--Advertisement--

नक्सली हमले के बाद रोकी गई ट्रेन, प्रेग्नेंट महिला ने अंदर ही दिया बच्चे को जन्म

सुबह करीब 7:00 बजे तिलैया जा रही लेडी पैसेंजर रिंकू देवी ने ट्रेन की जनरल कोच में बच्चे को जन्म दिया।

Danik Bhaskar | Dec 21, 2017, 05:56 AM IST

जमालपुर (मुंगेर). जमालपुर-किऊल रेलवे ट्रैक पर नक्सली वारदात की वजह से बुधवार को सुबह 07 बजे से शाम 6:00 बजे तक ट्रेन सर्विस रोकी गई। 13023 अप हावड़ा गया एक्सप्रेस ट्रेन के सुबह 5:05 बजे जमालपुर स्टेशन पहुंचने के बाद ट्रेन को जमालपुर में ही रोक दिया गया। जमालपुर स्टेशन पर खड़ी हावड़ा-गया एक्सप्रेस में सुबह करीब 7:00 बजे तिलैया जा रही लेडी पैसेंजर रिंकू देवी ने ट्रेन की जनरल कोच में बच्चे को जन्म दिया। रिंकू देवी हसबैंड सुनील राजवंशी के साथ हावड़ा से तिलैया जा रही थी।

स्टेशन पर शुरू हुई थी लेबर पेन

जमालपुर स्टेशन पर उन्हें लेबर पेन शुरू हुआ। लेबर पेन शुरू होने के बाद कोच में मौजूद पैसेंजर्स ने टीटीई से कॉन्टेक्ट किया। टीटीई की सूचना पर स्टेशन सुपरटेंडेंट सुधीर कुमार सिंह ने डिलिवरी के लिए डॉक्टर्स की व्यवस्था की। डॉ. राहुल कुमार की अगुवाई में डॉक्टर्स की टीम ने लेडी की डिलिवरी कोच में ही कराई। डिलिवरी के बाद जच्चा-बच्चा दोनों सुरक्षित हैं।

कई स्टूडेंट्स की छूटी परीक्षा


सुबह 10 बजे के बाद ट्रेन को जमालपुर में ही टर्मिनेट करने की घोषणा के बाद किऊल, शेखपुरा, नवादा, तिलैया एवं गया जाने वाले पैसेंजर्स के बीच अफरातफरी रही। ट्रेन में सवार मो. रियाजुल अंसारी ने बताया कि वह मौलाना मजहरुल हक अरबी एंड पर्सियन यूनिवर्सिटी पटना के स्टूडेंट हैं। बीएड पार्ट वन का प्रैक्टिकल एग्जाम में शामिल होने के लिए वारसलीगंज जा रहे थे। मगर, ट्रेन के रद्द होने की वजह से उनका प्रैक्टिकल एग्जाम छूट गया। खानकाह मुंगेर के रहने वाले मो. रियाजुल अंसारी ने बताया कि वैद्यनाथ कॉलेज ऑफ एजुकेशन मिल्कीसौर-चांदीपुर राजापुर मैं सुबह 11:00 बजे से उनका बीएड पार्ट वन का प्रैक्टिकल एग्जाम था। जो ट्रेन सेवा बाधित रहने से छूट गया। वकील संतोष कुमार ने बताया कि वह हावड़ा से नवादा अपने घर जा रहे थे। सुबह से शाम तक जमालपुर स्टेशन पर ही बिताना पड़ा।