--Advertisement--

बालिग होने में बाकी थे दो महीने, पुलिस ने रुकवाई शादी, दूल्हे को रखा थाने में

रानी-एक पंचायत के धर्मपुर गांव में सोमवार की रात पुलिस ने एक बाल-विवाह को रुकवा दिया।

Danik Bhaskar | Nov 22, 2017, 07:24 AM IST

बछवाड़ा (बेगूसराय). रानी-एक पंचायत के धर्मपुर गांव में सोमवार की रात पुलिस ने एक बाल-विवाह को रुकवा दिया। पुलिस के सीनियर अफसर को सूचना मिली कि बछवाड़ा थाना क्षेत्र के धर्मपुर गांव में 17 साल की लड़की की शादी उत्तरप्रदेश के बहराइच जिले के राकेश वर्मा के साथ की जा रही है। सूचना मिलते ही बछवाड़ा थाना की पुलिस हरकत में आई और दल-बल के साथ पुलिस मौके पर पहुंच गई। शादी को रुकवा कर पुलिस ने लड़के-लड़की समेत परिजनों को थाने ले आई।


पिता को शादी की न्यूनतम उम्र की जानकारी नहीं


लड़की के परिजनों से पूछताछ में पता चला कि लड़की के परिजन गरीब हैं और बछवाड़ा बाजार स्थित एक समोसे की दुकान में नौकरी कर के किसी प्रकार अपने परिवार का भरण-पोषण करते हैं। लड़की के पिता को संतान के नाम पर चार लड़कियां हैं। जब लड़की 17 वर्ष की हो गई तो उन्होंने उसकी शादी करने की सोची और शादी की तैयारी कर शादी करने लगे। उन्हें शादी के लिए न्यूनतम उम्र सीमा के बारे में कुछ पता नहीं था। लेकिन पुलिस-प्रशासन की नजर में यह बाल विवाह था।

बांड भरवाकर पुलिस ने लड़का व लड़की को छोड़ा


पुलिस ने लड़के-लड़की, परिजनों से थाने में लंबी पूछताछ कर एवं अधिकारियों एवं स्थानीय जनप्रतिनिधियों एवं आमलोगों से सलाह मशविरा कर शादी तो रुकवा दिया और साथ में बांड भरवा कर शादी की न्यूनतम उम्र सीमा को पूरा करने के बाद ही शादी करने की हिदायत दी। बांड भरवाने के बाद लड़की को तो रात में ही छोड़ दिया गया, लेकिन लड़का को पूरी रात पुलिस ने अपने हिरासत में रखा ताकि गुपचुप तरीके से शादी नहीं की जा सके और सुबह में लड़के को छोड़ दिया गया। साथ ही लड़के के परिजनों को भी हिदायत दी गई कि बाल विवाह एक जुर्म है और बिना तय उम्र सीमा के शादी नहीं की जा सकती है।

लड़की के पिता ने कहा : क्या करूं कुछ नहीं सूझता

लड़की के पिता ने बताया कि हमें शादी के लिए तय उम्र सीमा की जानकारी नहीं थी, वैसे भी लड़की के अठारह वर्ष पूरा होने में दो महीने ही बचे हैं। हमने शादी की पूरी तैयारी कर रखी थी। गांव के लोग और बारातियों के लिए खाने-पीने की भी पूरी तैयारी कर ली गई थी। खाना-पीना बन चुका था, रिश्तेदार भी आ चुके थे, और शादी को लेकर घर का माहौल उत्सवी था, लेकिन इसी बीच में पुलिस ने शादी रुकवा दी। शादी रुकने से लड़की एवं लड़के दोनों ही पक्ष वाले हैरान एवं परेशान थे।