--Advertisement--

मां से कहा- मेरे दिन कम बचे हैं, दर्शन कर आता हूं, फिर मंदिर में ऐसे की सुसाइड

लड़के ने गांव के पास स्थित शिवमंदिर के अंदर जाकर खुद को आग लगा ली, जिससे वह जिंदा जल गया।

Danik Bhaskar | Nov 23, 2017, 06:37 AM IST
मंदिर जिसमें अमूल ने आग लगाई और उसकी फाइल फोटो। मंदिर जिसमें अमूल ने आग लगाई और उसकी फाइल फोटो।

बेगूसराय. थाना एरिया के एक गांव में एक 18 साल के अमूल कुमार नाम के लड़के ने गांव के पास स्थित शिवमंदिर के अंदर जाकर खुद को आग लगा ली, जिससे वह जिंदा जल गया। उसने जाते हुए कहा कि मां मेरे दिन कम बचे हैं तुम मेरी लगातार रक्षा करती रहती हो। आज मंदिर जाकर पूजा कर आता हूं। घटना बुधवार को करीब 10 बजे दिन में हुई। मृतक इंटर का स्टूडेंट था।

पढ़ाई में तेज था मृतक

बताया जा रहा है कि अमूल पढ़ने में काफी तेज था। 2012 में मैट्रिक फर्स्ट डिवीजन से पास किया था। इसके बाद उसने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा 2013 में आयोजित विवेकानंद की जयंती पर डिस्ट्रिक्ट लेवल कॉम्पटेटिव एग्जाम में टॉप आया था, जिसके बाद उसे लैपटाप दिया गया था। उसकी मां चंदा देवी ने बताया कि वो सुबह नहा कर पूजा के लिए घर से निकला। उसने जाते हुए कहा कि मां मेरे दिन कम बचे हैं तुम मेरी लगातार रक्षा करती रहती हो। आज मंदिर जाकर पूजा कर आता हूं। जिसके बाद हाथ में कमंडल लेकर वह घर से निकल पड़ा।

पहले पूजा-पाठ की फिर केरोसिन उडे़ल कर लगा ली खुद को आग

गांववाले ने बताया कि अमूल मंदिर में गया। पूजा-पाठ किया। उसके बाद वह शिवलिंग के पास पहुंच गया। फिर उसने अपने शरीर पर कमंडल से केरोसिन उड़ेल लिया और अपने शरीर में आग लगा ली। देखते देखते वह जलने लगा। मंदिर के पुजारी छोटेलाल ठाकुर और गांव के अन्य लोग मंदिर से धुंआ उठते देख दौड़े। इधर, आग लगने के बाद अमूल जान बचाने के लिए मंदिर से बाहर निकला चाहा। लेकिन मंदिर के मुंह पर ही गिर गया। जब तक लोग उसके शरीर का आग बुझाते, तब तक उसकी मौत हो चुकी थी।

जहां अमूल पढ़ाई करता था, उस इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर राजेंद्र सिंह ने बताया कि 2016 की परीक्षा देने के पूर्व वह डिप्रेशन में शायद आ गया। उसके बाद क्लास में वह अनियमित रहने लगा। तीन महीने पहले उसने इंस्टीच्यूट आना भी छोड़ रखा था।

परिवार: दो भाइयों में बड़ा था अमूल

गांववालों ने बताया कि अमूल दो भाई था इससे छोटा भाई छठे क्लास में पढ़ता था। पढ़ाई में तेज होने के कारण अमूल कोई भी सवाल आसानी से हल कर लेता था। इसकी मेधा के अनुरूप पैसे की कमी के कारण उसके घर वाले सही शिक्षा की व्यवस्था नहीं कर पा रहे थे।

आगे की स्लाइड्स में देखें संबंधित फोटोज...

रोते बिलखते अमूल के परिजन और पास में रखी डेडबॉडी। रोते बिलखते अमूल के परिजन और पास में रखी डेडबॉडी।
घटना के बाद अमूल के घर पहुंचे पड़ोसी। घटना के बाद अमूल के घर पहुंचे पड़ोसी।
अमूल की फाइल फोटो। अमूल की फाइल फोटो।
इसी मंदिर में पूजा के लिए गया था अमूल। इसी मंदिर में पूजा के लिए गया था अमूल।
रोते बिलखते अमूल के परिजन। रोते बिलखते अमूल के परिजन।