--Advertisement--

प्रदर्शन / पटना समेत पूरे बिहार में जगह-जगह ट्रेनें रोकीं, वाहनों में तोड़फोड़, 678 बंद समर्थक गिरफ्तार

पटना समेत पूरे बिहार में भारत बंद का व्यापक असर देखने को मिला। कई जगह बवाल हुहा, इससे लोग परेशान रहे।

बंद के दौरान बस में हुई तोड़फोड़ बंद के दौरान बस में हुई तोड़फोड़
  • भारत बंद, पेट्रोल-डीजल के बढ़ रहे दामों के खिलाफ सड़कों पर उतरे 21 विपक्षी दल
Danik Bhaskar | Sep 11, 2018, 02:21 AM IST

सरकार झुकने तैयार नहीं

पेट्रोल-डीजल की लगातार बढ़ती कीमतों के विरोध में सोमवार को कांग्रेस के नेतृत्व में 21 विपक्षी दल सड़कों पर उतरे। बिहार समेत विभिन्न राज्यों में भारत बंद का मिला-जुला असर रहा। बंद समर्थकों ने पटना समेत पूरे प्रदेश में जगह-जगह ट्रेनें रोकीं, पथराव किया और वाहनों में तोड़फोड़ की। इस दौरान बाजार लगभग बंद ही रहे। पुलिस मुख्यालय के मुताबिक बंद के दौरान कुल 678 गिरफ्तारियां हुईं। इन सभी लोगों को बाद में रिहा कर दिया गया। सबसे अधिक पटना में 219 बंद समर्थक पकड़े गए।
बंद के कारण बिहार के साथ-साथ असम, अरुणाचल प्रदेश, तेलंगाना, केरल, कर्नाटक, आंध्रप्रदेश, पुड्‌डुचेरी, ओडिशा, महाराष्ट्र में भी जनजीवन प्रभावित रहा। कुछ राज्यों में दफ्तर और शैक्षणिक संस्थान भी बंद रहे। हालांकि, इसके बावजूद पेट्रोल-डीजल की कीमतों से फिलहाल राहत के आसार नहीं हैं। केंद्र सरकार और कुछ राज्य एक्साइज और वैट घटाने से इनकार कर दिया है। 

 

 

जहानाबाद में अस्पताल नहीं पहुंच पाई बीमार बच्ची, मौत

जहानाबाद | बंद की वजह से गया के बाला बिगहा गांव की दो वर्षीय मासूम गौरी की सही समय से इलाज नहीं होने से मौत हो गई। बच्ची के पिता प्रमोद मांझी ने बताया कि सुबह में कोई वाहन नहीं मिल रहा था। गांव से कई किलोमीटर की दूरी पैदल तय करते हुए नदी पार कर पाई बिगहा पहुंचा। वहां बहुत मुश्किल से एक ऑटो का जुगाड़ हुआ। लेकिन जहानाबाद पहुंचते-पहुंचते गौरी ने दम तोड़ दिया। फिर भी उसे ऐसा लग रहा था कि शायद अस्पताल पहुंचने पर उसकी सांसें वापस आ जाएंगी। लेकिन, जहानाबाद अस्पताल मोड़ के पास बंद समर्थकों ने ऑटो को रोक दिया और अस्पताल नहीं पहुंचा सका।

 

--Advertisement--