--Advertisement--

खादिम शो रूम के मालिक की गोली मार कर हत्या, दुकान से लौट रहे थे घर

शोरूम के मालिक जितेंद्र कुमार गांधी की हत्या की सूचना मिलने के बाद फुलवारीशरीफ व पटना के बड़े कारोबारी अस्पताल पहुंचे।

Danik Bhaskar | Nov 22, 2017, 08:25 AM IST

पटना. आशियानानगर मोड़ पर स्थित खादिम शो रूम के मालिक 48 वर्षीय जितेंद्र कुमार गांधी की अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी। गांधी अपने इकलौते बेटे अभियु राज के साथ मंगलवार की रात दुकान बंदकर बाइक से फुलवारीशरीफ, पेठिया बाजार स्थित घर जा रहे थे।

अपराधियों ने बेटे की भी हत्या करनी चाही पर उसने लाइसेंसी पिस्टल से फायरिंग कर दी जिससे अपराधी भाग गए। घटना जगदेवपथ स्थित संजय गांधी डेयरी टेक्नोलॉजी संस्थान के पास हुई। दो बाइक सवार 4 अपराधियों ने ओवरटेक कर गर्दन में एक गोली मारी।

हत्या से गुस्साए लोगों ने एसएसपी को सुनाई खरी-खोटी

खादिम शोरूम के मालिक जितेंद्र कुमार गांधी की हत्या की सूचना मिलने के बाद फुलवारीशरीफ व पटना के बड़े कारोबारी पारस अस्पताल पहुंचे। जैसे ही प्रभारी एसएसपी डी. अमरकेश अस्पताल से निकले परिजनों व कारोबारियों ने उन्हें घेर लिया और खरी-खोटी सुनाई। कहा-एयरपोर्ट थाना पुलिस सूचना मिलने के बाद भी आधा घंटे तक नहीं पहुंची। किसी तरह लोगों के बीच से एसएसपी वहां से निकले।

24 को दानापुर में थी दूसरे शोरूम की ओपनिंग

जितेंद्र का आशियाना मोड़ पर कई वर्षों से शो रूम है। उनके करीबियों ने बताया कि 24 नंवबर को दानापुर की मछुआटोली में वे खादिम शोरूम की ओपनिंग करने वाले थे। वे काफी मिलनसार थे। किसी से लड़ाई नहीं हुई है।

अगले साल होनी है बेटी की शादी : लोगों ने बताया कि अगले साल बेटी त्रिशा की शादी होने वाली है। इससे पहले की बेटे-बेटी के सिर से पिता का साया उठ गया। न जाने किसकी बुरी नजर लग गई। पत्नी गठिया रोग से पीड़ित हैं। अस्पताल में मौजूद बेटे का रो-रोकर बुरा हाल था।
घर में मचा कोहराम : घटना की सूचना जब पेठियाबाजार स्थित उनके घर पर पहुंची तो वहां कोहराम मच गया। पत्नी दहाड़ मारकर रोने लगीं। पास पड़ोस की महिलाएं वहां पहुंच गईं। पत्नी को समझाने की कोशिश की जा रही थी पर वह लगातार रोए जा रही थीं। बेटी त्रिशा और अन्य परिजनों की सिसकियों से माहौल गमगीन हो गया।

न रंगदारी मांगी गई, न किसी से दुश्मनी थी


पारस अस्पताल पहुंचे उनके परिजनों ने बताया कि जितेंद्र से किसी की दुश्मनी नहीं थी। न कोई रंगदारी का मामला है और न ही किसी से विवाद था। बाइक जितेंद्र चला रहे थे। सूचना देने के बाद भी पुलिस आधा घंटे तक मौके पर नहीं पहुंची। बाद में प्रभारी एसएसपी डी. अमरकेश अस्पताल पहुंचे। उन्होंने बेटे से घटना की जानकारी ली। अमरकेश ने बताया कि हत्या क्यों की गई, खुलासा अभी नहीं हो पाया है। पुलिस अपराधियों का सुराग लगाने में जुटी है।

जितेंद्र को एक बेटा अभियु राज और एक बेटी त्रिशा है। बेटा पूणे से एमबीए कर रहा है। तीन भाइयों में जितेंद्र दूसरे नंबर पर थे। उनके बड़े भाई ललन कुमार का राजा बाजार में हरिसुमन नाम से कपड़े की दुकान है। छोटे भाई रविशंकर का एनपी सेंटर में पीटर इंग्लैंड का शो रूम है। न्यू मार्केट में चोपड़ा फार्मेसी उनके चाचा की है।