• Home
  • Bihar
  • Patna
  • पहली बार बिहार की नृत्यांगना से गुलजार हुआ खजुराहो महोत्सव
--Advertisement--

पहली बार बिहार की नृत्यांगना से गुलजार हुआ खजुराहो महोत्सव

सिटी रिपोर्टर| पटना यूं तो देश में क्लासिकल डांस से जुड़े कई फेस्टिवल होते हैं लेकिन इनमें सब से ज्यादा रेपुटेड...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 02:10 AM IST
सिटी रिपोर्टर| पटना

यूं तो देश में क्लासिकल डांस से जुड़े कई फेस्टिवल होते हैं लेकिन इनमें सब से ज्यादा रेपुटेड माना जाता है खजुराहो डांस फेस्टिवल। फेस्टिवल में देश और दुनिया के नामचीन आर्टिस्ट ही डांस पेश करते हैं। अब तक बिहार से किसी आर्टिस्ट को यहां डांस करने का मौका नहीं मिला था लेकिन पहली बार पिछले 22 फरवरी को बिहार की फेमस कथक आर्टिस्ट नीलम चौधरी ने इसमें डांस पेश कर देशभर के आर्ट क्रिटिक का ध्यान अपनी ओर खींचा है।

उन्होंने कथक के जिस रूप को वहां पेश किया वह बेहद मुश्किल माना जाता है। उनके डांस में ट्रेडिशनल कथक और कंटम्पररी कथक दोनों था। बिहार एडमिनिस्ट्रेशन सर्विस की सीनियर ऑफिसर नीलम कथक को स्टेट में बढ़ावा देने के लिए लंबे समय से काम कर रही हैं। नीलम बताती हैं कि पटना या बिहार में कथक या दूसरे क्लासिकल डांस गुरुओं की कमी रही है। 1990 में जब अपने गुरू बिरजू महाराज के पास गई तो पाया कि मुझे तो अभी काफी कुछ सीखना बाकी है। बिरजू महाराज जी से मैंने जो कथक सीखा वही अब अपने स्टूडेंट्स को सिखा रही हूं। मेरी कोशिश है कि बिहार से आने वाले समय में उम्दा आर्टिस्ट निकले जो नेशनल और इंटरनेशनल लेबल पर पहचान बनाए।

नीलम चौधरी

FACE