्माण

गुरुवार को पटना सिरे पर अवस्थित अपने प्रोजेक्ट साइट में निर्माण एजेंसी ने पूरे तामझाम के साथ पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से बताया कि 3115 करोड़ के इस प्रोजेक्ट में 50 करोड़ रुपए खर्च कर 15 फीसदी निर्माण हो पाया है। हालांकि तय कार्ययोजना के मुताबिक जनवरी, 2018 तक 156 करोड़ खर्च करने थे। प्रोजेक्ट के लिए कुल 313 एकड़ जमीन अधिग्रहण की जरूरत है, जिसमें 243 एकड़ जमीन निर्माण एजेंसी को मिली है। यह ब्रिज पटना के कच्ची दरगाह से राघोपुर दियारा होते हुए वैशाली के बिदुपुर तक बनेगा। पटना की तरफ और राघोपुर दियारा में काम शुरू हो गया है। वहीं वैशाली की तरफ अभी काम शुरू नहीं हो पाया है। हालांकि निरीक्षण के दौरान निर्माण एजेंसी को काम में और तेजी लाने का निर्देश देते हुए पथ निर्माण मंत्री ने संतोष जताया। उन्होंने कहा-प्रगति ठीक है। सभी संसाधनों की व्यवस्था कर एजेंसी ने निर्माण गति पकड़ ली है।

राघोपुर दियारा में निर्माण स्थल का पथ निर्माण मंत्री ने किया निरीक्षण

कच्चीदरगाह-बिदुपुर के बीच बन रहे छह लेन वाले पुल में पाया का काम करते एजेंसी कर्मी।

निर्माण एजेंसी का दावा-समय पर पूरा करेंगे काम

दुनिया का यह सबसे लंबा 9.76 किमी वाला एक्स्ट्रा डोज केबल सिक्स लेन ब्रिज बन रहा है। ब्रिज के बन जाने से राघोपुर दियारा का कायाकल्प हो जाएगा। ब्रिज पर दियारे से भी चढ़ने की व्यवस्था होगी। 4988 करोड़ की कुल लागत वाले इस ब्रिज का पटना सिरा एनएच-30 पर सबलपुर में तो वैशाली सिरा एनएच-103 पर सरमस्तपुर में गिरेगा। इसके लिए एडीबी ने 3396 करोड़ का लोन दिया है। भूमि अधिग्रहण पर 697 करोड़ खर्च हो रहे हैं। वैशाली की तरफ (एनएच-103) 6/8 लेन वाले इस एप्रोच रोड की लंबाई 13 किलोमीटर है, वहीं पटना की तरफ कच्ची दरगाह से नवनिर्मित पटना-बख्तियारपुर (एनएच-30) हाईवे तक एप्रोच रोड बनेगा। इससे उत्तर और दक्षिण बिहार के विकास का रास्ता प्रशस्त होगा। गांधी सेतु का यह सबसे बढ़िया विकल्प होगा। निरीक्षण के दौरान देवू के निदेशक मिस्टर किम और एलएंडटी के निदेशक आर रंगनाथन ने दावा किया कि जनवरी, 2021 में तय समय पर काम पूरा करेंगे। इस पुल के निर्माण की बारीकियां जानने के लिए हाइवे म्यूजियम भी बनाया जाएगा जिसमें ब्रिज की निर्माण संबंधी सभी जानकारी रखी जाएगी। इस दौरान पथ निर्माण विभाग के प्रधान सचिव एएल मीणा और पथ विकास निगम के सीजीएम चंद्रशेखर भी उपस्थित थे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×