--Advertisement--

सीबीएसई सर्वे में हुआ खुलासा, फास्ट फूड से कम हो रही बच्चों की याददाश्त

डिस्लिपिडेमिया, ऐसी बीमारी है जो आपके बच्चे की याददाश्त छीन रहा है।

Dainik Bhaskar

Nov 18, 2017, 07:29 AM IST
Missing memory from fast food

सासाराम. पिज्जा, बर्गर, चाउमिन, नूडल्स, पास्ता, मोमो, ये चंद नाम ऐसे हैं जिनसे आप और हम अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में रोजाना दो-चार होते हैं। इसके क्या साइड इफेक्ट्स होते हैं, यह भी किसी से छिपा नहीं है। यदि आपका बच्चा ज्यादा फास्ट फूड खाता है और फिजिकल एक्सरसाइज नहीं करता है तो तो निश्चित रूप से यह खबर आपको चौंकाएगी।

आपको जानकार हैरानी होगी कि आपका बच्चा हाइपरटेंशन, टाइप टू डायबिटीज, क्रोनिक इनफ्लेमेशन, डिस्लिपिडेमिया और हाइपर इंसुलिनेमिया जैसी बीमारी से ग्रस्त हो। डिस्लिपिडेमिया, ऐसी बीमारी है जो आपके बच्चे की याददाश्त छीन रहा है। ऐसा हम नहीं कह रहे हैं, बल्कि हाल ही में केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के एक सर्वे में यह बात सामने आई है। इसमें सीबीएसई छात्र ज्यादा फास्ट फूड, ईटिंग हैबिट और लो फिजिकल एक्टिविटी की वजह से गंभीर बीमारियों से ग्रस्त पाए गए हैं। ऐसे में सीबीएसई की ओर से छात्रों को शारीरिक रूप से स्वास्थ्य बनाने और फास्ट फूड की लत कम करने के लिए सशक्त पहल की जा रही है। सीबीएसई की ओर से इस शैक्षणिक सत्र से योग अनिवार्य किया गया है, ताकि देश की भावी पीढ़ी में कम से कम बीमारियां उत्पन्न हों।

बीमारियां, लक्षण और उपाय

डिस्लिपिडेमिया
लक्षण : उम्र और आहार के हिसाब से ज्यादा वजन,फुर्ती की कमी, त्वचा पर सफेद धब्बे, याददाश्त प्रभावित।
उपाय: बच्चे का 12-14 साल की उम्र में एक बार कोलेस्ट्रॉल चेक कराना चाहिए। साथ हीं चिकन, चीज और पैक्ड फूड से दूरी बनानी चाहिए।

हाइपर इन्सुलिनेमिया
लक्षण :
मोटापा, मांस पेशियों में दर्द, लो ब्लड शुगर, सिर दर्द।
उपाय : बच्चों में बीमारी का बड़ा कारण फास्ट फूड का अधिक सेवन है। ऐसे में फास्ट फूड से दूरी और आउट डोर एक्टिविटी करने पर इससे बचा जा सकता है।

क्रनिक इनफ्लेमेशन
लक्षण :
जोड़ो में दर्द, किसी हिस्से पर लंबे समय तक सूजन।
उपाय : इससे विटामिन डी की कमी और डिफॉमिटी (फ्लैट फूट) की परेशानी बढ़ रही है। इससे बचने के लिए रोजाना व्यायाम और खेल गतिविधियों में भाग लें।

हाइपरटेंशन
लक्षण :
सिर में दर्द, बेचैनी, घबराहट और उल्टी की समस्या।
उपाय : यह बीमारी लाइफ स्टाइल डिसऑर्डर की वजह से होती है। इसलिए खाने में कम नमक और कम तैलीय खाना लें। साथ ही फाइबर युक्त भोजन का सेवन भी करें।

टाइप टू डायबिटीज
लक्षण :
वजन कम होना, बार-बार टॉयलेट जाना।
उपाय : बच्चों में इस बीमारी की बड़ी वजह शारीरिक व्यायाम कम होना और जंक फूड का सेवन है। इससे बचने के लिए रोजाना डेढ़ से दो घंटे आउट डोर एक्टिविटी करें।

कहते हैं चिकित्सक

फिजिशियन डॉक्टर जयप्रकाश ने बताया कि सात दिन में एक बार या 15 दिन में एक बार फास्ट फूड ही उपलब्ध कराएं। बच्चों की बेहतर स्वास्थ्य के लिए बाजार के पैक्ड फूड न दें। बच्चे को रोजाना डेढ़ से दो घटे आउटडोर एक्टिविटी के लिए समय दें। बच्चों को हेल्दी फूड और उसके फायदे भी बताएं।

कहते हैं अधिकारी

क्षेत्रीय अधिकारी लखन लाल मीणा ने बताया कि अभिभावकों के साथ मीटिंग में विद्यार्थियों के डाइट चार्ट और स्वास्थ्य पर मंथन होगा। स्कूलों स्पोर्ट्स गतिविधियां बढ़ाई जाएंगी। इसमें दौड़, क्रिकेट, फुटबॉल, वॉलीबाल, एथलेटिक जैसी गतिविधियों को और प्रभावी ढंग से लागू किया जाएगा।

X
Missing memory from fast food
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..