Hindi News »Bihar »Patna» Daughters Took Part In Funeral Of Mother

सामाजिक मान्यताओं को तोड़ महिलाओं ने दिया कंधा और बेटी ने दी मुखाग्नि

महिलाओं ने न सिर्फ शव यात्रा में शामिल होकर अर्थी को कंधा दिया बल्कि बेटी ने ही उन्हें मुखाग्नि दे अंतिम संस्कार किया।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 11, 2017, 06:18 AM IST

  • सामाजिक मान्यताओं को तोड़ महिलाओं ने दिया कंधा और बेटी ने दी मुखाग्नि
    +8और स्लाइड देखें
    अंतिम यात्रा में मां की अर्थी को कंधा देती बेटियां।
    नवादा.सामाजिक बंधनों को तोड़ महिलाओं ने अर्थी को कंधा देकर श्मशान पहुंचाया। सामाजिक मान्यताओं से अलग हटकर शहर के मिर्जापुर मुहल्ला की महिलाओं ने न सिर्फ शव यात्रा में शामिल होकर अर्थी को कंधा दिया बल्कि बेटी ने ही उन्हें मुखाग्नि देकर अंतिम संस्कार किया। अर्जक संघ के जिला संयोजक सुनील कुमार की 75 साल की पत्नी शांति देवी का शुक्रवार को निधन हुआ।
    निधन के बाद उनकी बड़ी बेटी गीता देवी, छोटी बेटी इंदु देवी, नतिनी सुधा कुमारी, अनुराधा कुमारी, नीलम कुमारी, नीलू कुमारी, छोटी कुमारी के अलावा बड़ी संख्या में महिलाओं ने अर्थी को कंधा देकर श्मशान घाट तक पहुंचाया। इस दौरान अर्थी को घर से श्मशान घाट तक ले जाने के क्रम में जीना- मरना सत्य है का नारा लगाया गया । श्मसान घाट पर पहुंची महिलाओं ने पुरुषों के साथ मिलकर चिता को भी सजाया ।
    मानववादी व्यवस्था की वकालत

    अर्जक विधि से किए गए अंतिम संस्कार के दौरान उपस्थित अर्जक संघ सांस्कृतिक समिति के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुमार पथिक ने बताया कि सदियों से चली आ रही रुढ़ीवादी व्यवस्था को समाप्त करने में मिर्जापुर की महिलाओं ने भी अहम भूमिका निभाई है । समाज में लड़का और लड़की में चले आ रही भेद भाव को मिटाने, नारियों को आगे बढ़ाने, नुकसान देने वाली व्यवस्था को हटाकर मानववादी व्यवस्था स्थापित करने के उद्देश्य से ही अर्जक संघ द्वारा महिलाओं द्वारा अर्थी को कंधा देने की परंपरा शुरू की गयी है।
  • सामाजिक मान्यताओं को तोड़ महिलाओं ने दिया कंधा और बेटी ने दी मुखाग्नि
    +8और स्लाइड देखें
    जानकारी देती मृतका की बेटी।
  • सामाजिक मान्यताओं को तोड़ महिलाओं ने दिया कंधा और बेटी ने दी मुखाग्नि
    +8और स्लाइड देखें
    अंतिम संस्कार के दौरान गांव की महिलाएं।
  • सामाजिक मान्यताओं को तोड़ महिलाओं ने दिया कंधा और बेटी ने दी मुखाग्नि
    +8और स्लाइड देखें
    अंतिम संस्कार में शामिल गांव की महिलाएं।
  • सामाजिक मान्यताओं को तोड़ महिलाओं ने दिया कंधा और बेटी ने दी मुखाग्नि
    +8और स्लाइड देखें
    अंतिम संस्कार में शामिल गांव की महिलाएं।
  • सामाजिक मान्यताओं को तोड़ महिलाओं ने दिया कंधा और बेटी ने दी मुखाग्नि
    +8और स्लाइड देखें
    महिला की अर्थी को कंधा देती महिलाएं।
  • सामाजिक मान्यताओं को तोड़ महिलाओं ने दिया कंधा और बेटी ने दी मुखाग्नि
    +8और स्लाइड देखें
    महिला की अर्थी को कंधा देती महिलाएं।
  • सामाजिक मान्यताओं को तोड़ महिलाओं ने दिया कंधा और बेटी ने दी मुखाग्नि
    +8और स्लाइड देखें
    महिला की अर्थी को कंधा देती महिलाएं।
  • सामाजिक मान्यताओं को तोड़ महिलाओं ने दिया कंधा और बेटी ने दी मुखाग्नि
    +8और स्लाइड देखें
    महिला की अर्थी को कंधा देती महिलाएं।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×