--Advertisement--

पंचायत समिति सदस्य के पति को मारी गोलियां, बाइक से आए थे हमलावर

पंसस पति सुनील शर्मा ने हत्या से कुछ घंटे पहले ही नवगछिया के प्रखंड प्रमुख पति शैलेंद्र सिंह से फोन पर बातचीत की थी।

Dainik Bhaskar

Nov 18, 2017, 06:52 AM IST
Panchayat Samiti Members Husband Shot Dead

नवगछिया (भागलपुर). नगरह पंचायत समिति सदस्य के पति को हमलावरों ने शुक्रवार दोपहर गोलियों से भून डाला। हमलावरों ने उन्हें तीन गोलियां मारीं। हमलावर वारदात को अंजाम देने के बाद बाइक से फरार हो गए। घटना की जानकारी मिलते ही पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। डीएम के आदेश पर देर रात पोस्टमार्टम कर शव को परिजनों को सौंप दिया गया।

पंसस ललिता देवी के पति सुनील शर्मा (35 वर्ष) गांव की ही आंगनबाड़ी सेविका नीलम दास के साथ बाइक से नगरह आ रहे थे। इसी दौरान घात लगाए हमलावरों ने गोलीबारी की। इससे वह घबरा गए और बाइक होम पाइप से जा टकराई। दोनों गिर गए। इसी दौरान दो हमलावर आए और गालीगलौज करने लगे। हमलावरों ने कहा कि तुमने मेरे परिवार के सदस्यों की हत्या की है, तुम्हें जिंदा नहीं छोड़ेंगे। इसके बाद हमलावरों ने दौड़ाकर गोलियों से भून डाला।

हत्या से कुछ ही घंटे पहले प्रमुख पति से हुई थी सुनील की बातचीत

पंसस पति सुनील शर्मा ने हत्या से कुछ घंटे पहले ही नवगछिया के प्रखंड प्रमुख पति शैलेंद्र सिंह से फोन पर बातचीत की थी। खुद शैलेंद्र सिंह ने सुनील के साथ हुई बातचीत का ऑडियो पत्रकारों को दिया है। बातचीत में सुनील ने शैलेंद्र से नगरह स्कूलों में मिड-डे-मिल की जांच करने का आग्रह किया, इस पर प्रमुख ने कहा कि आज वे बोआई करने जा रहे हैं इसलिए नगरह नहीं आ सकते, किसी दूसरे दिन स्कूलों की जांच करने का समय रखा जाय। इस पर सुनील ने कहा कि आज शुक्रवार है और विद्यालयों में अंडा दिया जाना है इसलिए आज अगर जांच हो जाता तो अच्छा रहता। सूचना मिली है कि कई स्कूलों में अंडा नहीं दिया जा रहा है। इसके बाद भी प्रमुख ने आने में असमर्थता जतायी, तो सुनील ने कहा कि ठीक है मैं स्कूल जांच करने जाता हूं और वीडियो बनाकर आपको भेज दूंगा इसके बाद सुनील और प्रमुख पति की बातचीतत समाप्त हो जाती है सुनील और प्रमुख पति के बीच पूरी तरह से गवई भाषा में बातची हुई है।


घटना को अंजाम तक पहुंचाने में अपराधियों ने मोबाइल का खूब इस्तेमाल किया है। परिजनों का कहना है कि सुनील मनरेगा का शिलापट्ट बनवा रहा था और फोन आने पर वह बाइक से निकल गया। दूसरी तरफ नीलम देवी का कहना है कि जब वह कचहरी के लिए नगरह से निकली तो गांव से कुछ दूरी पर ही सुनील को मोटरसाइकिल से नवगछिया की ओर जाते देखा और उसके साथ एक महिला थी, वह उस महिला को नहीं पहचानती है। इसके बाद नीलम ने कहा कि उसकी सुनील से मुलाकात मक्खतकिया के पास हनुमान मंदिर के समीप हुई और वह वहां से सुनील के साथ बैठकर कचहरी गयी और वहां से वापस लौटी। पुलिस का मानना है कि वारदात को अंजाम देने में अपराधियों के बीच मोबाइल का खूब इस्तेमाल हुआ होगा शुक्रवार को सुनील की गतिविधि जो सामने आ रही है वह पूरी तरह से अनिश्चित है। सुनील कहां जायेगा, किसके साथ जायेगा, जब कोई करीबी इस बात को लीक नहीं कर रहा था तब तक अपराधी घात लगाये कैसे बैठे थे?...।


इस घटना में परिजनों के शक की सूई नीलम पर है। नीलम ने बताया कि ो अपराधी पिस्तौल के साथ आए और गालीगलौज करते हुए बोले कि तुमने मेरे परिवार के सदस्यों की हत्या की अब तुम्हें जिंदा नहीं छोड़ेंगे। इसके बाद अपराधियों ने सुनील के चेहरे के पास पिस्तौल सटा कर गोली मार दी। वह दो अपराधियों को देखने पहचान लेगी। नीलम के अनुसार घटना के वक्त कुछ महिलाएं भी वहां पर घांस काट रही थीं।

कहीं विकास मित्र हत्याकांड की दूसरी कड़ी तो नहीं है
पिछले वर्ष ही गांव के ही विकास मित्र कन्हैया दास की हत्या का मामला सामने आया। कन्हैया की हत्या कर अपराधियों ने बासा पर उसकी लाश को छोड़ दिया था। इस मामले में विकास मित्र की पत्नी अब, आंगनबाड़ी साहायिका नीलम देवी ने अपने देवर नंदकिशोर दास और पंचायत के मुखिया भरतलाल पासवान व अन्य को आरोपी बनाया था। मामला न्यायालय में विचाराधीन है। हत्या के समय नीलम देवी की भूमिका पुलिस को भी संदिग्ध प्रतीत हुआ था। उस वक्त नीलम बार बार अपना बयान बदल रही थी।

सुनील व नीलम के परिवार का हत्याकांडों से पुराना नाता
सुनील और नीलम दोनों के परिवारों का हत्याकांडों से पुराना नाता है। सुनील के दो भाइयों की हत्या पूर्व में हो चुकी है तो नीलम के पति और ससुर की भी हत्या विगत वर्षों में कर दी गयी है। कई ग्रामीणों ने अपना नाम न छापने के शर्त पर बताया कि वर्ष 1999 में सुनील शर्मा के बड़े भाई सेठ शर्मा पुलिस इनकाउंटर में मारे गये थे। सेठ शर्मा दस्तु सरगना तुतली सिंह गिरोह में सक्रिय थे। उस वक्त बिहपुर के कोसी दियारा इलाके में ही पुलिस और तुतली सिंह गिरोह के मुठभेड़ में तुतली तो बच निकले थे लेकिन सेठ शर्मा को पुलिस ने मार गिराया था। दूसरी तरफ सुनील के दूसरे भाई अनिल शर्मा की हत्या भी अपराधियों ने उक्त घटना से पहले कर दी थी। इसी हत्याकांड में नवादा निवासी भोला यादव का नाम सामने आया था। इधर नीलम के पति की पिछले वर्ष की अपराधियों ने हत्या कर दी थी। जबकि उसके ससुर दीनबंधु दास की हत्या वर्ष 2006 में अपराधियों ने जमीन विवाद में कर दी थी।

पुलिस ने साहायिका का मोबाइल को किया जब्त
पुलिस ने आंगनबाड़ी साहायिका का मोबाइल जब्त कर लिया है हालांकि नीलम की मोबाइल को सुनील के परिजनों ने ही छिन लिया था और पुलिस को सौंप कर दिया था दूसरी तरफ मृतक के मोबाइल का भी कॉल डिटेल पुलिस खंगालने में जुट गयी है ग्रामीणों का कहना है कि इन दिनों नीलम और सुनील के बीच ठीक ठाक संबंध थे। हत्या भले ही नीलम ने नहीं करवाया हो लेकिन वह इस हत्याकांड के बारे में सब कुछ जानती है। कुछ ग्रामीणों का यह भी कहना है कि अगर विकास मित्र कन्हैया की हत्या की सही से जांच होती तो आज पंसस पति की हत्या न होती। लोग सुनील की हत्या को विकास मित्र हत्याकांड की दूसरी कड़ी मान रहे हैं

फोन आने पर घर से निकले थे पंसस पति सुनील शर्मा


परिजनों ने बताया कि सुनील गांव में मनरेगा की एक योजना का शिलापट्ट लगवा रहे थे। इसी दौरान किसी ने उन्हें फोन किया और वह बाइक से निकल गए। करीब दो घंटे बाद हत्या की खबर मिली। देर रात अनुमंडलीय अस्पताल में प्रभारी एसपी सुधीर कुमार परिजनों व आंगनबाड़ी केंद्र की सहायिका नीलम दास से पूछताछ की। एसपी ने कहा कि सुनील का आपराधिक इतिहास रहा है। नीलम को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। अभी घटना का कारण पता नहीं चल पाया है। कुछ लोग इस हत्या में कुख्यात कुमोदी यादव और भोला यादव का नाम भी बता रहे हैं। पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है, जल्द ही मामले का खुलासा कर दिया जाएगा। उधर, मृतक के भाई संजय शर्मा ने कहा कि नीलम ने ही उसके भाई को घर से बुलाकर हत्या करा दी है।

Panchayat Samiti Members Husband Shot Dead
Panchayat Samiti Members Husband Shot Dead
X
Panchayat Samiti Members Husband Shot Dead
Panchayat Samiti Members Husband Shot Dead
Panchayat Samiti Members Husband Shot Dead
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..