Hindi News »Bihar »Patna» Malda Intercity Running On Broken Railway Track

छह इंच टूटे ट्रैक पर दौड़ी मालदा इंटरसिटी, ड्राइवर ने रोकी ट्रेन, बचे 2000 यात्री

मालदा रेलखंड पर सबौर और लैलख स्टेशन के बीच सोमवार शाम बड़ा हादसा टल गया।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 14, 2017, 07:21 AM IST

  • छह इंच टूटे ट्रैक पर दौड़ी मालदा इंटरसिटी, ड्राइवर ने रोकी ट्रेन, बचे 2000 यात्री
    भागलपुर.मालदा रेलखंड पर सबौर और लैलख स्टेशन के बीच सोमवार शाम बड़ा हादसा टल गया। रेलवे ट्रैक पर 292 किलोमीटर के छठे और सातवें खंभे के बीच छह इंच रेल लाइन टूट गई। शाम 5.45 बजे दानापुर-मालदा इंटरसिटी टूटी रेल लाइन पर दौड़ी और इंजन और पहला कोच गुजर गया। ड्राइवर और गार्ड ने सावधानी बरती और तत्काल ट्रेन रोक दी। इससे ट्रेन में सवार करीब 2000 लोग बाल-बाल बच गए।
    बड़ा हादसा टल गया। करीब सवा दो घंटे की मशक्कत के बाद टूटी पटरी को ज्वॉइंट लगाकर दुरुस्त किया गया। इसके बाद ट्रेन रात 8 बजे रवाना हुई। शाम 5.45 बजे दानापुर-मालदा इंटरसिटी लैलख की ओर जा रही थी। सबौर से निकलकर ट्रेन लैलख पहुंचने ही वाली थी कि रेलखंड के 292 किलोमीटर के छठे और सातवें पोल के बीच अचानक तेज आवाज हुई। ड्राइवर ने आवाज सुनकर ट्रेन को रोकने की कोशिश की, लेकिन तब तक ट्रेन का इंजन और इंजन के पीछे लगा एसएलआर कोच आगे निकल चुका था। ट्रेन रूकी। ड्राइवर और गार्ड नीचे उतरे तो पता चला, रेल लाइन छह इंच तक टूट गई है।
    मचा हड़कम्प, दहशत में आ गए रेलयात्री

    बीच रास्त में अचानक रूकी ट्रेन से यात्री उतरे तो उन्हें भी पता चल गया कि ट्रैक टूट चुका है। टूटे ट्रैक की जानकारी मिलते ही 14 कोच वाली ट्रेन में हंगामा मच गया। यात्री डर गए। सभी ट्रेन से नीचे उतर आए। ड्राइवर और गार्ड ने सभी को समझाया। उन्हें शांत करवाया। इसके बाद रेल कंट्राेल को सूचना दी।
    स्टेशन प्रबंधक ओंकार प्रसाद ने बताय कि रेल लाइन अचानक क्रेक हो गया। इससे सवा घंटे ट्रेन लैलख और सबौर रेल लाइन के बीच खड़ी रही। भागलपुर से इंजीनियरों की टीम भेजी गई और पटरी को ठीक कराया गया। इसके बाद ट्रेन का परिचालन सामान्य हुआ।
    रेलवे की टेक्निकल टीम पहुंची तुरंत पहुंची घटना स्थल पर
    सूचना पाकर भागलपुर से पीडब्ल्यूआई केके राय के साथ टैक्निकल टीम मौके पर पहुंची। टूटे ट्रैक को देखा और काम शुरू किया। लेकिन शाम गहराने से अंधेरा पसरा तो काम में भी परेशानी हुई। चूंकि ट्रेन का कोच ट्रैक पर ही था, इसलिए इसे दुरुस्त करना और मुश्किल होने लगा। लेकिन टैक्निकल टीम ने दो घंटे की जद्दोजहद के बाद टूटे ट्रैक में ज्वॉइंट लगाए और ट्रैक दुरुस्त किया। इसके बाद रात 8 बजे ट्रेन रवाना हुई।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×