Hindi News »Bihar »Patna» Swami Agnivesh In Bihar

आत्मविश्वास और हौसला बड़ा हो, तो कुछ भी असंभव नहीं : स्वामी अग्निवेश

बंधुआ मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी अग्निवेश ने कहा कि आजादी के सतर साल बाद भी देश से गरीबी व लाचारी नहीं मिटी है।

Bhaskar News | Last Modified - Mar 25, 2017, 05:07 AM IST

मोतिहारी.स्वामी अग्निवेश ने कहा कि हम चंपारण सत्याग्रह शताब्दी के सौ वर्ष मना रहे हैं। यह शताब्दी समारोह का सबसे बड़ा आयोजन है। आयोजन कार्यक्रमों तक सीमित नहीं रहे। बल्कि, किसान, मजदूरों के हक की आवाज बने। वे एमएस कॉलेज परिसर में चल रहे चंपारण सत्याग्रह समारोह के दूसरे दिन शुक्रवार को पहले सत्र में आयोजित उपनिवेशवाद व सांप्रदायिकता विषय पर आयोजित परिचर्चा को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि गांधीजी ने अंग्रेजों से लड़ने के लिए सत्याग्रह का उपकरण इस्तेमाल किया था। सत्याग्रह तभी संभव है, जब अहिंसा एक मात्र मार्ग हो। सत्याग्रह का अर्थ है शठे प्रत्यपि सत्यं, हिंसा के सामने अहिंसा व क्रोध के सामने अक्रोध प्रकट करना। उन्होंने विश्व में बिगड़ रही सांप्रदायिक सोहार्द पर नाराजगी जाहिर की। ऋतुपर्णा मोहंती ने महिलाओं दिशा व दशा पर चर्चा करते हुए कहा कि महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने की आवश्यकता है।
ताकि, समाज में उनकी स्थिति मजबूत हो सके। इसके लिए उन्हें खुद मजबूत होना होगा। बेतिया से पहुंची सिस्टर शेलिस ने कहा कि गांधीजी ने स्वर्णिम भारत का जो सपना देखा था, वह अब भी अधूरा है। इस दौरान अन्य वक्ताओं ने भी परिचर्चा को संबोधित किया। परिचर्चा को रामजी सिंह, प्रमोद शर्मा, डा के सी मेनन, आदित्य पटनायक, आइसी कुमार आदि ने भी संबोधित किया।
70 साल बाद भी नहीं मिटी गरीबी व लाचारी

बंधुआ मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी अग्निवेश ने कहा कि आजादी के सतर साल बाद भी देश से गरीबी व लाचारी नहीं मिटी है। सत्ता में बैठे देश के गद्दार बड़ी-बड़ी योजनाएं चला रहे हैं। लेकिन गरीबी, बेरोजगारी, भ्रष्‍टाचार को नहीं मिटा रहे। वे चंपारण सत्याग्रह शताब्दी समारोह के दूसरे दिन ह्युमन लिबर्टी नेटवर्क द्वारा आयोजित मानव व्यापार एवं बंधुआ मजदूरी विषयक अधिवेशन को संबोधित कर रहे थे। अधिवेशन का उद्घाटन पूर्व न्यायाधीश न्यायमूर्ति बी एन सिन्हा एवं स्वामी अग्निवेश ने किया।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Patna

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×