• Hindi News
  • Bihar
  • Patna
  • स्कूल में क्वालिटी एजुकेशन मिले तो बच्चे क्यों जाएं कोचिंग
--Advertisement--

स्कूल में क्वालिटी एजुकेशन मिले तो बच्चे क्यों जाएं कोचिंग

कभी बच्चे स्कूल में ही सारा कोर्स पूरा कर लिया करते थे। आज उनको कोचिंग पर निर्भर रहना पड़ता है। ऐसा सिर्फ शिक्षा के...

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 02:10 AM IST
स्कूल में क्वालिटी एजुकेशन मिले तो बच्चे क्यों जाएं कोचिंग
कभी बच्चे स्कूल में ही सारा कोर्स पूरा कर लिया करते थे। आज उनको कोचिंग पर निर्भर रहना पड़ता है। ऐसा सिर्फ शिक्षा के बाजारीकरण के कारण हो रहा है। ये बातें रविवार को “कोचिंग के मकड़जाल में फंस रहे हैं बच्चे’ विषय पर परिचर्चा करते हुए स्टूडेंट्स ऑक्सीजन मूवमेंट के संयोजक विनोद सिंह ने कहा। उन्होंने कहा कि टीचरों को कोचिंग इंस्टिट‌्यूट को ढाल बनाने से बाज आना चाहिए। वरना एजुकेशन गरीब बच्चों के वश से बाहर हो जाएगा। स्टूडेंट्स ऑक्सीजन मूवमेंट की आर्ट कोआॅर्डिनेटर पूजाश्री ने कहा कि हमें एजुकेशन लाइन के भ्रष्टाचार को मिटाना होगा।

संत एमजी हाई स्कूल की सपना ने कहा कि ऐसे टीचरों को रोकें जो इसे बिजनेस बना रहे हैं। एएन कॉलेज के सुमन ने कहा कि बच्चों को ऐसी पढ़ाई की जरूरत है जिससे वो कोचिंग पर डिपेंडेंट न रहें। इसी कॉलेज की प्राची ने कहा कि हमारे स्कूलों में पढ़ाई ऐसी हो कि हमें कोचिंग न जाना पड़े।

परिचर्चा में गवर्नमेंट हाई स्कूल की बेबी, संत पॉल हाई स्कूल की कशिश,जेपी के इंटर कॉलेज की शिल्पी शांडिल्य, नवदीप्ति एकेडमी की दीप्ति, शिवम पब्लिक स्कूल की खुशी, नवदीप्ति अकादमी की प्रतीक्षा, बांकीपुर गर्ल्स हाई स्कूल की निशा राय, श्रीराम लखन सिंह हाई स्कूल की विभा, संज जॉन हाई स्कूल के अमित, केन्द्रीय विद्यालय की श्रुति, होली मिशन हाईस्कूल की सुरुचि और डीएवी पब्लिक हाईस्कूल के अनिकेत राज ने भी अपनी अहम भागीदारी निभाई।

अंत में बच्चों ने अपने बीच से तीन छात्र नेताओं का चयन किया। इनमेंमें एएन कॉलेज की प्राची, इसी कॉलेज के सुमन और गवर्नमेंट हाई स्कूल की बेबी को पहला, दूसरा और तीसरा स्थान मिला।

स्टूडेंट्स ऑक्सीजन मूवमेंट में शिक्षा के बाजारीकरण पर अपनी बात रखते बच्चे।

X
स्कूल में क्वालिटी एजुकेशन मिले तो बच्चे क्यों जाएं कोचिंग
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..