पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Patna News Abvp And Students Clash In Jdu Activists Head Of Former President Of Patna University Students Union

एबीवीपी व छात्र जदयू के कार्यकर्ताओं में भिड़ंत, पटना विवि छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष का सिर फोड़ा

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पटना विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव के प्रचार के दौरान गुरुवार को एबीवीपी और छात्र जदयू के कार्यकर्ता भिड़ गए। दोनों ने एक-दूसरे के खिलाफ मामला भी दर्ज कराया है। पटना वीमेंस कॉलेज के गेट पर छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष दिव्यांशु भारद्वाज पर कुछ छात्रों ने हमला कर दिया। दिव्यांशु के सिर में गहरी चोट आई। उन्हें पीएमसीएच में एडमिट कराया गया, जहां प्राथमिक उपचार के दौरान लगभग दर्जनभर टांके लगे। साथ ही छात्र जदयू के उपाध्यक्ष पद के उम्मीदवार आशीष पुष्कर और संयुक्त सचिव पद के उम्मीदवार ओसामा खुर्शीद को भी चोट आई। इस मामले में दिव्यांशु भारद्वाज ने आठ के खिलाफ मामला दर्ज कराया है, जिनमें एबीवीपी का अध्यक्ष के उम्मीदवार अभिनव कुमार के अलावा एबीवीपी का श्रीराम शर्मा, विष्णु कुमार, हरेराम कुमार, अमरकांत शर्मा, गोल्डन कुमार, विकास कुमार और अर्पण कुमार शामिल है। दिव्यांशु ने बताया कि प्रचार के दौरान इन लोगों ने गाली-गलौज की और विरोध करने पर पिस्टल निकाल ली। वहीं एबीवीपी की ओर से दर्ज कराए गए मामले में उपाध्यक्ष पद की उम्मीदवार अंजना सिंह ने दिव्यांशु भारद्वाज, आशीष पुष्कर और ओसामा खुर्शीद पर शराब के नशे में हंगामा करने का आरोप लगाया है। इस घटना के तार 22 नवंबर को बीएन कॉलेज में हुई मारपीट से जुड़ा बताया जा रहा है। कोतवाली थानेदार रमाशंकर ने बताया कि केस करने वाले ने किसी का पता व पिता का नाम नहीं लिखा है। पुलिस नामजदों को गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी करने में जुटी है।

छात्र जदयू के प्रभारी पहुंचे पीएमसीएच
छात्र नेताओं पर हमले के बाद छात्र जदयू के प्रभारी डॉ. रणवीर नंदन पीएमसीएच पहुंचे। उन्होंने बताया कि एबीवीपी के संस्कार बदल गए हैं। एबीवीपी एक वक्त में अनुशासन के लिए जाना जाने वाला छात्र संगठन था। आज स्थिति बदल गई है। छात्र जदयू की लोकप्रियता से सबमें बौखलाहट है।

लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट का एबीवीपी-जदयू पर आरोप
एआईएसएफ, आइसा व छात्र राजद के लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट ने एबीवीपी और छात्र जदयू पर माहौल बिगाड़ने का आरोप लगाया है। फ्रंट की ओर से कहा गया है कि सत्तारूढ़ दल के छात्र संगठन साजिश के तहत मारपीट की घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। पटना वीमेंस कॉलेज की आज की घटना से पहले बीएन कॉलेज, पटना कॉलेज और साइंस कॉलेज में भी इस तरह की घटनाएं हुई हैं। फ्रंट ने एबीवीपी व छात्र जदयू पर आरोप लगाया कि उनके कार्यकर्ता भय और खौफ का माहौल बनाकर चुनाव को प्रभावित करना चाहते हैं। सीवाईएसएस प्रदेश अध्यक्ष हिमांशु कुमार सिंह ने एबीवीपी पर अल्पसंख्यक छात्रों को डराने का आरोप लगाया है।

पूर्व उपाध्यक्ष ने लगाया पीयू प्रशासन पर आरोप
पटना वीमेंस कॉलेज में हुई मारपीट के बाद पुसू के पूर्व उपाध्यक्ष अंशुमान ने पीयू प्रशासन पर आरोप लगाए हैं। अंशुमान ने कहा कि हर दिन कुछ न कुछ अप्रिय घटना हो रही है और विश्वविद्यालय प्रशासन मूकदर्शक बना है। छात्र प्रतिनिधि भी सुरक्षित नहीं हैं, तो आम छात्रों को सुरक्षा कौन देगा? छात्र हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के शैलेश कुमार मिश्रा ने मारपीट की निंदा की है। छात्रसंघ राजनीति की पहली सीढ़ी है, ऐसा नहीं होना चाहिए। दुर्भाग्य है कि पटना विश्वविद्यालय चुनाव में छात्र केवल चुनाव नहीं लड़ रहे हैं, इसमें राज्य सरकार और तमाम बड़े नेता पर्दे के पीछे से काम कर रहे हैं।

पटना विश्वविद्यालय के हॉस्टलों में देर रात छापा
पटना विश्वविद्यालय के हॉस्टलों में देर रात छापा
पटना|पटना विवि के हॉस्टलों में बुधवार की देर रात सघन छापेमारी की गई। पुलिस ने एक-एक कर मिंटो, जैक्सन, नूतन, इकबाल और नदवी हॉस्टल को खंगाला। मिंटो हॉस्टल में कुछ बाहरी छात्रों के जमा होने की सूचना मिली थी। हालांकि पुलिस के पहुंचने से पहले ही सभी वहां से फरार हो गए। वहां से दो छात्रों को हिरासत में लिया गया, जिन्हें पूछताछ के बाद गुरुवार को छोड़ दिया गया। छात्र संघ के चुनाव को देखते हुए पुलिस हॉस्टलों में लगातार छापेमारी कर रही है। विवि परिसर स्थित टीओपी में पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ा दी गई है। इधर गुरुवार की दोपहर पुलिस ने डॉग स्क्वॉयड के साथ हॉस्टल और विवि परिसर के चप्पे-चप्पे की तलाशी ली।

पटना|पटना विवि के हॉस्टलों में बुधवार की देर रात सघन छापेमारी की गई। पुलिस ने एक-एक कर मिंटो, जैक्सन, नूतन, इकबाल और नदवी हॉस्टल को खंगाला। मिंटो हॉस्टल में कुछ बाहरी छात्रों के जमा होने की सूचना मिली थी। हालांकि पुलिस के पहुंचने से पहले ही सभी वहां से फरार हो गए। वहां से दो छात्रों को हिरासत में लिया गया, जिन्हें पूछताछ के बाद गुरुवार को छोड़ दिया गया। छात्र संघ के चुनाव को देखते हुए पुलिस हॉस्टलों में लगातार छापेमारी कर रही है। विवि परिसर स्थित टीओपी में पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ा दी गई है। इधर गुरुवार की दोपहर पुलिस ने डॉग स्क्वॉयड के साथ हॉस्टल और विवि परिसर के चप्पे-चप्पे की तलाशी ली।

खबरें और भी हैं...