• Hindi News
  • Bihar
  • Patna
  • बिहार में साक्षरता दर 65 प्रतिशत होना चिंता की बात

बिहार में साक्षरता दर 65 प्रतिशत होना चिंता की बात / बिहार में साक्षरता दर 65 प्रतिशत होना चिंता की बात

Patna News - दलितविकास अभियान समिति की ओर से गुरुवार को पटना स्थित एलसीटी घाट के पास बीवीएचए के सभागार में भयमुक्त एवं...

Nov 17, 2017, 02:10 AM IST
बिहार में साक्षरता दर 65 प्रतिशत होना चिंता की बात
दलितविकास अभियान समिति की ओर से गुरुवार को पटना स्थित एलसीटी घाट के पास बीवीएचए के सभागार में भयमुक्त एवं सुरक्षित के संदर्भ में राज्य स्कूल प्रबंधन समिति सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस मौके पर एक पोस्टर जारी किया गया। जिसमें सुरक्षित माहौल में शिक्षा के लिए 11 सूत्री मांगें शामिल हैं। कार्यक्रम का उद्घाटन पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने किया।

उन्होंने कहा कि आजादी के 70 साल बाद भी बिहार में साक्षरता दर महज 65 प्रतिशत है। बिहार के लिए सबसे बड़ा चिंता का कारण है। शिक्षा को आधे-अधूरे ढंग से देखने के बजाय समग्रता में देखने की जरूरत है। शिक्षा का वास्तविक मतलब आजीविका के लिए कौशल हासिल करने के साथ-साथ सामाजिक सामंजस्य एवं एकता की भावना पैदा करना भी है। प्रोफेसर विनय कंठ ने कहा कि शिक्षा की गुणवत्ता तब तक संभव नहीं है। जब तक कि सभी सरकारी स्कूलों को एक सुरक्षित वातारण के साथ एक मजबूत एवं गुणवत्तापूर्ण ढांचे मुहैया किया जाए। केयर इंडिया की सीमा राजपूत ने कहा कि सरकार एवं राज्य को भयमुक्त एवं सुरक्षित शिक्षा के लिए विशिष्ट नीति बनानी होगी। अंबरीश राय ने कहा कि बिना कॉमन स्कूल सिस्टम के शिक्षा के क्षेत्र में समानता की बातें बेमानी है। इस सम्मेलन में पटना समेत 6 जिलों के एसएमसी फेडरेशन सदस्यों ने शिरकत की और करीब 150 से अधिक लोग मौजूद थे। सम्मेलन को अंबरीश राय, विद्यानंद विकल, सिद्धि सुधा वर्गीज, प्रो डेजी नारायण, अंजला तनेजा एवं अन्य सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भयमुक्त एवं सुरक्षित शिक्षा के संदर्भ विषय पर लोगों को संबोधित किया।

बीवीएचए के सभागार में आयोजित कार्यक्रम में बोलते पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी।

X
बिहार में साक्षरता दर 65 प्रतिशत होना चिंता की बात
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना