• Home
  • Bihar
  • Patna
  • राज्य के उद्यमी नहीं उठा रहे डिजाइन क्लिनिक का फायदा
--Advertisement--

राज्य के उद्यमी नहीं उठा रहे डिजाइन क्लिनिक का फायदा

पटना|डिजाइन क्लिनिक स्कीम का उद्देश्य सूक्ष्म, लघु व मध्यम उद्योगों में डिजाइन को सन्निहित करना है, ताकि उद्यमी...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:05 AM IST
पटना|डिजाइन क्लिनिक स्कीम का उद्देश्य सूक्ष्म, लघु व मध्यम उद्योगों में डिजाइन को सन्निहित करना है, ताकि उद्यमी अंतरराष्ट्रीय बाजार में हो रही प्रतिस्पर्धा का सामना कर सकें। केंद्र सरकार स्कीम के तहत डिजाइन प्रोजेक्ट के लिए 40 लाख तक की वित्तीय सहायता प्रदान करती है। लेकिन, इस स्कीम के बारे में जागरुकता की कमी है। ये बातें बुधवार को सूक्ष्म, लघु व मध्यम उद्यम विकास संस्थान द्वारा आयोजित सेमिनार में सामने आईं। बिहार इंडस्ट्रीज एसोसिएशन व बिहार महिला उद्योग संघ द्वारा इसका आयोजन बीआईए सभागार में किया गया था। उद‌्घाटन निदेशक एआर गोखे ने किया। सहायक निदेशक (विद्युत) नवीन कुमार ने स्कीम पर जानकारी दी। बीआईए अध्यक्ष केपीएस केशरी ने उद्यमियों से स्कीम का लाभ उठाने की अपील की। टीआरसी पटना के सलाहकार डीके सिंह ने कहा कि डिजाइन प्रोजेक्ट की जानकारी की अभी कमी है। बीआईए के पूर्व अध्यक्ष राम लाल खेतान, दलित इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के बिहार चैप्टर के चेयरमैन दिनेश पासवान, बिहार महिला उद्योग संघ की कोषाध्यक्ष मेनका सिन्हा, निशीथ जायसवाल ने विचार रखे। आईआईटी पटना के एसोसिएट प्रोफेसर सोमनाथ सारंगी, निफ्ट पटना के प्रोफेसर सत्येंद्र कुमार मिश्रा, सीपेट के निदेशक पीसी पाढ़ी, एमएसएमई विकास संस्थान के सहायक निदेशक गोपाल कुमार सिन्हा भी मौजूद थे।