• Home
  • Bihar
  • Patna
  • तीन लाख की भी हैंडमेड साड़ियां मिल रही हैं यहां
--Advertisement--

तीन लाख की भी हैंडमेड साड़ियां मिल रही हैं यहां

पटना | ग्रामीण हस्तकला पर आयोजित नौ दिवसीय सिल्क एक्सपो का शुभारंभ शनिवार को तारामंडल सभागार में हुआ। एक्सपो में...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 02:15 AM IST
पटना | ग्रामीण हस्तकला पर आयोजित नौ दिवसीय सिल्क एक्सपो का शुभारंभ शनिवार को तारामंडल सभागार में हुआ। एक्सपो में देशभर से आए सिल्क बुनकरों ने अपने-अपने प्रदेश की संस्कृति, काव्य और त्यौहारों कोे सिल्क पर छापा है। एग्जिबिशन में लद्दाख सिल्क, तमिलनाडु का कांजीवरम सिल्क, उपाड़ा सिल्क, इकत सिल्क पर की गई कलाकारी लोगों को अपनी ओर खींच रही है।

ग्रामीण हस्तकला विकास समिति के सचिव जयेश गुप्ता ने बताया कि नेशनल सिल्क एक्सपो का मकसद देशभर के सिल्क उत्पादों को एक ही छत के नीचे प्रदर्शित करना है। इस प्रदर्शनी में आए बुनकर राजेश ने सिल्क पर नृत्यांगना, कृष्णा फेस, योग करते तपस्वी की तस्वीरें पेंट की हैं। कांचीपुरम से आए बुनकर सुरेश प्योर गोल्ड की जड़ी से बनी साड़ी लाए हैं। आठ माह में बनी इस साड़ी की कीमत साढ़े तीन लाख रुपए है। इसी तरह चांदी की जड़ी से बनी साड़ी भी इस एग्जीबिशन में खास है। कश्मीर से आए बुनकर अशरफ भाई अपने साथ प्योर कानी के स्टॉल्स और पशमीना शॉल लाए हैं।