--Advertisement--

हॉस्पिटल कैंपस में लावारिस मरीज को नोच रहा था कुत्ता, इलाज के दौरान मौत

पुलिस ने 12 नवंबर को सड़क किनारे बेहोश पड़े में मिले युवक को पटोरी के हॉस्पिटल में एडमिट कराया था।

Danik Bhaskar | Nov 21, 2017, 06:15 AM IST

शाहपुर पटोरी (समस्तीपुर). यहां हॉस्पिटल कैंपस में लावारिस पड़े मरीज को कुछ देर तक एक कुत्ता नोचता रहा। इस दौरान आसपास मौजूद अस्पताल कर्मचारी कुत्ते को भगाने के बजाए चुपचाप सबकुछ देखते रहे। घटना की सूचना पर जब लोगों की भीड़ जुटी तो कर्मी उसे हॉस्पिटल के अंदर ले गए। हालांकि तब तक उसकी मौत हो गई।

पुलिस ने हॉस्पिटल में कराया था एडमिट

बताया जा रहा है कि हलई ओपी की पुलिस ने 12 नवंबर को सड़क किनारे बेहोश पड़े में मिले युवक को पटोरी के हॉस्पिटल में एडमिट कराया था। शख्स कब और कैसे अस्पताल के वार्ड से बाहर चला गया, यह सवाल बना हुआ है। उधर, पटोरी पुलिस ने कहा कि लावारिस युवक को हलई ओपी की पुलिस ने भर्ती कराया था। इसलिए उसके शव का पोस्टमार्टम भी हलई की पुलिस कराएगी। भर्ती कराने के बाद युवक की देखरेख भी उसे ही करनी चाहिए थी। उसे कैसे अकेले छोड़ दिया गया। पुलिस के इस रवैये से परेशान लोगों ने वरीय अधिकारी को सूचना दी है। पोस्टमार्टम का पेच फंसा हुआ था। चिकित्सा प्रभारी सुशील कुमार पूर्वे ने बताया कि लावारिस का इलाज किया गया है। लेकिन, कब और कैसे वह बाहर चला गया, इसकी जांच की जाएगी।

वार्ड में लाने के कुछ ही देर में युवक की हो गई मौत

बताया जाता है कि युवक के पैर में गहरा जख्म था। माना जा रहा था कि किसी वाहन से टक्कर लगी थी। इलाज के नाम पर मात्र मरहम पट्टी की गई। सोमवार सुबह कुत्ता नोच रहा था ते स्थानीय लोगों की नजर पड़ी। इसकी शिकायत अस्पताल के प्रभारी से की गई। इसके बाद स्ट्रेचर लाया गया और उसे अस्पताल के वार्ड में लाया गया। वहां कुछ ही देर में युवक की मौत हो गई।

समस्तीपुर एसपी दीपक रंजन के मुताबिक, मामले की जानकारी मीडिया से मिली है। पूरे मामले की रिपोर्ट लेकर इसकी जांच की जाएगी। इसमें दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की जाएगी। उधर, सिविल सर्जन अवध कुमार का कहना है कि लावारिस अचेत युवक का इलाज व देखरेख में लापरवाही बरतने वाले अनुमंडलीय अस्पताल प्रशासन की लापरवाही की जांच की जाएगी। जांच के बाद दोषी स्वास्थ्य कर्मियों पर कार्रवाई होगी।