--Advertisement--

ओवरटेक के दौरान ट्रक के नीचे आने से शख्स की मौत, ऐसे फंसी रही बाइक

हादसा इतना भयानक था कि राजेश यादव की बाइक ट्रक के सामने के हिस्से में फंस गई और उसका शव ट्रक में फंस कर उल्टा लटक गया।

Danik Bhaskar | Nov 18, 2017, 06:24 AM IST
ट्रक में घुसा बाइक। ट्रक में घुसा बाइक।

बेगूसराय. लाखो सहायक थाना एरिया में एनएच 31 पर बहदरपुर ढ़ाला के पास शुक्रवार के दिन करीब 11 बजे ओवरटेक करने के दौरान बाइक सवार सामने से आ रही ट्रक से टकरा गया। जिससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई। मृतक की पहचान बलिया थाना क्षेत्र के पोखरिया गांव निवासी रामविलास यादव के 20 वर्षीय बेटे राजेश यादव के तौर पर हुई। वह को-ऑपरेटिव कॉलेज में बीए फाइनल इयर का छात्र था।

हादसा इतना भयानक था कि राजेश यादव की बाइक ट्रक के सामने के हिस्से में फंस गई और उसका शव ट्रक में फंस कर उल्टा लटक गया। हादसे के बाद ट्रक चालक ट्रक छोड़कर फरार हो गया। स्थानीय लोगों ने हादसे के बाद नेशनल हाइवे 31 को जाम कर दिया।


मैं बिना बेटा का हो गया, बड़ा बेटा करंट से मर गया था


मेरे दोनों बेटे नहीं बचे। बड़ा बेटा करंट से अब ये एक्सीडेंट में मारा गया। यह कहते हुए माथा पीट रहे थे, मृतक राजेश यादव के पिता रामविलास यादव। पुत्र की मौत में विलाप करते हुए मानों आंखों के आंसू भी सूख गए थे। विलाप करते हुए उन्होंने बताया कि पांच वर्ष पहले उनका बड़ा बेटा मुकेश कुमार मामा-भांजा ढ़ाला पर करंट लगने से मर गया था।

बहन के देवर को सामान पहुंचाने घर से निकला था राजेश

मृतक के पिता रामविलास यादव ने बताया कि उनका बेटा बाइक से अपने गांव पोखरिया से बेगूसराय रेलवे स्टेशन पर अपनी बहन के देवर को कुछ सामान पहुंचाने के लिए निकला था। वहीं प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि बाइक सवार राजेश बेगूसराय से बलिया की ओर जा रहा था। इसी दौरान बहदरपुर ढ़ाला के पास उसने एक ट्रक को ओवरटेक करना चाहा। इसी दौरान वह सामने से आ रही ट्रक से टकरा गया। इससे राजेश की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। घटना से आक्रोशित लोगों ने चार घंटे तक एनएच 31 को जाम कर दिया। इससे करीब 7 किलोमीटर लंबा जाम लग गया। जिसकी वजह से राहगीरों को काफी फजीहत झेलनी पड़ी। मृतक के परिजन मुआवजे की मांग कर रहे थे। परिजनों ने बताया कि सदर बीडीओ रविशंकर के फोन पर आश्वासन देने के बाद जाम हटाया गया।

सात महीने पहले ही हुई थी राजेश यादव की शादी


मृतक राजेश के परिजनों ने बताया कि सात महीने पहले ही उसकी शादी लख्खीसराय के पिपरिया में पूनम के साथ हुई थी। उसकी मौत की खबर सुनकर पत्नी पूनम कुमारी का रो-रो कर बुरा हाल है। वह बार-बार रोते-रोते बेहोश हो जा रही थी। घर में मां और पत्नी बार बार रो रो कर बेहाल हो चुकी थी। घर के सारे लोग पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल गये हुए थे। रोती सास-बहू को कोई संभालने वाला भी नहीं था। दोनो को रोते देख ढ़ांढस बढ़ाने आई पड़ोसी महिला भी बार बार रोने लग रही थी। करुण दृष्य देख कर हर किसी के मुंह से यह निकल रहा था कि भगवान ने इस परिवार पर प्रलय ढ़ा दिया है।

शादी की फाइल फोटो। शादी की फाइल फोटो।
विलाप करते परिजन। विलाप करते परिजन।