Hindi News »Bihar »Patna» Cheat In Name Of Job In Railway

रेलवे ने वैकेंसी निकाली ही नहीं, मंत्री कोटा के नाम पर 12 से 3 लाख वसूले

दलालों ने रेलवे में नौकरी लगाने के नाम पर 12 से अधिक अभ्यर्थियों से करीब 40 से 50 लाख रुपए वसूली की है।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 14, 2017, 06:08 AM IST

  • रेलवे ने वैकेंसी निकाली ही नहीं, मंत्री कोटा के नाम पर 12 से 3 लाख वसूले
    दिघवारा (छपरा).दिघवारा थाना क्षेत्र के शीतलपुर में दलालों ने रेलवे में नौकरी लगाने के नाम पर 12 से अधिक अभ्यर्थियों से करीब 40 से 50 लाख रुपए वसूली की है। अभी और अभ्यर्थियों की शिकायत थाने पहुंच रही है। इस मामले में पीड़ितों ने छपरा न्यायालय में परिवाद दायर कर गुहार लगाई है।
    इस बाबत नयागांव थाना क्षेत्र के निवासी उमेश प्रसाद के पुत्र आर्यन राज ने मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी के न्यायालय में परिवाद पत्र पेश कर न्याय दिलवाने की गुहार लगाई है। जिसमें कोर्ट ने दिघवारा थाना को प्राथमिकी दर्ज करा कर कार्रवाई का आदेश दिया है। दिए गए परिवाद पत्र में दिघवारा थाना क्षेत्र के सितलपुर गांव के चार लोगों को आरोपित किया गया है।

    इसी गिरोह पर आरोप लगाया गया है कि ये लोग रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर हर अभ्यर्थियों से तीन से चार लाख रुपए की वसूली की है। जिसमें नौ लोगों से मंत्री व अधिकारी के कोटा से रेलवे में ग्रुप डी व सी पद पर बहाल कराने के लिए तीन से चार-चार लाख रुपए ठगे हैं। इस बाबत न्यायालय ने संज्ञान लेते हुए दिघवारा थाना को प्राथमिकी के लिए परिवाद भेज दिया है। अभ्यर्थियों ने यह भी कहा है कि इस क्षेत्र में संगठित गिरोह सक्रिय है। उसने कहा है कि इस मामले में आरोपियों ने यह कह कर पैसे की वसूली की है कि आप लोगों को कोलकत्ता में पहले ट्रेनिंग दिलाई जाएगी उसके बाद ज्वाइनिंग लेटर दिया जाएगा।
    कोलकाता में तीन माह की दी गई ट्रेनिंग
    परिवाद पत्र दाखिल करने वाले ने बताया गिरोह द्वारा बाजाब्ता रेलवे में नौकरी के नाम पर उम्मीदवारों को कोलकाता के कचड़ा पारा नामक जगह पर 3 माह तक प्रशिक्षण भी दिलवाया गया। प्रशिक्षण के बाद गायब हो गया। कचड़ा पाड़ा में ट्रेनिंग के बाद जब उम्मीदवारों द्वारा ज्वाइनिंग दिलवाने की कहीं गई तो धीरे धीरे सभी आरोपित गायब हो गए।
    ट्रेनिंग के बाद होनी थी ज्वाइंनिंग, दौड़ा रहे थे

    उसने कोलकाता में ट्रेनिंग भी दिलाई। लेकिन ज्वाइंनिंग की बारी आई तो दौड़ाने लगा। आवेदक ने न्यायालय में विभिन्न तरह के साक्ष्य जो आरोपितों द्वारा उपलब्ध कराए गए उसकी छाया प्रति भी न्यायालय में समर्पित किया है। आवेदक आर्यन राज के अलावा दिलीप कुमार, बलवंत कुमार पंकज, सुशील कुमार समेत अन्य है।
    पैसा वापस मांगने पर आरोपित दे रहे हैं धमकी
    पीड़ितों को जब अपनी ठगी का अहसास हुआ तब वह आरोपितों से पैसा वापस मांगा।जिस पर आरोपित ने उसे धमकाना शुरू कर दिया ।
    क्या कहते हैं थानाध्यक्ष
    दिघवारा थानाध्यक्ष सतीश कुमार ने बताया कि इस मामले में न्यायालय से परिवाद पत्र प्राप्त हुआ है जल्द ही प्राथमिकी दर्ज कर अनुसंधान शुरु किया जायेगा।गिरोह का पता लगा कर गिरफ्तार किया जाएगा।
    इंडस वेयर इंड्रस्ट्रीज लिमिटेड कंपनी ने तरैया के लोगों से 50 करोड़ ठगे
    इंडस वेयर इंडस्ट्रीज लिमिटेड कंपनी द्वारा स्थानीय क्षेत्र अभिकर्ताओं के द्वारा तरैया-इसुआपुर-पानापुर के लोगों से रुपए दुगना करने के नाम पर 50 करोड़ रुपए लेकर फरार हो गई है। भागवतपुर के अभिकर्ता लालबाबू राय, डेवढ़ी के तारकेश्वर प्रसाद, अटौली के लखींद्र प्रसाद, धेनुकी के राजू सिंह आदि सहित 25 अभिकर्ताओं ने सारण डीएम, मढ़ौरा एसडीओ एवं गोपनीय भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो को एक शिकायत प्रतिवेदन भेज कर कार्रवाई करने की मांग की है। अभिकर्ताओं का कहना है कि कम्पनी का कार्यालय मसरख में खुला था। इसमें स्थानीय लोगों को अभिकर्ता के रूप में रखा गया था।
    स्थानीय अभिकर्ता खुद और स्थानीय लोगों से मिलकर रुपया कम्पनी में निवेश करवाया था। कंपनी का कहना था कि आपका रुपए चार वर्षों छह माह में दुगना हो जाएगा। जिस पर अधिक लोगों ने राशि दुगना होने के नाम पर निवेश करने लगे। अभिकर्ताओं ने कम्पनी के निदेशक एवं पदाधिकारी पर गुमराह कर रुपए वसूल कर फरार हो जाने का आरोप लगाया है। अभिकर्ताओं ने बताया कि अब कंपनी मसरख से फरार होकर दिल्ली में चल रही है। हालांकि इस बावत अभी कंपनी के किसी ने कोई जानकारी नहीं दी है। इस बावत न ही थाने में किसी तरह की जानकारी है।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×