दो बॉडीगार्ड लेकर चलता है नकली दवा बनाने का आरोपी

Patna News - राजधानी के कई थानों में फर्जी एफआईआर दर्ज कराकर और थानों में दर्ज केस के जरिए नकली एफआईआर तैयार कर बड़ी-बड़ी...

Aug 10, 2019, 01:20 PM IST
Patna News - accused of making fake medicine runs with two bodyguards
राजधानी के कई थानों में फर्जी एफआईआर दर्ज कराकर और थानों में दर्ज केस के जरिए नकली एफआईआर तैयार कर बड़ी-बड़ी कंपनियों से मोटी रकम ऐंठने वाले मो. मुस्तफा के काले कारनामों की फेहरिस्त लंबी हो गई है। बावजूद बड़े पुलिस अधिकारियों का उसे संरक्षण प्राप्त है।

हालत यह है कि अगमकुआं थाने का चार्जशीटेड मुस्तफा दो बॉडीगार्ड लेकर चलता है। राजीवनगर थाने की पुलिस और ड्रग डिपार्टमेंट की टीम ने 2008 में उसे नकली दवा बनाते गिरफ्तार किया था। उसे किसी ने जान से मारने की धमकी नहीं दी है और न ही उसकी लाइफ को थ्रेट है। बावजूद उसे दो बॉडीगार्ड दिए गए हैं। वह थानेदारों पर बड़े अधिकारियों का हवाला देकर धौंस भी जमाता है। झोपड़ी से लेकर जहां-तहां छापेमारी करने के बाद थानेदारों पर रौब जमाकर केस करवाता है।

सबसे बड़ा सवाल
मुस्तफा कोई वीवीआईपी नहीं है। बावजूद उसे दो बॉडीगार्ड क्यों दिए गए? पटना पुलिस को इस संबंध में अादेश किसने दिया? बॉडीगार्ड देने से पहले उसके बारे में जांच क्यों नहीं की गई? लोकसभा चुनाव के दौरान हटाकर फिर बॉडीगार्ड दे दिया गया।

आईजी सिक्याेरिटी के आदेश पर मिलता है बॉडीगार्ड

अगर किसी को जान का खतरा है तो वह एसएसपी को आवेदन देता है। उसे एसएसपी संबंधित डीएसपी को भेजते हैं। डीएसपी जांच करकर एसएसपी को रिपोर्ट भेजते हैं। आवेदन स्पेशल ब्रांच को भी जाता है। वहां से भी रिपोर्ट जाती है। डीएसपी और स्पेशल ब्रांच की रिपोर्ट को एक साथ कर एसएसपी आईजी सिक्याेरिटी को भेजते हैं। उनके अादेश पर बाॅडीगार्ड मिलता है। मुस्तफा के मामले में इस प्रक्रिया को पूरा नहीं किया गया।

X
Patna News - accused of making fake medicine runs with two bodyguards
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना