• Home
  • Bihar
  • Patna
  • Patna - स्नातक में बची सीटों पर होगा स्पॉट एडमिशन
--Advertisement--

स्नातक में बची सीटों पर होगा स्पॉट एडमिशन

राज्य के 9 विश्वविद्यालयों में स्नातक कोर्स में बची सीटों पर अब स्पॉट एडमिशन होगा। 13 सितंबर को इसकी प्रक्रिया शुरू...

Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 04:45 AM IST
राज्य के 9 विश्वविद्यालयों में स्नातक कोर्स में बची सीटों पर अब स्पॉट एडमिशन होगा। 13 सितंबर को इसकी प्रक्रिया शुरू होगी। स्नातक में दाखिले के लिए बिहार बोर्ड ने 5 सितंबर को तीसरी व अंतिम सूची जारी की थी, इस आधार पर 11 सितंबर तक नामांकन प्रक्रिया चली। बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर ने बताया कि तीसरी सूची के आधार पर एडमिशन के बाद स्पॉट नामांकन की प्रक्रिया शुरू की जाएगी, जिसके माध्यम से विद्यार्थी संबंधित कॉलेज में रिक्त सीटों पर नामांकन ले पाएंगे। बोर्ड ने कहा है कि वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के कॉलेजों में जारी हड़ताल के कारण नामांकन प्रक्रिया बाधित है। अतः हड़ताल की समाप्ति के बाद उन कॉलेजों में स्नातक में नामांकन तृतीय सूची के आधार पर ही पूर्ण की जाएगी। इस विवि के कॉलेजों में स्पॉट नामांकन की तिथि की सूचना बाद में दी जाएगी।

ऐसे होगा नामांकन

वैसे स्टूडेंट्स जिनका चयन तीसरी सूची में नहीं हुआ है, वे 13 सितंबर को ओएफएसएस पोर्टल खोलकर विभिन्न कॉलेज में रिक्त सीटों की विवरणी देख लें। जिस कॉलेज में वे नामांकन लेना चाहते हैं, वहां संपर्क कर स्पॉट नामांकन की प्रक्रिया की जानकारी लेंगे। तृतीय सूची का नामांकन हो जाने के बाद रिक्त सीटों की संख्या 13 सितंबर को अपलोड की जाएगी। उसके आधार पर कॉलेजों में 13 से 17 सितंबर तक स्पॉट नामांकन के लिए आवेदन लिया जाएगा। इसके बाद कॉलेज आवेदनों की जांच कर 20 सितंबर को लिस्ट जारी करेंगे। उसके बाद छात्र 20 से 25 सितंबर के बीच में नामांकन लेंगे।

वैसे छात्र जिन्होंने एडमिशन लिस्ट में नाम आने के बाद भी नामांकन नहीं लिया है, वे दाखिले के लिए ओएफएसएस पोर्टल पर कॉलेजों में रिक्त सीटों को देख लें। जिस कॉलेज में वे नामांकन लेना चाहते हैं, वहां जाकर जानकारी ले लें। इसके अलावा वैसे विद्यार्थी, जिन्होंने अब तक ओएफएसएस से नामांकन के लिए आवेदन नहीं भरा है, वे पहले पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन स्पॉट नामांकन के लिए करा लें। 13 से 15 सितंबर तक रजिस्ट्रेशन कराकर ऑनलाइन आवेदन भर सकते हैं। इसके बाद वे जिन कॉलेजों में फाॅर्म जमा करना चाहते हैं, उसकी हस्ताक्षरित प्रति उन कॉलेजों में 13 से 17 सितंबर के बीच जमा कर दें। आवेदन जमा करने के बाद संबंधित कॉलेज स्पॉट नामांकन की सूची 20 सितंबर को जारी करेंगे। स्पॉट एडमिशन के लिए प्राचार्यों को भी व्यवस्था करने के निर्देश दिए गए हैं।

ये विद्यार्थी होंगे योग्य




सीट वृद्धि वाले संस्थान अब 13 तक कराएं रजिस्ट्रेशन

पटना|बिहार बोर्ड ने सीट वृद्धि वाले शिक्षण संस्थानों को रजिस्ट्रेशन के लिए 2 दिन का मौका और दिया है। बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर ने बताया कि जिन शिक्षण संस्थानों में सत्र 2017-19 के लिए सीट वृद्धि हुई है, उनके प्रधान को छात्रों का इंटर परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन एवं शुल्क बिना विलंब दंड 11 सितंबर तक ऑनलाइन भरना था, इसे दो दिन और बढ़ाया गया है। अब शिक्षण संस्थान छात्रों का रजिस्ट्रेशन 12-13 सितंबर तक विलंब दंड के साथ कर सकते हैं। फीस 14 से 16 सितंबर तक जमा होगी। ऐसे परीक्षार्थियों का डमी रजिस्ट्रेशन कार्ड बाद में जारी किया जाएगा।

रजिस्ट्रेशन में सुधार 15 तक : इंटर परीक्षा के लिए 30 अगस्त तक ऑनलाइन भरे गए रजिस्ट्रेशन फॉर्म के आधार पर डमी रजिस्ट्रेशन कार्ड बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड है। इसमें पहले 12 सितंबर तक सुधार का मौका दिया गया था। अब 15 सितंबर तक छात्र गड़बड़ियां सुधरवा सकते हैं।

मैट्रिक पास छात्रों को जल्द मिलेगी प्रोत्साहन राशि

पटना| मैट्रिक प्रथम श्रेणी से पास करनेवाले सामान्य कोटि के छात्रों को जल्द ही प्रोत्साहन राशि मिलेगी। विभाग ने इसके लिए 18 करोड़ 75 लाख 60 हजार रुपए स्वीकृत किए हैं। प्रति छात्र 10 हजार रुपए दिए जाते हैं। यह राशि उन छात्रों को दी जाएगी जिनकी वार्षिक पारिवारिक आय डेढ़ लाख रुपए तक है। छात्रों को प्लस 2 कक्षा में अध्ययनरत होने का प्रमाण भी देना होगा। छात्रों को आरटीजीएस के माध्यम से उनके खाते में राशि दी जाएगी। यह राशि उन्हीं को मिलेगी जिन्होंने परीक्षा पास कर 11वीं में नामांकन लिया है। बिहार बोर्ड की मैट्रिक परीक्षा में इस श्रेणी में 18756 छात्रों ने फर्स्ट डिविजन से पास किया है। इनमें अल्पसंख्यक छात्र भी हैं। पटना जिले में इस श्रेणी के 767 विद्यार्थी हैं। वहीं, प्रथम श्रेणी से मैट्रिक परीक्षा पास करने वाली सामान्य कोटि और पिछड़ा वर्ग की छात्राओं के लिए भी प्रोत्साहन राशि स्वीकृत हो गई है। सामान्य कोटि की 14654 जबकि पिछड़ा वर्ग बीसी 2 की 24369 छात्राएं हैं। इनके लिए 39 करोड़ दो लाख 30 हजार रुपए स्वीकृत किए गए हैं।