• Home
  • Bihar
  • Patna
  • सरकारी तंत्र में कुछ लोग शराब के धंधे में लगे हैं, पर हम किसी को छोड़ने वाले नहीं
--Advertisement--

सरकारी तंत्र में कुछ लोग शराब के धंधे में लगे हैं, पर हम किसी को छोड़ने वाले नहीं

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि शराबबंदी साहसिक कदम है। कई राज्यों में इस पर विचार हुआ, लेकिन राजस्व में होने...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:10 AM IST
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि शराबबंदी साहसिक कदम है। कई राज्यों में इस पर विचार हुआ, लेकिन राजस्व में होने वाली कमी को देखते हुए सरकारें शराबबंदी के फैसले से पीछे हट गईं। लेकिन मैंने इसे लागू किया। राज्य में शराबबंदी लागू होने के बाद अपराध और घरेलू हिंसा में कमी आई है। समाज में शांति का माहौल है। वह विधान परिषद में बुधवार को राज्यपाल के अभिभाषण पर सरकार का पक्ष रख रहे थे।

उन्होंने कहा कि सरकारी तंत्र में भी कुछ लोग शराब के धंधे में लगे हुए हैं, लेकिन हमलोग किसी को छोड़ने वाले नहीं है। हमारा पूरा सिस्टम इसके लिए लगा हुआ है। तंत्र को और दुरुस्त करने के लिए पुलिस महानिरीक्षक (आईजी), मद्य निषेध का नया पद सृजित किया गया है, जो सीआईडी के अधीन होगा। आईजी, मद्य निषेध को यह अधिकार होगा कि पूरे राज्य में मद्य निषेध से संबंधित कोई केस अपने अधीन ले सकता है और केस की प्रगति की समीक्षा भी कर सकता है। उन्होंने कहा कि आईजी मद्य निषेध को डीजीपी और गृह सचिव से किसी भी मामले में इजाजत लेने की जरूरत नहीं होगी। कार्रवाई को तार्किक परिणति तक पहुंचाने की स्वतंत्र जिम्मेदारी इनके पास होगी।

शिकायत के लिए होगा एक नंबर

मुख्यमंत्री ने कहा कि शिकायत के लिए पूरे राज्य में एक ही नंबर होगा, जिसका प्रचार-प्रसार जमकर किया जाएगा। इस पर कोई भी व्यक्ति पीने वालों की सूचना दे सकता है। इसके लिए हाईटेक कॉल सेंटर बनाया जा रहा है। इसका ट्रायल भी मार्च से शुरू हो जाएगा। इसमें कॉल करने वालों की पहचान गुप्त रखी जाएगी और शिकायत पर तार्किक कार्रवाई की जाएगी।

विधानमंडल में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार।

31 मार्च के बाद सभी जिलों में मिलेंगे जमीन के नक्शे

एक अप्रैल से अंचलों में भू-लगान का होगा ऑनलाइन भुगतान

पटना|मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा- जमीन के रिकाॅर्ड को अप टू डेट किया जा रहा है। इस साल पहली अप्रैल से बिहार में कई चीजें बदल जाएंगी। एक अप्रैल से सभी अंचलों में ऑनलाइन दाखिल-खारिज होगा, जबकि इसी तारीख से भू-स्वामी लगान का भुगतान भी ऑनलाइन कर सकेंगे। 31 मार्च के बाद सभी जिलों में भू-मानचित्र उपलब्ध होंगे। पूरे प्रदेश में जमीन का सर्वेक्षण और बंदोबस्त का काम 2022 तक पूरा कर लिया जाएगा। वह बुधवार को विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर सरकार का पक्ष रख रहे थे।

स्पीड ब्रेकर समाधान नहीं : सीएम के अनुसार, आबादी बढ़ती जा रही है और गुड्स का मूवमेंट भी हो रहा है, इससे सड़कों पर परिचालन का भार बढ़ रहा है। स्पीड ब्रेकर समाधान नहीं। सड़क सुरक्षा के मद्देनजर कानून में प्रावधान, संरचना में सुधार, सुरक्षा और जागरूकता जैसे हर पहलुओं को ध्यान में रखते हुए समाधान निकालना होगा, ताकि मुजफ्फरपुर जैसी घटनाओं पर रोक लग सके। उन्होंने कहा कि हम ट्वीट करके और बयानबाजी नहीं करते। कुछ लोगों का यही काम है। ट्वीट करना और पीछे जमीन हड़पना।

‘महागठबंधन में रहते तो

जेल जाकर मिलना पड़ता’

मुख्यमंत्री ने जहां तेजस्वी यादव को संयम का पाठ पढ़ाया, वहीं पूर्व मंत्री अब्दुल बारी सिद्दीकी और चंद्रिका राय पर चुटकी भी ली। वह बिना नाम लिए राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद पर भी जमकर बरसे। उन्होंने महागठबंधन तोड़ने के पहले की अपनी पीड़ा का भी इजहार किया। उन्होंने जनादेश को लेकर अपनी मंशा भी स्पष्ट कर दी और कहा कि जनता ने उन्हें क्यों सरकार बनाने का आदेश दिया। जनता ने उन्हें बयानबाजी करने के लिए नहीं चुना, काम करने के लिए कहा है। आज वे वही कर रहे हैं।

सिद्दीकी-चंद्रिका राय पर ली चुटकी

संबोधन के दौरान अब्दुल बारी सिद्दीकी ने उन्हें कई बार टोका तो चुटकी ली- सरकार में थे तो कुछ बोलते ही नहीं थे। वित्त जैसा बड़ा विभाग मिला था, पर कमर्शियल टैक्स विभाग नहीं मिलने से चिंतित रहते थे। पूर्व परिवहन मंत्री चंद्रिका राय ने भी रोड सेफ्टी को लेकर सरकार पर हमला बोला तो सीएम ने कहा- जब काम करना था तो किया नहीं।

शोरशराबे के कारण दो घंटे स्थगित रही कार्यवाही

पटना|विधानसभा में बुधवार को विपक्ष ने इस कदर हंगामा किया कि महज 96 सेंकेंड के शोरशराबे में सदन की कार्रवाई 120 मिनट तक के लिए स्थगित कर दी गई। सुबह 11 बजे सदन की कार्रवाई जैसे ही शुरू हुई, विपक्षी सदस्य वेल में आकर नारेबाजी करने लगे। इसके पहले भाकपा माले के महबूब आलम ने बढ़ते अपराध अौर राजद के शिवचंद्र राम ने मुजफ्फरपुर में दुष्कर्म का मामला उठाया था। विपक्ष के हंगामे को देखते हुए विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने सदन की कार्रवाई दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी। उधर, हंगामा व नारेबाजी के कारण विधान परिषद की पहली पाली 20 मिनट तक ही चली। प्रश्नकाल शुरू होते ही मुजफ्फरपुर हादसे को लेकर फिर शोरगुल शुरू हो गया। उपसभापति ने 12:20 बजे परिषद की कार्यवाही स्थगित कर दी।

एनडीए सरकार के 6 माह में हुए 36 घोटाले : राबड़ी

पटना|विधान परिषद में राजद की नेता व पूर्व सीएम राबड़ी देवी ने नीतीश सरकार पर जमकर हमला बोला। कहा- नीतीश कुमार की नेतृत्व वाली एनडीए सरकार के 6 महीने में 36 घोटाले हुए हैं। इसमें संलिप्त लोगों पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। कार्रवाई होगी भी कैसे, केंद्र और राज्य में एक ही गठबंधन की सरकार है। ईडी केंद्र के दबाव में केवल मेरे परिवार पर कार्रवाई कर रहा है। वह बुधवार को विधान परिषद में राज्यपाल के अभिभाषण पर राजद का पक्ष रख रही थी। उन्होंने कहा कि राज्य में अपराधी बेलगाम हो गए हैं। दिनदहाड़े लोगों की हत्याएं हो रही हैं। डकैती और अपहरण की घटनाओं में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। आंदोलन करने वाली महिलाओं पर लाठीचार्ज किया जाता है। वहीं महागठबंधन के 18 महीने के शासनकाल में किसी महिला पर लाठी नहीं चली।

विधानसभा