• Hindi News
  • Bihar
  • Patna
  • नाटक ने दिखाया छल-कपट का फल हमेशा होता है बुरा
--Advertisement--

नाटक ने दिखाया छल-कपट का फल हमेशा होता है बुरा

पटना

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:10 AM IST
नाटक ने दिखाया छल-कपट का फल हमेशा होता है बुरा
पटना
एक पुरानी कहावत है कि जो दूसरे के लिए गड‌्ढा खोदता है वह स्वयं उसमें गिरता है। छल-कपट करने की सोचने वाले के साथ भी बुरा होता है। इतिहास बताता है कि जब नफरत के सौदागर अपने ही बुने जाल में फंस गए हैं। कुछ ऐसी ही बातें दिखा गया कालिदास रंगालय में मंचित नाटक ‘बुद्धम शरणम गच्छामि’। पुखराज फाउंडेशन की ओर से मंचित इस नाटक के निर्देशक थे उपेंद्र कुमार। इसमें दिखाया गया कि देवदत्त बुद्ध के आश्रम का उत्तराधिकारी बनना चाहता है। उसकी गलत हरकतों से परिचित बुद्ध उसके प्रस्ताव को ठुकरा देते हैं जिससे वह अपमानित महसूस करने लगता है। वह प्रण करता है कि इसका बदला जरूर लेगा। वह अजातशत्रु से दोस्ती कर उसका सहयोग चाहता है। इसके लिए वह बिम्बिसार की हत्या करवाता है। अजातशत्रु को अपने इस कुकर्म पर पछतावा होता है और वह देवदत्त की हत्या करना चाहता है। अंत में महामात्य के समझाने पर वह बुद्ध की शरण में जाता है और कहता हैं कि बुद्धम शरण गच्छामि।

कलाकार



प्रदीप गांगुली


स्नेहा रानी, प्रकाश


उपेंद्र कुमार

X
नाटक ने दिखाया छल-कपट का फल हमेशा होता है बुरा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..